.

कहानी- जूही की महक भाग -16, लेखक- श्याम कुंवर भारती | ऑनलाइन बुलेटिन

©श्याम कुंवर भारती

परिचय- बोकारो, झारखंड


 

 

जूही और अपनी मां के जाते ही सुधीर ने जूही की छोटी बहन नेहा को फोन लगाया और पूछा अब कैसी तबीयत है तुम्हारी मां की। नेहा ने बताया कोई सुधार नहीं हुआ है भईया। जूही दीदी से आपकी बात हुई क्या नेहा ने चिंता जताते हुए कहा।

 

नहीं जूही मैडम से अभी बात नहीं हुई है और तुम उनको मां की बीमारी के बारे में मत बताना। मैं आज ही ट्रेन पकड़ कर आ रहा हूं कल सुबह पहुंच जाऊंगा तुम चिंता मत करना। सुधीर ने नेहा को जूही पर हुए हमले के बारे में नहीं बताया।

 

सुधीर ने अपनी मां को फोन कर जूही की मां की बीमारी के बारे में बताया और कहा मां मैं अभी जूही मैडम के गांव जा रहा हूं उनकी मां की तबीयत बहुत खराब है वो अभी अस्पताल में भर्ती है मगर तुम जूही मैडम को कुछ मत बताना वरना वो और भी घबड़ा जायेंगी। तुम उनका ख्याल रखना। इतना कहकर सुधीर ने बहन गुड़िया को समझाया और एक बैग लेकर घर से निकल गया। रास्ते में उसने फोन कर जया का आभार व्यक्त किया और कहा आज तुमने बहुत बड़ा काम किया है जया।

 

आज तुम्हारी वजह से ही जूही मैडम की जान बच सकी है हालाकि मुझे तुमसे ऐसी उम्मीद नहीं थी फिर भी तुमने जो काम किया है तुम्हारी जितनी तारीफ की जाय कम है। जया ने कहा सुधीर ये सब मैंने तुम्हारी वजह से किया है। तुम्हारा दिल जीतने के लिए किया है। और हमेशा तुम्हारा साथ देती रहूंगी। केवल एक बार कह दो तुमको भी मुझसे प्यार है।

 

मैं तुम्हारी भावना की कद्र करता हूं जया मगर तुम मेरी मजबूरी को समझो मैं अभी कुछ भी नहीं हूं अभी मुझे बहुत कुछ बनना है। सुधीर ने जया को समझाते हुए कहा।

 

मैंने तुमको कहां रोका है मेरे हीरो तुम बनो न तुमको जो बनना है बस तुम मुझे अपना दिल दे दो। जया ने उससे फरियाद करते हुए कहा।

 

तुमको समझाना बेकार है चलो अब तुम अपना फोन रखो मैं बाद में तुमसे बात करता हूं इतना कहकर सुधीर ने अपना फोन काट दिया।

 

सुबह सारे अखबारों में जूही के ऊपर जानलेवा हमले की खबर मुख्य पृष्ठ पर प्राथमिकता से छपी थी। खबर पढ़ते ही सब तरफ जूही पर हमले की चर्चा होने लगी थी। कुछ लोग अफसोस भी कर रहे थे इतनी अच्छी और ईमानदार वीडियो पर जानलेवा हमला बहुत ही शर्मनाक और दुखद है। कुछ लोग दबी जुबान से विधायक गुप्ता पर शक जता रहे थे। मगर उसके नाम की इतनी दहशत थी की कोई खुलकर बोलने को तैयार नहीं था। खबर में आगे यह भी लिखा गया था हमलावरों की तलाश अब भी जारी है।

 

जूही अपने निर्धारित समय पर अपने ऑफिस पहुंच गई। उसके ऑफिस को भी पुलिस सुरक्षा के घेरे में लिया गया था। भवन के अंदर आने वाले हर किसी की पूरी तरह जांच पड़ताल करने के बाद ही अंदर जाने दिया जा रहा था। पूरे भवन में सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे थे।

 

अपने निर्धारित समय पर बैठक शुरू हुई जिसमें जूही, डीएसपी कुमार, उस क्षेत्र के थाना प्रभारी अन्य चार थाना के सभी प्रभारी और प्रखंड स्तर के सभी वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद थे।

 

जूही ने अपनी बात शुरू करते हुए कहा- विधायक और उनकी पार्टी के लोग पूरे प्रखंड में चक्काजाम करने वाले हैं। कारण बीपीएल सूची है। इस सूची में आप सबको पता है विधायक ने कितनी गडबड़िया किया है। मेरे द्वारा रद्द किए जाने पर वो विरोध पर उतर आए हैं।

 

रात में मुझे फोन पर लाखों रुपए रिश्वत देने का लालच दिया गया मगर मेरे मना करने पर अधिक मुझपर जानलेवा हमला किया गया। मेरी जान मेरे एक परिचित सुधीर ने बचाया।

 

डीएसपी कुमार ने कहा रात की घटना बहुत ही चिंतनीय है अगर एक भी हमलवार पुलिस की गिरफ्त में आ जाए तो हम लोग असली मुजरिम तक पहुंच सकते हैं। शक के आधार पर अगर विधायक गुप्ता पर हाथ डालते हैं तो इससे विवाद बढ़ सकता है। हमारी पूरी टीम हमलावरों को तलाश में लगी हुई है मुझे उम्मीद है वे शीघ्र ही हमारे हाथों में होंगे।

 

जूही ने कहा आप अपनी तलाश जारी रखें मुझे अपनी जान जाने का डर नहीं है मगर इस घटना से आम लोगों में दहशत फैल गई है। हम सबको इस डर को निकालना है। इसके लिए जरूरी है कल विधायक और उनके आदमी चक्काजाम के नाम पर किसी बड़ी घटना को अंजाम न दे दें। जान माल और सरकारी संपत्ति की क्षति न हो आवागमन बाधित न हो।

 

आंदोलन अगर शांति से चला तो ठीक है मगर उग्र रूप धारण किया तो पुलिस को हरकत में आना पड़ेगा और हर उपद्रव से कड़ाई से निपटना होगा।

 

डीएसपी कुमार ने कहा – चक्काजाम कल सुबह 10 बजे से है। हमारी पुलिस ठीक 9 बजे से पूरे क्षेत्र के चौक चौराहों पर पूरी तैयारी के साथ तैनात रहेगी। किसी भी हालात से निपटने के लिए पूरी तरह सतर्क रहेगी मैडम आप चिंता न करें।

 

उसने आगे कहा जिस मुख्य चौराहे पर विधायक खुद अपने लोगों के साथ आंदोलन का नेतृत्व करेगा मैं वहां खुद अपने जवानों के साथ तैनात रहूंगा। चूंकि आप विधि व्यवस्था की प्रभारी हैं आप आदेश करें इसमें और कोई फेरबदल करना है तो।

 

नहीं कुमार साहब आपकी योजना सही है इसमें एक काम और आज ही से शुरू कर दें जूही ने कहा – बाहर से आने वाले सभी वाहनों को जांच पड़ताल शुरू करवा दें हो सकता है विधायक बाहर से हथियार गुंडे मंगवा ले। हो सकता है उसने बुलवा भी लिया हो मगर सावधानी के लिए अभी से जांच शुरू करवा दें।

 

जूही की बात सुनते ही डीएसपी कुमार ने सभी थाना प्रभारियों से कहा- आप सभी अपने अपने थाने के सभी उप थाना प्रभारी को बोले वे लोग सभी बाहर से आने वाले प्रवेश द्वार पर आने वाले वाहनों की जांच पूरी कड़ाई से करें। किसी पर जरा भी संदेह होने या संदेह पूर्ण कोई सामग्री या हथियार पाया जाए उसे तुरंत हिरासत में लेकर थाना में बंद करें। सभी थाना प्रभारियों ने अपने अपने थाने में आदेश दे दिया।

 

तभी बड़ा बाबू ने जूही को आकार बताया मैडम दो तीन जगहों पर हमारे ऑफिस के स्टाफ को विधायक के आदमी सर्वे करने से डरा धमका कर मना कर रहे हैं। बात नहीं मानने पर मारने पीटने की भी धमकी दे रहे हैं क्या करें।

 

बड़े बाबू की बात सुनकर डीएसपी कुमार ने पूछा – कहां – कहां की घटना है। क्षेत्र की जानकारी दें।

 

बड़े बाबू ने बता दिया।

 

डीएसपी कुमार ने उस क्षेत्र के थाना प्रभारियों की तरफ देखते हुए कहा आप लोग अपने जवानों को भेज कर सरकारी काम में बाधा डालने के अपराध में विधायक के आदमियों को गिरफ्तार कर तुरंत थाना मंगाए और उनकी जमकर धुलाई कराएं। चक्काजाम आंदोलन खत्म होने के बाद ही उन्हें छोड़े या जरूरत पड़ने पर जेल भेज दें।

 

जूही ने बड़े बाबू से कहा- अपने लोगों से कहे किसी को डरने की जरूरत नहीं है। वे निडर होकर अपना काम करें, थोड़ी देर में पुलिस वहां पहुंच रही है।

 

बड़े बाबू ने कहा ठीक है मैडम मैं अभी उनको बोलता हूं।

 

डीएसपी कुमार ने आगे कहा दो थानों की पुलिस अपने अपने निर्धारित मोर्चे पर तैनात रहेगी। एक थाना की पुलिस जूही मैडम के साथ हरदम तैनात रहेगी। मैडम जहां भी जायेंगी हमेशा इनको सुरक्षा घेरे में रखना है। ध्यान रहे मैडम पर जानलेवा हमला हो चुका है। किसी से कोई चूक न हो इसलिए एक इंस्पेक्टर रैंक का पुलिस ऑफिसर कल जूही मैडम के साथ रहेगा।

 

और एक टीम मेरे साथ रहेगी।

 

इतना कहकर कुमार ने अपने सहायक को पूरी योजना सबको देने का आदेश दिया। उसने कहा आप सभी ध्यान से इसे देख लें। कौन कहां किसके साथ तैनात रहेगा। उसकी क्या जिम्मेवारी होगी सब इसमें दिया हुआ है।

 

आज शाम तक 4 एंबुलेंस और 5 अग्निशामक वाहक प्रखंड कार्यालय में पहुंच जायेंगे आकस्मिक सेवा के लिए।

 

यहां के सरकारी अस्पताल में अतिरिक्त डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ जिला से मंगा लिए गए हैं जो घायल पुलिस कर्मी और आम जनता का इमरजेंसी इलाज करेंगे।

 

जूही ने कुमार की तारीफ करते हुए वाह कुमार साहब आपकी तैयारी बहुत पुख्ता है।

 

कुमार ने उसका आभार प्रकट करते हुए कहा चूंकि जूही मैडम विधि व्यवस्था की प्रभारी हैं इसलिए इनका आदेश मिलते ही मैं आप सबको आदेश देता रहूंगा।

 

जबतक मैडम का आदेश नहीं मिलेगा मैं किसी को लाठी चलाने या गोली चलाने का आदेश नहीं दूंगा।

 

मैडम का आदेश मिलते ही सभी उपद्रवियों पर टूट पड़ेंगे। मगर सभी खुद की सुरक्षा का ख्याल रखेंगे।

 

चार वज्र वाहन भी रहेंगे जिस पर गोली, बंदूक या बम का कोई असर नहीं होता। उस वाहन में पुलिस के जवान अति संवेदनशील एरिया में भ्रमण करेंगे।

 

इसके बाद मीटिंग खत्म हो गई।

 

शेष अगले भाग 17 में

 

लेखक- श्याम कुंवर भारती

 

 

चोरी का सामान रखना ही अपराध नहीं, यह साबित भी करना होगा | ऑनलाइन बुलेटिन

Related Articles

Back to top button