गरीबों का आंसू पोंछे हैं राम। चलते थे खुद वो देखो धूप में

Back to top button