.

भोजशाला में भीतर खोदाई में दीवारें दिखीं, तलघर होने की संभावना को देखते हुए तेजी से काम

धार
 भोजशाला में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) सर्वे के 52वें दिन सर्वे के दौरान भोजशाला की उत्तर दिशा में कुछ पाषाण अवशेष मिले, साथ ही एक नई संरचना भी दिखने लगी है।

हालांकि, पाषाण अवशेष और नई संरचना के बारे में अभी बहुत कुछ स्पष्ट नहीं है। रविवार को भोजशाला के पीछे की ओर भी मिट्टी हटाई गई है, वहां पर जल जमाव रोकने के भी इंतजाम किए जा रहे हैं। पीछे के भाग में खेत में फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी और नपती का कार्य किया गया।

भोजशाला के भीतर खोदाई में दीवारें दिखीं

हिंदू पक्ष के याचिकाकर्ता आशीष गोयल ने बताया कि भोजशाला के भीतर खोदाई में जहां दीवारें दिखाई दे रही हैं, वहां सर्वे कार्य धीरे-धीरे व्यापक हो रहा है। यज्ञ कुंड के नजदीक ट्रेंच में खोदाई और अधिक गहराई तक की गई है। यहीं पर दीवारनुमा संरचना मिली है।

तलघर होने की संभावना को देखते हुए तेजी से काम

तलघर होने की संभावना को देखते हुए तेजी से काम किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि जो अवशेष मिल रहे हैं, उन्हें लेकर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण टीम ने क्लीनिंग, ब्रशिंग और पैकिंग का काम किया है। माना जा रहा है कि इन अवशेषों को व्यवस्थित रूप से जांच के लिए भेजा जाएगा।

तलघर की संभावना को देखते हुए काम में आई तेजी

हिंदू पक्ष के याचिकाकर्ता आशीष गोयल ने बताया कि भोजशाला के भीतर खुदाई में जहां दीवारें दिखाई दे रही हैं, वहां सर्वे कार्य धीरे-धीरे बढ़ रहा है। यज्ञ कुंड के नजदीक ट्रेंच में खुदाई और अधिक गहराई तक की गई है। यहीं पर दीवारनुमा संरचना मिली है। यहां पर तलघर होने की संभावना को देखते हुए तेजी से काम किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि जो अवशेष मिल रहे हैं, उन्हें लेकर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण टीम ने क्लीनिंग, ब्रशिंग और पैकिंग का काम किया है। माना जा रहा है कि इन अवशेषों को व्यवस्थित रूप से जांच के लिए भेजा जाएगा।

आज सोमवार को वोटिंग के बाद भी जारी रहेगा सर्वे

धार-महू संसदीय क्षेत्र के लिए 13 मई को मतदान है। इस दिन भी भोजशाला में एएसआइ द्वारा सर्वेक्षण किया जाएगा। अलबत्ता, श्रमिकों के लिए स्थानीय मतदाता होने के कारण अवकाश रहेगा। केवल विशेषज्ञ अपने स्तर का कार्य करेंगे।


Back to top button