.

महिला शिक्षक के द्वारा पांचवीं कक्षा के एक मासूम छात्र के साथ जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाने को लेकर हुआ खुलासा, मां ने पकड़ा

वाशिंगटन
एक 24 साल की महिला शिक्षक के द्वारा पांचवीं कक्षा के एक मासूम छात्र के साथ जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाने की घटना सामने आ रही है। इस घटना के कुछ ही महीने के बाद टीचर की शादी होने वाली थी। लड़के की मां ने दोनों को बात करते हुए देखा तो इस पूरे प्रकरण का खुलासा हुआ। दोनों के बीच अक्सर घंटों बातचीत हुआ करती थी। टीचर को पहले गिरफ्तार किया गया था। बाद में 21 लाख के बेल बांड पर रिहा कर दिया गया।

आपको बता दें कि यह घटना अमेरिका की है। मिडिया की रिपोर्ट के अनुसार, मैडिसन बर्गमैन द्वारा 11 साल के लड़के के साथ शारीरिक संबंध बनाने का मामला प्रकाश में आया है। टीचर की तीन महीने के बाद उसकी शादी होने वाली थी। लड़के की मां ने उसे फोन पर बर्गमैन से बात करते हुए सुना। इसके बाद मां ने उसका फोन छीन लिया। लड़के के माता-पिता को उसके और टीचर के बीच किए गए मैसेज भी मिले। लड़के माता-पिता मैसेज के प्रिंटआउट के साथ स्कूल गए।

पुलिस को प्रस्तुत किए गए दस्तावेजों के अनुसार, मैसेज में बर्गमैन के संदेश मिले, जिसमें लंच के दौरान या स्कूल के बाद कक्षा के अंदर 11 साल के बच्चे के साथ सेक्स पर चर्चा की गई थी। उस पर यह भी आरोप है कि उसने लड़के को बताया कि उसे छूने में उसे कितना आनंद आता है।

लड़के ने जांचकर्ताओं को बताया कि वह मैडिसन बर्गमैन से लगभग प्रतिदिन बात करता था। जब वह शीतकालीन अवकाश के दौरान उसके और अपनी मां के साथ आफ्टन आल्प्स में स्कीइंग करने गया था तो उसे उसका नंबर मिला। टीचर यात्रा के दौरान उसको नंबर देने के लिए सहमत हो गई। जिस महीने बर्गमैन स्कीइंग यात्रा पर गई थी उसी महीने उसकी अपने प्रेमी से सगाई हुई थी। बर्गमैन के बैकपैक के अंदर लड़के के नाम वाला एक फ़ोल्डर मिला जिसमें कई हस्तलिखित नोट्स थे। अदालत के दस्तावेज़ों के अनुसार, छात्र ने पुलिस को बताया कि वह और बर्गमैन दिन भर एक-दूसरे को नोट्स लिखते थे। इनमें से अधिकांश में दोनों के एक-दूसरे को चूमने का उल्लेख था।

बर्गमैन की गिरफ्तारी से तीन महीने से भी कम समय पहले जुलाई में शादी होने वाली थी। उसे 25,000 डॉलर (लगभग 21 लाख रुपये) के हस्ताक्षर वाले बांड पर रिहा कर दिया गया। स्कूल के प्रिंसिपल ने इस घटना पर हैरानी व्यक्त करते हुए कहा कि वे सभी इस खबर से परेशान हैं।

 


Back to top button