.

कवर्धा हादसे के बाद भी पिकअप में मंत्रियों और अधिकारियों की नाक के नीचे ढो रहे सवारी

कबीरधाम.

छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले में 20 मई को हुए दर्दनाक हादसे से पूरा प्रदेश दहल उठा था। मौके पर भयावह मंजर को देखकर परिजन भी कांप उठे थे। अपनों को खोजने के लिए वहां पर चीख-पुकार मच गई थी। सूचना के काफी देर बाद प्रशासन घटना स्थल पर पहुंचा, तब तक कई लोग काल के गाल में समा चुके थे। कुल 19 लोगों की मौत हुई थी। इसमें 15 लोगों की मौके पर मौत हो गई और 4 लोग इलाज के दौरान दम तोड़ दिये। वहीं चार लोग गंभीर रुप से घायल हुए थे।

21 मई को ग्राम बाहपानी में एक ही चिता पर 17 लोगों की लाशें जलाई गईं। वहीं दो लोगों को उनके ससुराल (एक का ग्राम दर्दी और एक का ग्राम सिंघरी) में अंतिम संस्कार किया गया। एक ही चिता पर जलती 17 लाशों को देखकर सबकी आंखें नम हो गईं। इस भीषण सड़क हादसे को लेकर पड़ताल की तो पाया कि मालवाहक वाहन पिकअप में बेधड़क सवारी ढोया जा रहा है। प्रशासन की नाक के नीचे से ये वाहन खुलेआम दौड़ रहे हैं और कार्रवाई के नाम पर प्रशासन मौन है।

कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति
आमतौर पर पिकअप में केवल सामान ढोया जाता है, लेकिन छत्तीसगढ़ में इसका इस्तेमाल सवारी ढोने में किया जा रहा है। गांवों में ये खुलेआम चलते हैं पर प्रशासन चुप्पी साधे बैठा है। कार्रवाई के नाम पर कभी-कभी खानापूर्ति की जाती है फिर उसी हाल पर छोड़ दिया जाता है। बड़ी बात ये है इन वाहनों के मालिक इन गाड़ियों को मॉडिफाई करवाकर धड़ल्ले से चलवा रहे हैं। बिना परमिट और फिटनेस के भी ये वाहन सड़क पर फर्राटे भर रहे हैं। शादी के सीजन में शहर से लेकर गांव तक लोग इन वाहनों में बैठकर बारात जाते हैं। इन वाहनों में जगह से ज्यादा सवारियां ठूंस-ठूंस कर भरी जाती हैं और दुर्घटना को न्यौता दिया जाता है। प्रदेश में अधिकतर इन वाहनों में ठेकेदार मजदूर, कुली और रेजा भरकर आना-जाना करते हैं। बड़ी बात ये है कि इन वाहनों में कई बार स्कूल के टीचर बच्चों को लेकर एजुकेशनल यात्रा पर भी जा चुके हैं। छात्रों के भविष्य के साथ भी कई बार खिलवाड़ हो चुका है। शहर से लेकर गांव तक सामान ढोने वाले पिकअप वाहन में लोगों को भर-भरकर ले जाया जा रहा है। इस वजह से छत्तीसगढ़ में एक साल के अंदर पिकआप से दुघर्टना के मामले  तेजी से बढ़े हैं।

यहां देखें एक साल में पिकअप वाहनों से हुए सड़क हादसे—————–

केस -1  बेमेतरा में 30 अप्रैल को 9 लोगों की मौत
बेमेतरा जिले में 30 अप्रैल की रात करीब 11 बजे सड़क किनारे खड़े ट्रक से पिकअप टकराया गया था। इस दौरान वाहन में बैठे 9 लोगों की मौत हुई थी। इसमें महिलाएं और बच्चे शामिल थे। हादसे में कुल 23 लोग घायल हुए थे। यह हादसा बेमेतरा सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के बेमेतरा-सिमगा नेशनल हाईवे स्थित ग्राम कठिया के पास हुआ था। पुलिस ने सड़क किनारे खड़े ट्रक क्रमांक CG 04 MW 9031 के चालक गज्जू ध्रुव और वाहन स्वामी राधेश्याम डहरिया के खिलाफ धारा 283, 304-A के तहत मामला दर्ज किया था। चालक गज्जू ध्रुव और वाहन स्वामी राधेश्याम डहरिया निवासी ग्राम दुलदुला थाना सिमगा जिला बलौदाबाजार ने घटना के एक दिन पहले वाहन का टायर खराब होने के बावजूद टायर न बदल कर यातायात नियमों का पालन किए बिना हाईवे सड़क पर बिना सांकेतक, रिफ्लेक्टर, स्टापर लगाये लापरवाहीपूर्वक खड़ा किया था।

केस2- कवर्धा में 20 फीट गहरी खाई में गिरा पिकअप, पांच लोग गंभीर रुप से घायल
कवर्धा जिले के सहसपुर लोहारा थाना क्षेत्र में गुरुवार देर शाम करीब 6 बजे घानीखूंटा घाट पर 20 फीट खाई में पिकअप वाहन नंबर सीजी – 10, एके-3549 अनियंत्रित होकर पलट गई। इसमें 5 लोगों गंभीर रुप से घायल हुए थे, जिसे कवर्धा के जिला अस्पताल रेफर किया गया था। इस वाहन में कुल 24 लोग सवार थे, जो वापस अपने घर आ रहे थे। इसी दौरान घानीखूंटा घाट में यह हादसा हुआ है। वाहन पिकअप अनियंत्रित होकर 20 फीट नीचे खाई में जा गिरा। देर रात तक घायलों को लोहारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया था।

केस-3  कोरबा में 5 मई को पिकअप पलटने से 2 की मौत, 6 गंभीर
कोरबा जिले में 5 मई 2024 को यात्रियों से भरी एक तेज रफ्तार पिकअप वाहन अनियंत्रित होकर घाट में पलट गया। हादसे में दो लोगों की मौके पर मौत हो गई जबकि छह लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे। हादसे के बाद मौके पर चीख पुकार मच गई थी। वहीं कुछ लोग वाहन के नीचे दबे हुए थे, जिन्हें राहगीरों की मदद से बाहर निकाला गया। घायलों को एम्बुलेंस की मदद से अस्पताल में भर्ती कराया गया। पिकअप वाहन कटघोरा से बाजार कर फुटकर व्यवसायियों को लेकर पहाड़ गांव बाजार जा रहा था। पिकअप में 13 लोग सवार थे। इस दौरान जटगा चौकी अंर्तगत रावा और पहाड़ बीच मुख्य मार्ग पर पिकअप वाहन अनियंत्रित होकर घाट में पलट गया। हादसे में दो लोगों की मौत हो गई  थी। वहीं 6 लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे।

केस-4  बिलासपुर में 40 लोगों से भरा पिकअप पलटा, 2 की मौत, शादी से लौट रहे थे (30  मार्च 2024 )
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में 40 लोगों से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर पलट गई थी। इस हादसे में मौके पर ही 1 महिला की मौत हो गई थी। वहीं 16 लोग गंभीर रुप से घायल हुए थे। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और सभी घायलों को इलाज के लिए में अस्पताल में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान एक की मौत हो गई। सोनपरी निवासी रामायण भानू के परिवार में शादी कार्यक्रम हुआ था। शादी कार्यक्रम निपटने के बाद शनिवार को परिवार के लोग पिकअप में सवार होकर बेटी के ससुराल मटियाडांड जा रहे थे। पिकअप में परिवार की महिलाओं सहित 40 लोग सवार थे। पिकअप के ड्राइवर ने गांव से निकलते ही वाहन की रफ्तार बढ़ा दी और तालाब के पास पहुंचते ही पिकअप अनियंत्रित होकर पलट गया।

केस-5 गौरेला पेंड्रा मरवाही में 20 जनवरी को पिकअप पलटने से दो की मौत
गौरेला पेंड्रा मरवाही 20 जनवरी 2024 की सुबह करंगरा घाटी के पास पिकअप वाहन अनियंत्रित होकर पलट गाय। वाहन पलटने से ड्राइवर और कंडक्टर की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे की जानकारी के बाद स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। काफी मशक्कत के बाद दोनों शवों को बाहर निकाला गया। मरने वाले दोनों शख्स मध्य प्रदेश के शहडोल जिले के रहने वाले थे। पुलिस को मृतकों के पास से कुछ दस्तावेज मिले थे।

केस-6 बिलासपुर में पिकअप पलटा, एक बच्ची और महिला की मौत (4 जून 2023)
बिलासपुर जिले के मरही माता मंदिर दर्शन कर वापस लौट रहे दर्शनार्थियों से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर पलट गई। इस हादसे में एक बच्ची और महिला की मौत हो गई। वहीं 15 लोग घायल हुये थे। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों का हॉस्पिटल में भर्ती कराया। लोरमी थाना क्षेत्र के ग्राम शारदा के रहने वाले 35 लोग मरही माता मंदिर दर्शन करने के लिए पिकअप वाहन से गए हुए थे। वहां से दर्शन कर जब वापस अपने घर जा रहे थे, इसी दौरान ग्राम सलका नवागांव के पास मोड़ में पिकअप अनियंत्रित होकर पलट गई।

केस-7 अंबिकापुर में बारातियों से भरी पिकअप पलटी, एक बच्चे की मौत, छह घायल, (24 अप्रैल 2023)
छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में सोमवार तड़के बारातियों से भरी पिकअप पलटने से 11 साल के बच्चे की मौत हो गई। जबकि छह लोग घायल हुए थे। पिकअप में 20 लोग सवार थे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को उदयपुर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से तीन को गंभीर अवस्था में मेडिकल कालेज अस्पताल अंबिकापुर रेफर किया गया है। पिकअप चालक को झपकी आने के चलते हादसा हुआ है। मामला लखनपुर थाना क्षेत्र के अंबिकापुर-बिलासपुर नेशनल हाइवे का था। उदयपुर क्षेत्र के ग्राम बासेन से बारात अंबिकापुर के पास ग्राम मेंड्रा आई थी। बाराती पिकअप और बोलरो से पहुंचे थे। रात करीब दो बजे 20 बारातियों को लेकर पिकअप बासेन लौटने के लिए रवाना हुई। तेज रफ्तार में पिकअप रात करीब तीन बजे ग्राम जजगा स्थित रमपुरहीन दाई मंदिर के पास अनियंत्रित हो गई और सड़क से खेत में उतर कर पलट गई। बताया जा रहा है कि पिकअप ने दो बार पलटी खाई और फिर सीधी खड़ी हो गई। हादसे में बासेन निवासी काशी सिंह के बेटे दिलदार सिंह की मौत हो गई।

केस-8  बलौदाबाजार में ट्रक ने पिकअप को मारी टक्कर, 6 की मौत, 5 घायल (15 मई 2023)
15 मई 2023 को बलौदाबाजार-रायपुर हाइवे में तेज रफ्तार ट्रक ने सामने से आ रहे पिकअप को जोरदार टक्कर मार दी। इस हादसे में पिकअप सवार 6 लोगों कि मौत हो गई। मरने वालों में पांच महिलाएं शामिल थी। हादसे में 1 बच्चा और 5 महिला समेत 6 लोगो की मौत हुई थी। वहीं 20 से 25 लोग गंभीर रुप से घायल हुए थे। ये हादसा पलारी थाना के गोडा पुलिया के पास हुआ था।

अन्य सड़क हादसे-

दुर्ग में 50 फीट गहरी खदान में गिरी बस, 13 की मौत (10 अप्रैल 2024)
दुर्ग जिले में केडिया डिस्टलरी के करीब 40 कर्मचारियों को लेकर कुम्हारी से भिलाई लौट रही बस 10 अप्रैल 2024 की रात नौ बजे 20 फीट गहरी खदान में जा गिरी। इस हादसे में 13 लोगों की मौत हुई थी। मामले में बस डाइवर पर 3 धाराओं में मामला दर्ज किया गया था। घटना के बाद से आक्रोशित अन्य कर्मचारियों ने कंपनी में काम बंद कर दिया था। हादसे पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने शोक जताया था।

छत्तीसगढ़-ओड़िशा सीमा पर कार ने ऑटो को मारी टक्कर, 7 लोगों की मौत (26 जनवरी 2024)
छत्तीसगढ़-ओड़िशा सीमा पर 26 जनवरी 2024 को हुए भीषण सड़क हादसे में 7 लोगों की मौत हुई थी। 8 लोग गंभीर रुप से घायल हुए थे। हादसा उस वक्त हुआ, जब ऑटो को तेज रफ्तार स्कार्पियो ने टक्कर मार दी। ऑटो में कुल 15 लोग सवार थे, जिसमें से 7 लोगों की मौत हुई थी। इनमें तीन लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया जबकि चार लोगों की मौत अस्पताल में हुई थी।

धमतरी में ट्रक से टकराई कार , 10 लोगों की मौत (4 मई 2023)
धमतरी से मरकाटोला एनएच 30 में ट्रक और कार में टक्कर होने से 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी। वहीं एक बच्ची गंभीर रुप से घायल थी। बच्ची को रायपुर रेफर किया गया था। पूरा परिवार शादी में शामिल होने के  लिये बालोदगहन जा रहे थे।

'फिर होगी कार्रवाई'
मामले में रायपुर कलेक्टर डॉ. गौरव कुमार सिंह ने कहा कि ऐसे वाहनों को चिन्हांकित कर समय-समय पर कार्रवाई की जाती है। एक बार फिर से मुहिम चलाई जाएगी। ऐसे वाहन मालिकों को सूचना दी जायेगी। वहीं रायपुर यातायात डीएसपी गुरजीत सिंह ने कहा कि ऐसे वाहन मालिकों को समय-समय पर सूचना दी जाती है। पिकअप वाहनों में सवारी बैठाना सख्त मना है। इन वाहनों पर फिर कार्रवाई की जायेगी।


Back to top button