.

Sagar में तेज रफ्तार एसयूवी ने मारी बाइक को टक्कर, दो की मौत, एक गंभीर

 सागर
 जैसीनगर थान क्षेत्र के शोभापुर के पास रात एक एसयूवी ने बाइक को टक्कर मार दी। इस हादसे में बाइक सवार दो व्यक्तियों की मौत हो गई, जबकि तीसरे की हालत गंभीर है। कार में सवार लोगों को भी चोटें आई हैं। पुलिस ने कार को जब्त कर लिया है। मामले की जांच की जा रही है।

जानकारी के अनुसार सोमवार रात करीब पौने नौ बजे बंजरिया निवासी राजकुमार दुबे अपने भाई रामनरेश दुबे और भोले प्रजापति के साथ बाइक क्रमांक एमपी 38 एम 4236 से जैसीनगर से अपने गांव लौट रहे थे। तभी सागर से जैसीनगर की ओर जा रही काले रंग की स्कार्पियो क्रमांक एमपी 04 जेडओ 8777 ने बाइक को शोभापुर गांव के पास सामने से टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबर्दस्त थी कि एसयूवी और बाइक बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। हादसे के बाद स्कार्पियो सड़क किनारे उतर गई। हादसे में 40 वर्षीय रामनरेश की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि 40 वर्षीय भोले और 45 वर्षीय रामनरेश को गंभीर चोटें आई। पता चलते ही घटना स्थल से कुछ ही दूर स्थित गांव से ग्रामीण और बाइक सवारों के स्वजन मौके पर पहुंच गए। घायलों को तुरंत ही 108 एंबुलेंस से पहले जैसीनगर स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से रात में ही दोनों को सागर रेफर कर दिया गया। बुंदेलखंड मेडिकल कालेज में दोनों को भर्ती कराया गया, जहां भोले की इलाज के दौरान तड़के चार बजे मौत हो गई, जबकि रामनरेश के हाथ, पैर में फेक्चर हैं। उसकी हालत भी नाजुक बनी हुई है।

बुधवार सुबह रामनरेश और भोले के शव का पीएम कराने के बाद गांव ले जाया गया। वहीं सूचना मिलते ही रात में मौके पर जैसीनगर थाना पुलिस पहुंच गई थी। स्कार्पियो सिलवानी के जैन परिवार की बताई जा रही है। स्कार्पियो में सवार लोगों को भी हादसे में चोटें आई हैं। जिनका इलाज किया जा रहा है। पुलिस ने कार और बाइक को जब्त कर लिया है। मामले में मर्ग कायम कर विवेचना की जा रही है।

हादसों का हाइवे

सागर-सिलवानी स्टेट हाइवे क्रमांक 15 हादसों का हाइवे बन गया है। पिछले कुछ समय में लगातार यहां पर रेत के डंपरों के कारण सड़क हादसे में कई लोग जान गवां चुके हैं। जैसीनगर के आगे सिलवानी उदयपुरा से नर्मदा की रेत का परिवहन कर इसी रूट से सागर लाया जाता है। रेत से भरे डंपर तेज व लापरवाही पूर्वक चलाते हुए यहां से गुजरते हैं। अमूमन कम ट्राफिक दबाव वाली इस सड़क पर ग्रामीण भी बेपरवाह और असावधानी पूर्वक चलते हैं, यही कारण है कि यदाकदा तेज रफ्तार वाहनों की चपेट में वह आ जाते हैं।


Back to top button