.

पुण्य उदय कर दो puny uday kar do

©सरस्वती राजेश साहू 

परिचय– बिलासपुर, छत्तीसगढ़


पिया मिलन की युक्ति बताओ, प्रेम, प्रणय भर दो।

भाव भरे उर लेकर आई, पुण्य उदय कर दो।।

 

बीत रहा है युग सा हर दिन, काटे कटता ना।

कैसे? गति मैं इनमें लाऊँ, ठहरा -ठहरा सा।।

चंद्र, भानु विनती करती हूँ, प्राण कष्ट हर दो।

भाव भरे उर लेकर आई, पुण्य उदय कर दो…।

 

दशा हुई है मीरा जैसी, सुध बुध भूली हूँ।

बावरी हूँ प्रेम दीवानी, पग की धूली हूँ।।

घूम रहा मन ठौर अनेको, कृष्ण रूप नर दो।

भाव भरे उर लेकर आई, पुण्य उदय कर दो…।

 

प्रियतम मेरा देख रहा क्या?, छिप छिपा नभ छोर।

परिणय का है बंधन अपना, प्रिय अमर नित डोर।

संघर्षों से हार न मानूँ, प्रेम अभय वर दो।

भाव भरे उर लेकर आई, पुण्य उदय कर दो…।

 

दीप जला कर अंतर्मन में, रखूँ ज्योति प्रकाश ।

प्रियवर तुम भी रखना मुझको, आतमा के पास।

प्रणय कांति में लोप न होवे, राह उजागर दो।

भाव भरे उर लेकर आई, पुण्य उदय कर दो…।

 

 

सरस्वती राजेश साहू

give rise to virtue

 

 

Piya tell me the trick of meeting, fill it with love, love.

Came with ur full of emotion, make virtue rise.

 

Every day is passing like an era;

How? Let me bring the speed in them, it is a bit stagnant.

Chandra, Bhanu I request, give away all the pain of life.

Came with ur full of emotion, make virtue rise….

 

The condition has happened like Meera, I have forgotten the sun.

I am a lover of love, I am a dusty of steps.

Let the wandering mind stop many, Krishna in the form of man.

Came with ur full of emotion, make virtue rise….

Is my dear looking at me?

The culmination is your bond, dear immortal Nit Dor.

Do not give up on struggles, give love and blessings.

Came with ur full of emotion, make virtue rise….

 

Lighting a lamp in my heart, keep the light of light.

Dear Lord, keep me with your soul.

Don’t get lost in the radiance of love, show the way.

Came with ur full of emotion, make virtue rise….

 

 

पूर्व सांसद लखन लाल साहू के भतीजे समेत 4 लोगों की सड़क हादसे में मौत poorv saansad lakhan laal saahoo ke bhateeje samet 4 logon kee sadak haadase mein maut

 

 

Related Articles

Back to top button