.

ज़ुमला, तेरे वादों की असलियत बताता है | ऑनलाइन बुलेटिन

©कुमार अविनाश केसर

परिचय– मुजफ्फरपुर, बिहार


 

 

 

 

तुम क्या जानो? मेरे भीतर, क्या-क्या पलता रहता है!

इश्क़, दर्द या प्यार-मोहब्बत? क्या-क्या चलता रहता है!

 

उनकी मजबूरी से मेरी

आंतें ऐंठा करती हैं,

जोड़ी भर आंखों की रातें,

दिल में बैठा करती हैं,

मिट्टी की झोपड़पट्टी का दीपक, मुझसे कहता है,

ऊंची पगड़ीवालों के घर, क्या-क्या चलता रहता है!

तुम क्या जानो……………..!

 

जिनके दोनों हाथ उठाए हैं,

धरती का भार, अहो!

उनको क्यों दे रखे हो तुम,

जख्मों का संसार कहो?

जिनके दिल का हाल नहीं कोई भी सुनने जाता है!

कलम बताती उनके मन में क्या-क्या गलता रहता है।

तुम क्या जानो……………..!

 

चलो हमारे संग, तुम्हें मैं

जहां – जहां ले जाऊंगा,

प्यास, घुटन, मजबूरी उनकी

आंखों में दिखलाऊंगा,

ज़ुमला, तेरे वादों की असलियत हमें बताता है,

दिल में है कुछ और, जुबां पर क्या-क्या चलता रहता है!

तुम क्या जानो……………..!

शासन वही करता है shaasan vahee karata hai
READ

Related Articles

Back to top button