.

जीवन jeevan

©हिमांशु पाठक 

परिचय– नैनीताल, उत्तराखंड


 

 

कभी प्रकाश ,कभी तम, जीवन।

है अनन्त पथ ये जीवन।

कभी रथ पर,कभी पथ पर जीवन।

जीव की यात्रा है ये जीवन।

जब रथ पर है तो जिन्दगी है,

जब पथ पर है तो मृत्यु, जीवन,

अनवरत् चलने का क्रम जीवन।

सुख है जीवन,दुख है जीवन,

आँसु, जीवन,मुस्कान, जीवन,

मिलने और बिछुड़ने का है क्रम,जीवन।

आनन्द का हर क्षण है जीवन,

पीड़ा को सहना भी जीवन।

रोना,खोना भी है जीवन।

अनवरत् चलने का क्रम जीवन।

अम्बर जीवन,धरणी जीवन,

जल है जीवन,वायु जीवन,

है धूप-छाँव का क्रम जीवन।

बचपन,जीवन,यौवन,जीवन,

है संघर्ष,उम्र का भी जीवन,

थकना और थक कर गिर जाना भी जीवन।

अनवरत् चलने का क्रम जीवन।

कभी रथ जीवन,कभी पथ जीवन।।

 

हिमांशु पाठक

life

 

Sometimes light, sometimes tama, life.

This is the eternal path of life.

Sometimes on a chariot, sometimes on a path.

Jiva’s journey is this life.

When there is a chariot, there is life,

When on the path there is death, life,

Life is a continuous cycle.

Happiness is life, sorrow is life,

Tears, life, smiles, life,

Life is a sequence of meeting and separation.

Every moment of joy is life,

Life is to bear the pain.

Crying, losing life too.

Life is a continuous cycle.

Amber life, Dharani life,

Water is life, air is life,

Life is the sequence of sunshine and shade.

childhood, life, youth, life,

There is struggle, life is even of age,

Life too tired and tired to fall.

Life is a continuous cycle.

Sometimes chariot life, sometimes path life.

 

 

 

नवागढ़ के सोनिका पारा में किया गया बोर खनन navaagadh ke sonika paara mein kiya gaya bor khanan

 

 

Related Articles

Back to top button