.

मणिपुर के कलाकारों ने खरिमखरा नृत्य से दिखाया झूम खेती की तैयारी का दृश्य, इसे कहा जाता है डांस आफ लाइवलीहुड | ऑनलाइन बुलेटिन

रायपुर | [धर्मेंद्र गायकवाड़] |  मणिपुर के कलाकारों ने प्रस्तुत किया खरिमखरा नृत्य : जनजातीय क्षेत्रों में झूम खेती होती थी। झाड़ियों को आग लगाकर साफ किया जाता था और खेती की जमीन तैयार होती थी। यह पूरी प्रक्रिया श्रमसाध्य थी लेकिन उत्सव का प्रतीक भी थी क्योंकि खेती ही लाइवलीहुड का अवसर प्रदान करती थी। राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव ने मणिपुर के कलाकारों ने खरिमखरा नृत्य के माध्यम से झूम खेती की तैयारी को सजीव किया। इसे डांस आफ लाइवलीहुड भी कहा जाता है।

 

नृत्य में दिखाया गया कि कैसे खेती के लिए उपयोगी जमीन चिन्हांकित होती थी, फिर इसे तैयार किया जाता था और बीज रोपा जाता था। इस पूरी प्रक्रिया को खरिमखरा नामक सुंदर नृत्य से मणिपुर के लोककलाकारों ने प्रस्तुत किया। यह खुखरई जिले के निवासी हैं।

 

नृत्य की खास विशेषता है कि इसमें घुटने में पहने हुए आभूषणों से तालबद्ध धुन निकलती है। स्टेप्स जितने सटीक बैठते हैं आभूषण से निकलने वाली धुन भी उतनी ही सटीक होती है। खरिमखरा नृत्य कृषि संस्कृति का उत्सव है और अपने श्रम के माध्यम से जमीन तैयार करने का अद्भुत उत्साह भी इससे झलकता है जो नृत्य रूप में और भी आकर्षक हो जाता है।

 

ये भी पढ़ें :

पारंपरिक विवाह समारोहों की सुंदरता को दिखाने वाला बल्की नृत्य, वर और वधु पक्ष के वाद्ययंत्रों से दर्शकों ने जाना लद्दाख की लोक परंपराओं की खूबसूरती | ऑनलाइन बुलेटिन

राज्य सरकार के सभी कर्मचारी, पत्रकार और वकीलों तथा उनके परिजनों को भी फ्रंट लाईन वर्कर के समान टीकाकरण में मिलेगी प्राथमिकता | Newsforum
READ

Related Articles

Back to top button