ऐसी बयार में बसते हैं राम। जो दर्द था दिल में मैंने कह दिया

Back to top button