.

हमास युद्ध विराम या कैदी विनिमय समझौते पर इजरायल से कोई बातचीत नहीं करेगा

 गाजा/ तेल अवीव
गाजा के सबसे दक्षिणी शहर रफा पर इजरायल के हमले के बाद हमास ने कथित तौर पर मध्यस्थों को बता दिया है कि वह युद्ध विराम या कैदी विनिमय समझौते पर कोई बातचीत नहीं करेगा।समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने हमास के एक सूत्र के हवाले से बताया कि यह निर्णय इजरायली सेना द्वारा रफा के उत्तर-पश्चिम में विस्थापित नागरिकों को निशाना बनाने और दर्जनों को मारने और घायल करने के जवाब में लिया गया है।

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को गाजा के रफा शहर पर हमले में 45 फिलिस्तीनियों की मौत पर पहली प्रतिक्रिया दी है। नेतन्याहू ने कहा है कि रविवार को गाजा के सबसे दक्षिणी शहर रफा पर हुए हमलों में विस्थापित फिलिस्तीनियों का मारा जाना ‘भयानक गलती’ थी। बता दें कि इस घटना के लिए अंतरराष्ट्रीय जगत में इजरायल की खूब निंदा हो रही है। हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, इजरायली हमले में कम से कम 45 लोग मारे गए थे और सैकड़ों अन्य घायल हो गए थे।

सूत्र ने यह भी कहा कि हमास को बातचीत फिर से शुरू करने के बारे में मिस्र या कतर में मध्यस्थों से कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है।

गाजा के स्वास्थ्य अधिकारियों ने सोमवार को एक प्रेस बयान में कहा कि रफा शहर के पास विस्थापित लोगों के टेंट पर इजरायली हवाई हमलों में बच्चों और महिलाओं सहित कम से कम 45 फिलिस्तीनी मारे गए।

हमास के वरिष्ठ अधिकारी ओसामा हमदान ने सोमवार को बेरूत में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हम इजरायली बंधकों को नहीं छोड़ेंगे और अगर छोड़ेंगे तो अपनी शर्त पर।

हमदान ने कहा कि स्थायी युद्ध विराम सहित किसी समझौते पर पहुंचने के लिए हमास की शर्तों में कोई बदलाव नहीं होगा।

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को गाजा के रफा शहर पर हमले में 45 फिलिस्तीनियों की मौत पर पहली प्रतिक्रिया दी है। नेतन्याहू ने कहा है कि रविवार को गाजा के सबसे दक्षिणी शहर रफा पर हुए हमलों में विस्थापित फिलिस्तीनियों का मारा जाना ‘भयानक गलती’ थी। बता दें कि इस घटना के लिए अंतरराष्ट्रीय जगत में इजरायल की खूब निंदा हो रही है। हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, इजरायली हमले में कम से कम 45 लोग मारे गए थे और सैकड़ों अन्य घायल हो गए थे।
‘हमारा युद्ध खत्म करने का कोई इरादा नहीं है’

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोमवार को इजरायली संसद में नेतन्याहू ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि इजरायल गाजा में लड़ाई में फंसे नागरिकों की सुरक्षा के लिए ‘हर संभव सावधानी’ बरते। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इजरायल की सेना ने हरसंभव कोशिश की है कि इस लड़ाई का शिकार आम लोग न बनें। इसके साथ ही नेतन्याहू ने एक बार फिर हमास के खिलाफ लड़ाई जारी रखने की कसम खाई। नेतन्याहू ने अपने संबोधन के दौरान कहा, ‘लक्ष्य हासिल होने से पहले हमारा युद्ध खत्म करने का कोई इरादा नहीं है।’
‘बंधकों को अगर छोड़ेंगे भी तो अपनी शर्त पर’

नेतन्याहू ने कहा, ‘रफा में हमने पहले ही लगभग दस लाख नागरिकों को निकाल लिया है और उनको नुकसान न पहुंचाने के हमारे भरसक प्रयास के बावजूद, दुर्भाग्य से गलती हो गई। हम घटना की जांच कर रहे हैं।’ इस बीच रफा पर इजरायल के हमले के बाद हमास ने कथित तौर पर मध्यस्थों को बता दिया है कि वह युद्ध विराम या कैदियों की अदला-बदली के समझौते पर कोई बातचीत नहीं करेगा। हमास के एक वरिष्ठ अधिकारी ओसामा हमदान ने सोमवार को बेरूत में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम इजरायली बंधकों को नहीं छोड़ेंगे और अगर छोड़ेंगे तो अपनी शर्त पर।
इजरायल को करना पड़ रहा है निंदा का सामना

बता दें कि इजरायल को दक्षिणी गाजा के शहर रफा पर हमलों के लिए सोमवार को फिर से निंदा का सामना करना पड़ा। स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि इस हमले में कम से कम 45 फिलिस्तीनियों की मौत हो गई, जिनमें आग की चपेट में आए तंबुओं में रहने वाले विस्थापित लोग भी शामिल हैं। इजरायल को हमास के खिलाफ अपने युद्ध के चलते बढ़ती अंतरराष्ट्रीय आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। इजराइल के करीबी सहयोगियों खासकर अमेरिका ने नागरिकों की मौत पर भारी नाराजगी जताई है।


Back to top button