.

पहाड़ pahaad

©नरेन्द्र प्रसाद सिंह

परिचय– नवादा, बिहार


 

पहाड़ की ओट से निकला सूरज

ठीक बारह बजे पर्वत के माथे पर चढ़ा

गर्मी की कुलबुलाहट से पहाड़

झाड़ियों- वृक्षों में जा छिपा

रातभर शांतचित्त सोता रहा

सुबह उठा

कंक्रीटों के बीच से पहाड़ बनकर

देखने लगा रातों रात बने इमारतों को

तारकोल की चादर ओढ़कर

चिपचिपाते सड़कों में

टायरों से रौंदे जाते हुए।

 

नरेन्द्र प्रसाद सिंह

Narendra Prasad Singh

 

 

hill

 

sun rising from the mountain
climbed to the top of the mountain at exactly twelve o’clock
mountains from the fidgeting of summer
hiding in the bushes
slept peacefully all night
woke up in the morning
Making a mountain out of concrete
Started seeing the buildings built overnight
covered with a sheet of coal tar
in sticky streets
Being trampled on by tyres.

 

 

भीड़ bheed

 

 

 

Related Articles

Back to top button