.

फलस्तीन की सदस्यता वाले प्रस्ताव पर भड़का इस्राइल, राजदूत ने यूएन चार्टर के लिए टुकड़े-टुकड़े

 संयुक्त राष्ट्र

इजरायल और हमास के बीच बीते सात महीने से ज्यादा से जंग चल रही है। इसी बीच फिलिस्तनी को संयुक्त राष्ट्र का सदस्य बनाने को लेकर 10 मई को वोटिंग कराई गई। भारत समेत दुनियाभर के 143 देशों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया। वहीं अमेरिका, इजरायल समेत केवल 9 देशों ने ही इस प्रस्ताव के विरोद में वोट दिया। अब फिलिस्तीन ने यूएन सदस्य होने के लिए क्वालिफाइ कर लिया है। इसपर भड़के इजरायली राजदूत गिलाड एर्डन ने संयुक्त राष्ट्र में ही यूएन चार्टर फाड़ डाला।

एर्डन ने श्रेडर मशीन निकाली और यूएन चार्टर के टुकड़े-टुकड़े कर दिए। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बता दें कि अभी तक फिलिस्तीन को यूएन में ऑब्जर्वर का ही दर्जा मिला हुआ है। वोटिंग के दौरान 25 देश अनुस्थित थे। एर्डन ने कहा कि आज जो कुछ भी हुआ उससे पता चलता है कि यूएन चार्टर का उल्लंघन किया जा रहा है। वहीं अमेरिका के वीटो को भी पलट दिया गया है।

पोडियम पर जब इजरायली राजदूत पहुंचे तो उनके हाथ में श्रेडर मशीन थी। उन्होंने अपने हाथों से ही यूएन चार्टर के टुकड़े-टुकड़े कर डाले। उन्होंने कहा कि क्या यूएन के सदस्य चाहते हैं कि एक आतंकवादी देश बन जाए और उसी तरह का अत्याचार हो जैसा कि हिटलर ने अपने जमाने में किया था। उन्होंने कहा कि फिलिस्तीन को यूएन का स्थायी सद्य बनाकर एक आतंकियों द्वारा नियंत्रित इलाके को दे की मान्यता दे दी जाएगी। यहां पूरी तरह से हमास के बलात्कारियों और बाल हत्यारों का कब्जा हो जाएगा।

वहीं यूएन में फिलिस्तीन के राजदूत रियाद मंसूर ने कहा कि आज की वोटिंग ऐतिहासिक और बेहद अहम है। बता दें कि इन दिनों इजरायल राफा में हमले कर रहा है। इजरायल का कहना है कि हमास के बचे हुए आतंकी और शीर्ष कमांडर राफा में छिपे हुए हैं। इस इलाके में लगभग 10 लाख लोग रहते थे जिसमें सेलाखों लोग पलायन कर गए हैं। वहीं गाजा पट्टी में इजरायली हमले में अब तक 35000 लोगों की मौत हो चुकी है।

 


Back to top button