.

ajakscg : डॉ. भीमराव आंबेडकर ज्ञान केंद्र के अनवरत सफल संचालन के लिए अधिकारी-कर्मचारियों ने की स्वस्फूर्त सहयोग करने की घोषणा….

ajakscg :

 

ajakscg : बिलासपुर | [छत्तीसगढ़ बुलेटिन] | ऑनलाइन बुलेटिन : अजाक्स (www.ajakscg.in) द्वारा डॉ. आंबेडकर ज्ञान केंद्र अंतर्गत निर्धन प्रतिभावान विद्वार्थियों के लिए संचालित नि:शुल्क कोचिंग के सुचारू रूप से संचालन के लिए एक आवश्यक बैठक का आयोजन रविवार को किया गया। अजाक्स  अंतर्गत डॉ. आंबेडकर ज्ञान केंद्र अंतर्गत संचालित नि:शुल्क कोचिंग के सुचारू रूप से संचालन व अध्ययन करने आ रहे विद्यार्थियों के लिए ग्रंथालय सहित विभिन्न संसाधनों की व्यवस्था पर आम चर्चा के लिए ओपन मीटिंग का आयोजन अभियंता भवन, एकता ब्लड बैंक के पास मगर पारा रोड़ बिलासपुर में किया गया। (ajakscg)

बैठक के दौरान गजेंद्र बंजारा जी द्वारा अपनी पत्नी की स्मृति में 51 हजार रुपए ग्रंथालय निर्माण के लिए देने की घोषणा की गई। इसके साथ ही उनके द्वारा प्रतिवर्ष 21 हजार रूपए आजाीवन सहयोग देने की बड़ी घोषणा की। जिनका उपस्थित जनों ने तालियों की गड़गड़ाहट से स्वगत किया गया।

बैठक में सर्व समाज के बुद्धिजीवी बड़ी संख्या में शामिल हुए और उन्होंने अपने-अपने विचार रखे। बैठक में अजाक्स (www.ajakscg.in) प्रांताध्यक्ष डॉ. लक्ष्मण भारती ने बैठक को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज मैं कोई भी भाषण नहीं दूंगा। क्योंकि बचपने से जब से संघर्ष करते करते की बदौलत हमने प्रदेश में बहुत सारे लोगों को देखा, किसी ने कहा मुझे राजनीति करना है मुझे सहयोग कीजिए; राजनीति में सहयोग किए, किसी ने कहा मुझे समाज सेवा करना है मुझे सहयोग कीजिए, हमने समाज सेवा में सहयोग किया।

कोई बोला मुझे शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ना है यथा संभव हमने सहयोग किया। लेकिन हर जगह हमें धोखा मिला है। जो आज समाज सेवा के क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए आए हैं और जिनको हमने सामाजिक रूप से सहयोग किया और कहा कि आप बेहतर कर सकते हो, हम आपके पीछे चलेंगे। और मुझे लगता है आज भी मेरी निगाहे तरस रही है कि क्या उन्होंने सही रूप से जिस क्षेत्र को चुना किया क्या वे क्षेत्र में बेहतर काम कर पाए। हम बोले ये राजनेता आ जाएगा तो समाज को शिक्षा के लिए मदद करेगा, जो-जो राजनेता आगे गया उसके बाद हमने जो जो सोचा उसके सारे दरवाजे उसने बंद कर दिए। उसने दरवाजा खोला तो अपने परिवार के लिए। यहां पर भी हम धोखा खा गए।

कर्मचारियों का एक मुखिया होने के नाते मैंने पूरा प्रदेश का दौरा किया। हमें लगता है कि राजनेता बनाने से, सरपंच बनने से, पंच बनने से, विधायक बनने से, सांसद बनने से ज्यादा जरूरी है कि समाज को शिक्षित बनाओ, उन्हें काबिल बनाओ। और वे अपने क्षेत्र चुनेंगे। जज साहब ने अभी बच्चों से पूछा कि आप जीवन में क्या बनना चाहते हो तो किसी बच्चे ने कहा मैं शिक्षक बनना चाहता हू, किसी ने कहा मैं डिप्टी कलेक्टर बनना चाहता हूं, किसी ने अधिकारी बनने, डॉक्टर, इंजीनियर बनने की बात कही लेकिन किसी भी एक बच्चे ने ये नहीं कहा कि मैं पढ़ लिखकर कृषक (एग्रीकल्चरर) बनना चाहता हूं और ना किसी ने ये कहा कि मैं पढ़ लिखकर बहुत अच्छा व्यावसायी बनना चाहता हूं और समाज मे नाम कमाना चाहता हूं। और समाज में काम करना चाहता हूं। दो सबसे बेहतर क्षेत्र है। जिसमें बहुत अपॉर्च्युनिटी है उन सब क्षेत्रों को हम छोड़ देते हैं। आप कृषक क्यों नहीं बनना चाहते?

आने वाले समय में याद रखना ये जो सोने-चांदी के इंड्रस्ट्री चला रहे हैं उनहें खाने के लिए आपसे अन्न की जरूरत पड़ेगी। तब आपको इसके महत्व का पता चलेगा। पढ़ लिखकर उन्न्त कृषि करने, वैज्ञानिक बनकर उन्न्त तकनीक विकसित करने ऐसा किसी ने नहीं सोचा। वर्ष 2011-12 में अजा समाज के 80 प्रतिशत के पास जमीन नहीं थी। लेकिन आज के समय मैं समझता हूं कि अनुसूचित जाति समाज के 95 प्रतिशत के पास जमीन नहीं है। आज कोई कृषि का काम नहीं करना चाहता। जो बड़े बड़े व्यापारी है, उनके बड़े बड़े फार्म हाऊस है। जिन्होंने कभी हल नहीं चलाया उनके पास बड़ी बडी कृषि भूमि है। कृषि योजना का लाभ सबसे ज्यादा वे लोग ले रहे हैं जिनक बाप दादा ने कभी हल नहीं चलाया। (www.ajakscg.in)

जब हम आए यहां पर तब साढ़े चार लाख रेगुलर पद स्वीकृत थे आज वो लगभग तीन लाख पचहत्तर हजार के आसपास आते हैं। इन सारे पदों को या तो ड्राइ कैडर घोषित कर दिया या फिर खत्म कर दिया। जबकि इन्हें बढ़ना था। सिर्फ एससी एसटी के लिए नहीं। सभी लोगों के लिए। अब आपके पास कितना पद है। पद कम है तो काम्पीटिशन भी अधिक होगा। ये आप लोगों को तय करना है। एक अनार सौ बीमार नहीं अब एक पद और एक लाख दावेदार हैं। एक लाख के बीच में आपको चुनौति देना है।

और एक लाख के बीच आपको एक सीट के लिए चुनौति देना है तो आपको इसके लिए तैयार होना होगा। आप यहा आए हो तो ऐसा नहीं है कि कोई भी बच्चा यहां से खाली हाथ जाएगा। ऐसा नहीं है। कोई भी बच्चा यहां से खाली हाथ नहीं जाएगा ये मेरा आप लोगों से वादा है। सर्विस में नहीं जाओगे तो सफल व्यावसायी बनोंगे। और सफल व्यावसायी भी नहीं रहे तो सफल कृषक जरूर बनोगे। खाली हाथ हम आपको यहां से विदा नहीं करेगे। जो जिस स्तर पर जाना चाहेगा हम उसे उस स्तर पर लायक बनाएंगे। डॉ. भारती ने आगे और क्या कहा यहां नीचे वीडियो में सुनिए…(ajakscg)

देखें वीडियो:

 

बैठक में अधिकारी-कर्मचारी, समाजसेवी, पदाधिकारी गणों में अजाक्स प्रांताध्यक्ष डॉ. लक्ष्मण भारती, मजिस्ट्रेट एसएल मात्रे, अजाक्स प्रांतीय संगठन सचिव जीतेन्द्र पाटले, अजाक्स संयुक्त सचिव आरपी गंधर्व, तीज राम कंवर रायपुर, राज जी रायपुर, एबीओ शिवराम टंडन, इंजी. शिव टंडन, इंजी. रवि मिलन, इंजी. विन्द्रा प्रसाद, इंजी. शैलेन्द खांडे, प्रो. डॉ. यशपाल निराला, एड. नसीरुद्दीन अंसारी, डॉ. केदार अनंत, कुलदीप जांगड़े, कमलेश खांडे, प्रकाश मनहर, भूपेंद्र बौद्ध, चंद्रप्रकाश चेलक, आत्माराम राठिया, जीके कबीर, डॉ. मोहन शेंडे, रामप्रताप सिंह गहिरे, कवि एवं संगीतकार उमेश सिहोते, कोचिंग शिक्षक ओमप्रकाश बघेल, सचिन खुदशाह सहित बड़ी संख्या में डॉ. आंबेडकर ज्ञान केन्द्र कोचिंग संस्थान में निःशुल्क शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों एवं उनके अभिभावक व पालक उपस्थित रहे।(ajakscg)

 

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं।(ajakscg)

97552 31501

93994 06548

या वेबसाइट www.ajakscg.in पर जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

 

 

🔥 सोशल मीडिया

फेसबुक पेज में जुड़ने के लिए क्लिक करें

https://www.facebook.com/onlinebulletindotin

व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़ने के लिए क्लिक करें

https://chat.whatsapp.com/Cj1zs5ocireHsUffFGTSld

 

ONLINE bulletin dot। n में प्रतिदिन सरकारी नौकरी, सरकारी योजनाएं, परीक्षा पाठ्यक्रम, समय सारिणी, परीक्षा परिणाम, सम-सामयिक विषयों और कई अन्य के लिए onlinebulletin.in का अनुसरण करते रहें.

 

🔥 अगर आपका कोई भाई, दोस्त या रिलेटिव ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन में प्रकाशित किए जाने वाले सरकारी भर्तियों के लिए एलिजिबल है तो उन तक onlinebulletin.in को जरूर पहुंचाएं।


Back to top button