.

जोनल स्टेशन में अधूरा रह गया ब्रिज, करना होगा अभी और इंतजार jonal steshan mein adhoora rah gaya brij, karana hoga abhee aur intajaar

बिलासपुर | [छत्तीसगढ़ बुलेटिन] | रेलवे स्टेशन में निर्माणाधीन फुट ओवरब्रिज का काम ब्लॉक् नही मिलने के कारण अटक गया है। गजरा चौक से साई मंदिर पार्सल आफिस तक निर्माणाधीन ब्रिज यात्रियों के लिए नहीं, बल्कि आम लोगों के लिए बनाया जा रहा है। केवल एक हिस्से में गर्डर चढ़ाने का काम बचा हुआ है। इसके पूरा होने के बाद ब्रिज दोनों तरफ से जुड़ जाएगा।

 

यह ब्रिज स्टेशन के दोनों तरफ के हिस्से को जोड़ेगा जिससे पैदल चलने वाले आसानी से आवाजाही कर सकेंगे। यह महत्वपूर्ण सुविधा है और जब इसका निर्माण प्रारंभ हुआ था, लोगों में उत्साह था और यही सोच रहे थे अब अंडरब्रिज या चुचुहियापारा ओवरब्रिज से घूमकर नहीं जाना पड़ेगा।

 

दरअसल प्लेटफार्म नंबर एक व दो-तीन के ऊपर हिस्से में गर्डर चढ़ाना बाकी है। पर यह काम बिना ब्लाक के कतई संभव नहीं है। ऐसा नहीं है कि ब्लाक को लेकर दिक्कत है। दरअसल माललदान के कारण आपरेटिंग विभाग इंजीनियरिंग विभाग को ब्लाक नहीं दे रहा है। इंजीनियरिंग विभाग की तैयारी पूरी है।

 

जिस दिन ब्लाक मिला उस दिन तीन से चार घंटे का ब्लाक लेकर गर्डर लाचिंग कर दिया जाएगा। पर अब तक इसे लेकर कोई तैयारी नहीं है। अधूरे ब्रिज की वजह से रेलवे स्टेशन की सुंदरता भी प्रभावित हो रही है। अचानक देखने से अधूरा ब्रिज ऐसा लगता है मानों हाल ही में यह टूटकर गिर गया है।

 

 

Bridge left incomplete in zonal station, will have to wait more

 

Bilaspur | [Chhattisgarh Bulletin] | The work of the under-construction foot overbridge in the railway station has been stuck due to non-availability of blocks. The bridge under construction from Gajra Chowk to Sai Mandir parcel office is not being built for the passengers, but for the common people. Only one part of the girder is left to be erected. After its completion, the bridge will be connected on both sides.

 

This bridge will connect the two sides of the station so that pedestrians will be able to move easily. This is an important facility and when its construction started, people were enthusiastic and thinking that now one will not have to walk through the underbridge or Chuchuhiapara overbridge.

 

Actually, the girder is yet to be erected in the above part of platform number one and two-three. But this work is not possible at all without blocks. Not that there is a problem with the block. In fact, the operating department is not giving the block to the engineering department due to goods shipments. The preparation of engineering department is complete.

 

On the day the block is received, girder launching will be done by taking a block of three to four hours. But till now there is no preparation for this. The beauty of the railway station is also being affected due to the incomplete bridge. Suddenly, the unfinished bridge looks as if it has broken down recently.

 

 

©बिलासपुर से अनिल बघेल की रपट

 

 

 

मारो अध्यक्ष परमेश्वर मिरी ने खंभा तुरंत बदलने दिया आदेश maaro adhyaksh parameshvar miree ne khambha turant badalane diya aadesh

 

 

Related Articles

Back to top button