.

CBSE : भोपाल रीजन के सीबीएसई 10वीं का परिणाम 90.58 प्रतिशत और 12वीं का 87.33 प्रतिशत रहा

भोपाल
केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 10वीं और 12वीं का रिजल्ट घोषित कर दिया है। 12वीं में अजमेर रीजन का रिजल्ट 89.53 प्रतिशत रहा है। अजमेर रीजन का देश में 10वां स्थान है। वहीं 12वीं का रिजल्ट जारी होने के करीब 2 घंटे बाद 10वीं का भी रिजल्ट जारी।

राजधानी भोपाल में 10वीं व 12वीं में करीब 15 हजार विद्यार्थी शामिल हुए हैं।12वीं में छह हजार तो 10वीं में सात हजार विद्यार्थी शामिल हुए हैं। इस साल भोपाल रीजन के 10वीं का 90.58 प्रतिशत रहा,जबकि पिछले साल 93.12 फीसद विद्यार्थी पास हुए थे।इस साल 10वीं का परिणाम 2.59 प्रतिशत कम परिणाम रहा। वहीं इस साल भोपाल रीजन 12वीं का परिणाम 82.46 प्रतिशत परिणाम रहा, जबकि पिछले साल 87.33 प्रतिशत रहा था, यानी इस साल 4.87 प्रतिशत कम परिणाम रहा।इसमें केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-1 में 152 विद्यार्थी 12वीं की परीक्षा में शामिल हुए थे।इसमें 20 विद्यार्थियों ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल किए हैं।वहीं 64 विद्यार्थियें ने 75 से 90 प्रतिशत तक अंक हासिल किए हैं।इसमें कला संकाय की कविका शर्मा ने 96.2 प्रतिशत अंक लाकर केंद्रीय विद्यालय की टापर बनी हैं।वहीं विज्ञान संकाय में यशस्वी तिवारी 95.2 प्रतिशत अंक लाकर सेकेंड टापर बनें हैं।वहीं कामर्स संकाय में छात्रा डाली छीपा 93.8 प्रतिशत अंक लाकर थर्ड टापर बने हैं।बता दें कि 10वीं व 12वीं की परीक्षा फरवरी से मार्च तक आयोजित की गई थी।

कविका शर्मा 96.2% प्रतिशत

केंद्रीय विद्यालय क्रमांक 1 की छात्रा कविका शर्मा 96.2% प्रतिशत लाकर टॉपर बनी हैं। कविका का कहना है कि इंटरनेट मीडिया से दूरी बनाई लेकिन आनलाइन स्टडी में इंटरनेट का उपयोग किया। हर रोज 5 से 6 घंटे की लगातार पढ़ाई कर सेल्फ स्टडी और कांसेप्ट क्लियर कर सफलता पाई।

सभी 17 रीजन का रिजल्ट 93.60 प्रतिशत रहा। पिछली बार से रिजल्ट 0.48 प्रतिशत अधिक है। इस बार भी लड़कियों ने बाजी मारी है। इस बार 92.71 छात्र और 94.75 छात्राएं पास हुए है। सबसे ज्यादा रिजल्ट त्रिवेंद्रम रीजन का रहा है। यहां पर 99.75 प्रतिशत बच्चे पास हुए। दिल्ली ईस्ट रीजन में 94.45 प्रतिशत और दिल्ली वेस्ट रीजन में रिजल्ट 94.18 प्रतिशत रहा।

वहीं, भोपाल रीजन में गर्वमेंट स्कूल का रिजल्ट 74.21 प्रतिशत, इंडीपेंडेंट स्कूल का 91.03 प्रतिशत, जेएनवी का 99.29 प्रतिशत और केंद्रीय विद्यालय का 98.25 प्रतिशत रिजल्ट रहा। कैटेगिरी के अनुसार मध्य प्रदेश में सामान्य कैटेगिरी के 93.97प्रतिशत, अनुसूचित जाति के 89.43 प्रतिशत, अनुसूचित जनजाति के 77.79 प्रतिशत और अन्य पिछड़ा वर्ग के 89.82 प्रतिशत बच्चे पास हुए।


Back to top button