.

नर्तकी के साथ नाचती है लौ, नर्तक अपने सिर पर सुसज्जित करते हैं बोतल पर दीपक, फिर शुरू होता है लोक नृत्य होजागीरी | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

रायपुर | [धर्मेंद्र गायकवाड़] | कल्पना कीजिए। दो कलशों में एक महिला अपना संतुलन बनाकर लेटी है और इसके ऊपर एक महिला नृत्यरत है। इस महिला के ऊपर एक बोतल है। बोतल में एक दीपक है जो जल रहा है। इस नृत्य के संतुलन को महसूस करना ही कठिन है लेकिन इस संतुलन को निभाते हुए शानदार नृत्य प्रदर्शन त्रिपुरा की लोककलाकारों ने राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में किया। होजागीरी नृत्य को जिसने भी देखा, संतुलन और नृत्य कला की तारीफ करने से नहीं चूका।

 

होजागीरी त्रिपुरा में दीपावली मनाने का खास नृत्य है। लोग घरों में तो दीये जलाते हैं लेकिन दीवाली जैसे बड़े त्योहार का आनंद और भी बेहतर तरीके से लिया जा सकता है इसके लिए वे होजागीरी करते हैं। इस नृत्य में लोककलाकार अपने सिर पर बोतल रखते हैं और इस पर दीया जलाते हैं। सूपा पर भी वे ऐसा ही करते हैं।

 

होजागीरी नृत्य के माध्यम से हमारी लोकसंस्कृति की सुंदर झलक मिलती है। इसमें स्थानीय उपयोग की वस्तुएं हैं और कलाकार का शानदार शारीरिक संतुलन है जिससे वो अपने नृत्य को साधते हैं। यही नहीं उनके हाथों में दो थालियां भी होती है। इसके साथ ही वेशभूषा भी बड़ी सुंदर है जो त्रिपुरा की खास संस्कृति को बताती है।

 

छत्तीसगढ़ में राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के माध्यम से एक मंच पर राज्य सरकार देश भर में बिखरे लोकसंस्कृति के रंग दिखा रही है।

 

ये भी पढ़ें :

राष्ट्रीय नृत्य महोत्सव में आए तेलंगाना के कलाकार बोले- आदिवासियों को पहली बार मिला इतना बड़ा मंच | ऑनलाइन बुलेटिन

सर जॉन मार्शल...आपने भगवान बुद्ध की धम्म विरासत और सम्राट अशोक की सांची का उत्खनन कर, पुनर्जीवित कर जगत पर बड़ा उपकार किया है. आप महान थे. हम आपके कृतज्ञ हैं | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन
READ

Related Articles

Back to top button