.

फलौदी सट्टा बाजार ने दी छिंदवाड़ा सीट से कमलनाथ को बड़ी आस

 छिंदवाड़ा

मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव संपन्न हो चुके हैं. इस चुनाव में सबसे ज्यादा किसी सीट की चर्चा रही तो वो है कांग्रेस का गढ़ मानी जाने वाली छिंदवाड़ा सीट. यहां इस बार कांटे का मुकाबला देखने को मिला है. ऐसा पहली बार हुआ, जब चुनाव के दौरान यहां 'नाथ' परिवार के पसीने छूट गए. वहीं बीजेपी के लिए भी यहां चुनाव आसान नहीं रहा है. चाहे कांग्रेस नेताओं को तोड़कर बीजेपी में लाने की बात हो या फिर दिग्गज नेताओं का छिंदवाड़ा में जमावड़ा हो, हर तरीके से बीजेपी ने इस सीट को जीतने के लिए जी जान से मेहनत की है. बावजूद इसके राजस्थान के चर्चित फलौदी सट्टा बाजार के अनुमान ने बीजेपी की पूरी मेहनत पर पानी फेर दिया है. आइये जानते हैं कैसे?

कांग्रेस के लिए काफी मुसीबतों भरा रहा छिंदवाड़ा सीट का चुनाव

छिंदवाड़ा लोकसभा सीट एक मात्र ऐसी लोकसभा सीट है. जिस पर 2019 में कांग्रेस को जीत मिली थी. उस दौरान मध्य प्रदेश में कांग्रेस बहुत बुरी तरह चुनाव हारी थी. यही कारण है कि बीजेपी ने छिंदवाड़ा जीतने के लिए तभी से मेहनत शुरू कर दी थी. आये दिन मुख्यमंत्री के दौरे हों या फिर जनसभा, छिंदवाड़ा में आयोजित होने लगे थे. चुनाव के दौरान कई पूर्व मंत्री, विधायकों और नेताओं ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया.

ऐसे में कांग्रेस के लिए वहां अपनी जमीन बचा पाना सबसे ज्यादा मुश्किल नजर आ रहा था. लगातार कमजोर होती कांग्रेस को देख कमलनाथ और पूरे नाथ परिवार ने जमीन पर उतरकर मोर्चा संभाला. यहां तक कि कमलनाथ प्रदेश की किसी सीट पर प्रचार करने तक नहीं गए. जब तक कि छिंदवाड़ा के चुनाव संपन्न नहीं हो गए. अब इसी मेहनत का परिणाम कहें या फिर कांग्रेस का गढ़ कहें जिसको लेकर फलौदी सट्टा बाजार का अनुमान सामने आया है.

फलौदी सट्टा बाजार ने दी कमलनाथ को बड़ी आस

फलौदी सट्टा बाजार कमलनाथ के लिए तो खुशखबरी दी है, पर कांग्रेस के लिए अच्छी खबर नहीं दी है. ऐसा इसलिए क्योंकि फलौदी सट्टा बाजार के अनुमान के अनुसार मध्य प्रदेश लोकसभा चुनाव में 2024 का परिणाम 2019 की तरह ही रहने वाला है. यानि कि छिंदवाड़ा लोकसभा सीट पर कांग्रेस तो वहीं अन्य लोकसभा सीटों पर बीजेपी चुनाव जीत सकती है. हालांकि अंतिम परिणाम 4 जून को सामने आएंगे. तभी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी.

अधूरा रह जाएगा बीजेपी का मिशन-29?

मध्य प्रदेश में बीजेपी ने मिशन-29 का लक्ष्य रखा है. प्रदेश की सभी सीटों को जीतने के लिए पार्टी ने पूरी ताकत झोंकी है. भाजपा का दावा है कि प्रदेश की सभी 29 सीटों पर जीत हासिल होगी, हालांकि फलौदी सट्टा बाजार के अनुमान से बीजेपी के मिशन-29 को झटका लग सकता है.

 


Back to top button