.

सीएम केजरीवाल को SC से झटका, अंतरिम जमानत 7 दिन बढ़ाने की याचिका पर तुरंत सुनवाई से इनकार

नई दिल्ली
 दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है। कोर्ट ने उनकी अंतरिम जमानत बढ़ाने की मांग वाली याचिका पर तत्काल सुनवाई से इनकार कर दिया है। शीर्ष अदालत ने कहा कि इस पर निर्णय CJI डी वाई चंद्रचूड़ करेंगे। बता दें कि केजरीवाल ने मेडिकल टेस्ट के लिए अंतरिम जमानत की अवधि को एक हफ्ते बढ़ाने की मांग की थी। उनकी जमानत 2 जून को खत्म हो रही है।

केजरीवाल के वकील ने की थी तत्काल सुनवाई की मांग

सीएम केजरीवाल की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने स्वास्थ्य के आधार पर उनकी जमानत की डेट को बढ़ाने की मांग की थी। सिंघवी ने अदालत से अंतरिम जमानत को 7 दिन बढ़ाने की मांग करते हुए सुनवाई की मांग की थी, लेकिन अब कोर्ट ने इस याचिका को सुनने से इनकार कर दिया है।केजरीवाल के वकील ने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कोर्ट से डेट आगे बढ़ाने की मांग की थी।

केजरीवाल ने कहा- उनका कीटोन लेवल तेजी से बढ़ रहा

सीएम केजरीवाल ने बताया कि उनका कीटोन लेवल बढ़ रहा है। इसके चलते उनका वजन 7-8 किलो कम हो गया है। कीटोन का स्तर बढ़ने से कई गंभीर बीमारी जैसी किडनी की समस्या और कैंसर भी दस्तक दे सकता है। केजरीवाल चाहते हैं कि उन्हें एक हफ्ते अपनी जांच कराने के बाद 9 जून को तिहाड़ जेल वापस जाने की इजाजत दी जाए।

1 जून तक के लिए मिली थी अंतरिम जमानत

बेंच ने कहा कि केजरीवाल की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाला मामला पहले ही सुना जा चुका है और पहले से ही एक अलग बेंच द्वारा आदेश के लिए रिजर्व रखा गया है. पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल को मौजूदा आम चुनावों के प्रचार के लिए 21 दिनों की अंतरिम जमानत दी थी, जिसकी समय सीमा 1 जून को खत्म हो रही है और उन्हें 2 जून तक आत्मसमर्पण करने का निर्देश दिया गया था.

सिंघवी ने जरूरत का हवाला देते हुए बेंच से मामले की जल्द से जल्द सुनवाई करने की गुजारिश की क्योंकि आत्मसमर्पण का समय नजदीक है, लेकिन बेंच ने कहा कि इस पर मुख्य न्यायाधीश फैसला लेंगे.

'मेडिकल चेकअप के लिए चाहते हैं वक्त'

अरविंद केजरीवाल ने अपनी याचिका में कहा, "बिना वजह के वजन कम होना जिंदगी के लिए खतरा पैदा करने वाली बीमारियों का लक्षण है. मेरे हेल्थ की यह स्थिति आंशिक रूप से जेल अधिकारियों के कठोर व्यवहार की वजह से है. जमानत का एक और सप्ताह मुझे हेल्थ से जुड़ी परेशानियों का जायजा लेने की अनुमति देगा."

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने अपनी अंतरिम जमानत का उपयोग केवल चुनाव प्रचार के लिए किया है और जिसके लिए उन्हें बहुत कम समय के दौरान दिल्ली और पूरे भारत में व्यापक रूप से यात्रा करनी पड़ी है. इसके नतीजे में स्वास्थ्य संबंधी चिंताजनक जटिलताओं के बावजूद, उनके पास मैक्स हॉस्पिटल के एक सीनियर डॉक्टर द्वारा अपने घर पर स्वास्थ्य जांच कराने का ही समय था.

याचिका के मुताबिक, केजरीवाल के स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं और बढ़ते जोखिम संकेतकों को देखते हुए, डॉक्टर ने पूरे शरीर के कई टेस्ट बताए हैं, जो आत्मसमर्पण करने से पहले करवाए जाने जरूरी हैं.

आरोपी चनप्रीत पर बात

ईडी के वकील अब दूसरे आरोपी चनप्रीत सिंह की भूमिका के बारे में बात कर रहे हैं. ईडी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने गोवा में 7 स्टार होटल में रहना चुना, कुछ हिस्से का भुगतान चनप्रीत ने किया.

कोर्ट का कहना है कि समय बचाने के लिए जमानत पर सुनवाई के दौरान चनप्रीत की भूमिका पर बहस की जा सकती है.

मामले पर आगे की सुनवाई 2 बजे होनी है.


Back to top button