.

कलेक्टर कार्यालय से 2 किमी दूर हाथियों का झुंड, 10 गांवों में अलर्ट, दंतैल ने मकान तोड़ा kalektar kaaryaalay se 2 kimee door haathiyon ka jhund, 10 gaanvon mein alart, dantail ne makaan toda

रायपुर | [छत्तीसगढ़ बुलेटिन] | राज्य में हाथियों का उत्पात लगातार जारी है। बिलासपुर व सरगुजा संभाग में हाथी लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं। अब छत्तीसगढ के दुर्ग संभाग अंतर्गत आने वाले बालोद जिले में 24 हाथियों का दल पहुंच गया है। हाथियों ने रविवार की रात बालोद वन परिक्षेत्र के तालगांव में उत्पात मचाया। इसके साथ ही एक घर को भी तोड़ दिया है। घर के लोगों ने भागकर अपनी जान बचाई। हाथियों का दल अभी कलेक्टोरेट कार्यालय से महज 2 किमी की दूरी पर मौजूद है। वन विभाग ने 10 से ज्यादा गांवों में मुनादी कराई है। हाथियों की मौजूदगी वाले स्थानों से दूर रहने कहा गया है। वन कर्मचारी हाथियों की निगरानी में लगे हैं।

 

डीएफओ आयुष जैन ने बताया कि बालोद जिले में हाथियों ने डेरा डाला हुआ है। बालोद वन परिक्षेत्र में चंदा हाथियों का दल विचरण कर रहा है, जिसमें 24 हाथी हैं। हाथियों ने तालगांव के रहने वाले राधेलाल का कच्चा मकान तोड़ दिया। हाथियों की वजह से गांवों में दहशत है। वन विभाग के कर्मचारियों रात-दिन निगरानी में लगे हुए हैं।

 

नर्रा, धरमपुरा तालगांव, रानीमाई मंदिर, नहरडेरा, साल्हेटोला, मटिया, सेमरकोना, अंधियाटोला, देवारभाट में हाथियों की उपस्थिति को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। ग्रामीणों को स्कूलों में शिफ्ट किया गया है। साथ ही अलर्ट रहने भी कहा गया है। इधर हाथियों के अचानक गांवों में आने से लोग दहशत में आ गए हैं। एक वीडियो भी वायरल हुआ है, जिसमें हाथियों को देख कर लोग बिजली के टावर पर चढ़ गए।

 

 

जीएन गोल्ड कंपनी के ठग पति-पत्नी गिरफ्तार : लोगों से कराया निवेश और हो गए फरार, 18 तोला सोना व 1 लाख बरामद l ऑनलाइन बुलेटिन
READ

सियादेवी मार्ग को बंद किया गया

 

हाथियों की मौजूदगी की वजह से सियादेवी मार्ग को ब्लॉक कर दिया गया है। सियादेवी मंदिर जाने वाले मार्ग के आसपास ही हाथियों ने अपना डेरा डाला हुआ है। वन विभाग की टीम लगातार निगरानी कर रही है। वन विभाग ने पहले ही तालगांव, आदमाबाद विश्राम गृह, संयुक्त जिला कार्यालय, रक्षित आरक्षी केंद्र, झलमला, सिवनी, देऊरतराई, सेमरकोना, अंधियाटोला, देवारभाट व गस्तीटोला गांव के लोगों को अलर्ट किया हुआ है।

 

डीएफओ आयुष जैन ने बताया कि हाथियों का दल कलेक्टोरेट से महज 2 किमी की दूरी पर है। हाथियों का दल शहर में प्रवेश करता है तो परेशानी हो सकती है।

 

 

 

 

Herd of elephants 2 km away from the collector’s office, alert in 10 villages, Dantail broke the house

 

 

Raipur | [Chhattisgarh Bulletin] | Elephant poaching continues in the state. Elephants are continuously causing damage in Bilaspur and Surguja divisions. Now a team of 24 elephants has reached Balod district which comes under Durg division of Chhattisgarh. Elephants created a ruckus in Talgaon of Balod forest range on Sunday night. Along with this, a house has also been demolished. The people of the house saved their lives by running away. The elephant group is presently just 2 km away from the collectorate office. The Forest Department has done Munadi in more than 10 villages. They have been asked to stay away from places where elephants are present. Forest workers are engaged in monitoring the elephants.

 

DFO Ayush Jain said that elephants have camped in Balod district. A group of Chanda elephants is roaming in the Balod forest range, in which there are 24 elephants. The elephants broke the kutcha house of Radhelal, a resident of Talgaon. There is panic in the villages because of elephants. The employees of the Forest Department are engaged in surveillance day and night.

हिजाब पर CM भूपेश बघेल बोले- जिन लोगों ने इसकी शुरुआत की उन्हें अंजाम भुगतना पड़ेगा l ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

An alert has been issued in view of the presence of elephants in Narra, Dharampura Talgaon, Ranimai Temple, Nahardera, Salhetola, Matia, Semarkona, Andhiatola, Devarbhat. Villagers have been shifted to schools. Along with this, it has also been told to be alert. Here people have come in panic due to the sudden arrival of elephants in the villages. A video has also gone viral, in which people climbed the electric tower after seeing the elephants.

 

 

 Siyadevi road closed

 

Siyadevi Marg has been blocked due to the presence of elephants. The elephants have camped around the road leading to the Siyadevi temple. The forest department team is continuously monitoring. The Forest Department has already alerted the people of Talgaon, Adamabad Rest House, Joint District Office, Protected Reserve Center, Jhalmala, Seoni, Deortarai, Semarkona, Andhiatola, Devarbhat and Gastitola villages.

 

DFO Ayush Jain said that the elephant group is just 2 km away from the collectorate. If a group of elephants enters the city, there can be trouble.

 

 

 

 

©नवागढ़ मारो से धर्मेंद्र गायकवाड़ की रपट 

उत्तरी छत्तीसगढ़ में 4.6 तीव्रता के भूकंप के झटके, रहा कुछ सेकेंड ही असर uttaree chhatteesagadh mein 4.6 teevrata ke bhookamp ke jhatake, raha kuchh sekend hee asar

Related Articles

Back to top button