.

पर्यावरण दिवस paryaavaran divas

©अमिता मिश्रा

परिचय– बिलासपुर, छत्तीसगढ़


 

आओ अपनी सुन्दर बगिया को महकाएं।

अपने जन्मदिवस पर हम एक वृक्ष लगाएं।

प्राणवाहिनी, जीवनदायनी को जीवन दे जाएं।

जितने वर्ष के हम है उतने ही वृक्ष लगाएं।

 

अपनो के जैसे उन्हें हम प्यार से सींचे।

पानी, खाद देकर उन्हें मुरझाने से बचाएं।

बातें करे उनसे उनका दर्द भी समझें।

हर पेड़ को एक नाम देकर जीवंत कर जाएं।

 

घर के बड़े बुजुर्गों की तरह होते है पेड़ भी।

चुपचाप सहते है कहते नही कुछ भी।

इनकी छत्रछाया में सुखी हमारा परिवार भी।

एक एक फूल, पत्तियों से हो प्यार भी।

 

अपने बच्चों को पेड़ो का महत्व समझाएं।

गौतम बुद्ध को पीपल के नीचे ज्ञान मिला बतलाएं।

समुद्र मंथन से निकला पारिजात स्वर्ग से धरती पर आया ये बतलाएं।

वैज्ञानिक महत्व के साथ ही ज्ञान संस्कृति से जोड़कर समझाएं।

 

आओ हम अपने जन्म को सार्थक कर जाएं।

अपने और अपनों के दीर्घायु होने के लिए पेड़ लगाएं।

धरा को सुन्दर और तन को स्वस्थ कर जाएं।

मूल्य से मत आंको इनको बहुमूल्य का मत मूल्य लगाओ।

 

 

अमिता मिश्रा

Amita Mishra

 

environment Day

 

 

Come, smell your beautiful garden.
Let us plant a tree on our birthday.
Give life to life-giving, life-giving.
Plant as many trees as we are old.

Like your loved ones, we water them with love.
Save them from wilting by giving water, fertilizers.
Talk to them and understand their pain.
Bring each tree to life by giving it a name.

 

Trees are like elders in the house.
Suffers silently, does not say anything.
Our family is also happy under their umbrella.
Love each and every flower and leaves.

Teach your children the importance of trees.
Tell Gautam Buddha got knowledge under Peepal.
Tell me that Parijat, which came out of the churning of the ocean, came from heaven to earth.
Explain by linking it with scientific importance as well as knowledge culture.

 

Let us make our birth meaningful.
Plant trees for the long life of you and your loved ones.
Make the earth beautiful and the body healthy.
Don’t judge by value, don’t value them as valuable.

 

 

प्रकृति prakrti

Related Articles

Back to top button