.

आपका विश्वास आप के डर से बड़ा होना चाहिए aapaka vishvaas aap ke dar se bada hona chaahie

©पूनम सुलाने-सिंगल

परिचय– जालना, महाराष्ट्र


 

छोटा सा एक बच्चा जब चलना सीख रहा होता है, तो उसे कभी भी यह डर नहीं लगता कि, मैं गिर जाऊँगा वो जितनी बार गिरता है उतनी बार फिर से खड़ा होने की कोशिश करता है।

उसे बार-बार गिरते हुए देखकर कई बार हम उसका हाथ थामने की कोशिश भी करते हैं, कई बार उसे रोकते भी हैं मगर; उसके भीतर बस एक ही ज़िद होती है कि उसे खड़ा होना है।

दीवार हो, चाहे कुर्सी, टेबल, पलंग जिसका भी सहारा मिलता है, उसे पकड़कर वो खड़ा होने की कोशिश करता है। उसकी यही कोशिश उसे धीरे-धीरे अपने पैरों पर खड़ा होना सिखाती है।

उसके बाद जब वह एक-एक कदम उठा कर चलना सीखता है तो शुरू में उसे किसी के हाथ की जरूरत पड़ती है जो उसे गिरने से बचाए रखती है, मगर जब तक वह अपनी मर्जी से सहारे के लिए मिला हुआ हाथ नहीं छोड़ता तब तक वो दौड़ नहीं लगा सकता। यह बात उसे कोई सिखाता नहीं।

बार-बार अपने आप खड़े होकर चलते रहने कोशिश उसकी हिम्मत को इतनी मजबूत बना देती है कि, वह अपने आप सहारे को छोड़कर एक एक कदम उठाने लगता है और जब उसका कदम अपने आप उठने लगता है तब जिसने सहारा दिया होता है उसको उसके पीछे दौड़ना पड़ता है।

नन्हे से बच्चों की इस सफलता को देखकर मन में एक ख्याल आता है कि, एक समय ऐसा होता है कि, हम सभी अपने पैरों पर खुद खड़े होकर चलना, दौड़ना सीखे होते हैं मगर, जब बात जीवन में कुछ अलग करने की आती है तब हम क्यों भला अपनी हिम्मत हार जाते हैं।

लोगों की सहानुभूति का सहारा ढूंढने की कोशिश करते हैं। बार-बार मन मन में ख्याल आता है कि, अगर हम अपनी मर्जी से कुछ अलग करेंगे तो दुनिया क्या कहेगी। हम सोचतें हैं कहीं इसमें मेरी हार हो गई तो क्या होगा..?, क्या मैं इसमें सफलता हासिल कर पाऊँगा..?

ऐसे कितने सवाल होते हैं जो हमारी हिम्मत को हरा देते हैं, मगर वह पल भी हमें याद करना जरूरी होता है कि, जब हमने पहली बार अपने जीवन में चलना सीखा होता है, तब हम किसी की परवाह नहीं करते हैं। बार-बार गिरने के बाद भी खड़ा होकर चलने की कोशिश करते हैं। हमारा गिरना ही हमें फिर से खड़ा होकर सही से चलना सिखाता है।

यही बात बढ़ती हुई उम्र के साथ हम भूल जाते हैं, अगर इस बात को हम हमेशा याद रखेंगे तो दुनिया में ऐसा कोई काम नहीं है, जिसमें हम सफलता हासिल नहीं कर सकते। हमें किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए, हर बार किसी के सहारे की नहीं बल्कि अपने भीतर के डर से ज्यादा अपने आप के प्रति विश्वास की जरूरत सबसे अधिक होती है।

 

आप सभी का दिन शुभ हो..!

 

 

पुनम सुलाने-सिंगल

Poonam Sulane, Maharashtra

your faith should be greater than your fear

 

 

When a small child is learning to walk, he never fears that I will fall, he tries to stand again as many times as he falls.

Seeing him falling again and again, many times we try to hold his hand, sometimes we stop him but; There is only one stubbornness in him that he has to stand.

Whether it is a wall, a chair, a table, a bed, whatever support is available, he tries to stand by holding it. This effort of his teaches him to stand on his feet slowly.

After that, when he learns to walk step by step, initially he needs someone’s hand to keep him from falling, but until he leaves his hand for support of his own free will. Can’t run No one teaches him this.

Trying to keep walking on his own again and again makes his courage so strong that, leaving the support on his own, he starts taking one step and when his step starts rising on his own, then the one who has supported him follows him. Have to run

Seeing this success of young children, a thought comes to mind that, at one time it happens that, all of us have learned to walk, run by standing on our own feet, but, when it comes to doing something different in life then Why do we lose our courage?

Trying to find the support of the sympathy of the people. Again and again a thought comes in the mind that, if we do something different from our will, then what will the world say. We think that if I lose in this, what will happen..?, will I be able to achieve success in this..?

There are so many questions that beat our courage, but we also need to remember that moment that, when we have learned to walk for the first time in our life, then we do not care about anyone. Even after falling down again and again, try to stand up and walk. It is our fall that teaches us to stand up again and walk properly.

We forget the same thing with increasing age, if we will always remember this thing then there is no such work in the world in which we cannot achieve success. We need the most to be successful in any field, not every time someone’s support but faith in ourselves more than our inner fear.

Good day to you all..!

 

 

वीडियो और फोटो में क्या है दर्ज, 30 मई को देखेंगे दोनों पक्ष veediyo aur photo mein kya hai darj, 30 maee ko dekhenge donon paksh

Related Articles

Back to top button