.

शरीर पर है टैटू तो पुलिस समेत केंद्रीय बलों में नहीं मिलेगी नौकरी shareer par hai taitoo to pulis samet kendreey balon mein nahin milegee naukaree

नई दिल्ली | [कोर्ट बुलेटिन] | दिल्ली पुलिस सहित किसी भी केंद्रीय सशस्त्रत्त् सैन्य बलों में नौकरी पाने की तैयारी कर रहे हैं तो शरीर पर टैटू नहीं बनवाएं अन्यथा शारीरिक और लिखित परीक्षा में सफल होने के बाद भी नौकरी पाने से वंचित रह जाएंगे। ऐसे ही एक मामले में दिल्ली पुलिस और केंद्रीय सशस्त्रत्त् पुलिस बल परीक्षा, 2020 में सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा में सफल होने के बाद भी युवक को नौकरी नहीं मिली।

 

उच्च न्यायालय ने सर्जरी के जरिए हाथ पर बने टैटू को हटवाने के बाद केंद्र सरकार को युवक को नौकरी देने पर विचार करने का निर्देश दिया है। जस्टिस सुरेश कुमार कैत और सौरभ बनर्जी की पीठ ने प्रदीप की उस याचिका का निपटारा करते हुए यह आदेश दिया है, जिसमें उसने शरीर पर टैटू होने के चलते नौकरी नहीं दिए जाने को चुनौती दी थी। न्यायालय ने कहा है कि सर्जरी के जरिए टैटू हटाकर दो सप्ताह के भीतर मेडिकल बोर्ड में पेश होने की स्वतंत्रता दे दी।

 

यह मामला है?

 

प्रदीप ने सब-इंस्पेक्टर के पद के लिए 2020 में भर्ती में आवेदन किया था। परीक्षा में वह पास हो गया। लेकिन दांये हाथ पर बने टैटू की वजह से उसे नौकरी नहीं मिली। इसके बाद प्रदीप ने उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल कर 21 और 22 अप्रैल, 2022 के मेडिकल बोर्ड की फिटनेस रिपोर्ट को मनमाना, अनुचित और गैर कानूनी बताते हुए रद्द करने और दोबारा से मेडिकल बोर्ड बनाने का आदेश देने की मांग की थी। रिपोर्ट में टैटू के चलते उसे मेडिकल रूप से नौकरी के लिए अनफिट करार दिया गया था।

 

क्या है नीति

 

सब-इंस्पेक्टर के पद के लिए 2020 में भर्ती परीक्षा की शर्त -11.12 के तहत आवेदक के शरीर पर टैटू होने की स्थिति में नौकरी नहीं देने का प्रावधान है।

 

 

If there is a tattoo on the body, then you will not get a job in the central forces including the police

 

New Delhi | [Court Bulletin] | If you are preparing to get a job in any Central Armed Armed Forces including Delhi Police, then do not get tattoo on the body, otherwise even after successful in physical and written examination, you will be deprived of getting a job. In one such case, the youth did not get a job even after passing the examination of sub-inspector in Delhi Police and Central Armed Police Forces Examination, 2020.

 

The High Court has directed the Central Government to consider giving a job to the youth after the tattoo made on his hand is removed through surgery. A bench of Justices Suresh Kumar Kait and Saurabh Banerjee gave this order while disposing of Pradeep’s petition, in which he had challenged not to be given a job due to tattoo on his body. The court has said that removing the tattoo through surgery gave him freedom to appear before the medical board within two weeks.

 

 it is a matter?

 

Pradeep had applied in the recruitment in 2020 for the post of Sub-Inspector. He passed in the exam. But due to the tattoo made on the right hand, he did not get the job. After this, Pradeep had filed a petition in the High Court seeking quashing of the medical board’s fitness report dated April 21 and 22, 2022, as arbitrary, unfair and illegal and to order the formation of the medical board again. In the report, he was declared medically unfit for the job because of the tattoo.

 

 What is the policy

 

Under the condition-11.12 of the recruitment examination in 2020 for the post of sub-inspector, there is a provision of not giving job in case of tattoo on the body of the applicant.

 

 

ससुर ने किया रेप, गर्भपात की दें इजाजत; कोर्ट ने कहा – शपथ पत्र दीजिए sasur ne kiya rep, garbhapaat kee den ijaajat; kort ne kaha – shapath patr deejie

 

Related Articles

Back to top button