.

250 से ज्यादा प्रजातियों के पक्षी मिले पेंच टाइगर रिजर्व में, 10 राज्यों के 65 पक्षी विशेषज्ञों ने किया सर्वेक्षण l ऑनलाइन बुलेटिन

सिवनी l (मध्य प्रदेश बुलेटिन) l मध्यप्रदेश के पेंच राष्ट्रीय उद्यान में तीन दिवसीय पक्षी सर्वेक्षण सफलतापूर्वक संपन्न हो गया है। सर्वेक्षण में 10 राज्यों के 65 पक्षी विशेषज्ञ शामिल हुए। पेंच टाइगर रिजर्व (Pench Tiger Reserve) 250 से ज्यादा प्रजातियों के पक्षियों का रहवास है। ये जानकारी पक्षी सर्वेक्षण में सामने आया है।

 

वाइल्डलाइफ एन्ड नेचर कन्‍जरवेंसी संस्था ( Wildlife and Nature Conservancy Society) के प्रमुख राजेन्द्र बागड़ा ने इस सर्वेक्षण से 250 से अधिक प्रजातियों की उपस्थिति ज्ञात होने की संभावना जताई।

 

सिवनी जिले के पेंच टाइगर रिज़र्व का प्रथम पक्षी सर्वेक्षण 27 से 30 जनवरी तक सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। इंदौर की संस्था वाइल्डलाइफ एन्ड नेचर कन्‍जरवेंसी के सहयोग से हुए इस सर्वेक्षण में 10 राज्यों के 65 पक्षी विशेषज्ञों ने भाग लिया। 27 जनवरी को सभी पक्षी विशेषज्ञ करमाझिरी में जमा हुए। जहां पंजीयन कार्य पूरा कर 1 से 2 सदस्यों का दल गठित कर पेंच टाइगर रिजर्व, सिवनी के विभिन्न परिक्षेत्रों अंतर्गत चिन्हित इलाकों में भेजा गया था।

 

स्थानीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सहयोग से पक्षी विशेषज्ञ दल द्वारा ट्रांसेक्ट लाइन और ट्रेल पर चलकर पक्षी सर्वेक्षण का काम मोबाइल एप्लीकेशन ई-बर्ड के माध्यम से किया। वाइल्डलाइफ एन्ड नेचर कन्‍जरवेंसी संस्था के प्रमुख बागड़ा जी ने जानकारी दी है, कि इस अंतिम रिपोर्ट तैयार होने में लगभग 3 माह का समय लग सकता है।

 

इधर वाइल्डलाइफ एन्ड नेचर कन्‍जरवेंसी संस्था के प्रमुख राजेन्द्र बागड़ा ने इस सर्वेक्षण से 250 से अधिक प्रजातियों की उपस्थिति ज्ञात होने की संभावना जताई।

 

टाइगर रिजर्व में पहली बार पर हुआ सर्वेक्षण

पेंच टाइगर रिजर्व में 27 से 30 जनवरी तक पहली बार पक्षी सर्वेक्षण किया गया। सर्वेक्षण के लिए इंदौर की संस्था वाइल्ड लाइप एंड नैचर कंजरवेंसी के माध्यम से पूरे देश में पक्षी विशेषज्ञाें के आनलाइन आवेदन बुलाए गए थे।

ईरान में चल रहे आंदोलन के समर्थन में केरल के कोझिकोड में महिलाओं के एक ग्रुप ने भी जलाए हिजाब | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

प्राप्त आवेदन में स्वयंसेवकाें को सर्वेक्षण कार्य के पूर्व अनुभव व दक्षता को आधार पर 27 जनवरी गुरूवार को कर्माझिरी बुलाया गया। इसमें 10 राज्याें के 65 पक्षी विशेषज्ञ पेंच पहुंचे थे।

 

Related Articles

Back to top button