.

वाल्मीकि समाज की बेटी की बारात चढ़ने से रोकने की आशंका के चलते 7 फेरों से पहले 13 दारोगा और 59 पुलिसकर्मियों ने संभाली पोजीशन, दूल्हे के आने से पहले छावनी बना दुल्हन का गांव | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

संभल | [उत्तर प्रदेश बुलेटिन] | जुनावई थाना क्षेत्र के गांव लोहामई में यादव बिरादरी के लोगों द्वारा वाल्मीकि समाज की बेटी की बारात चढ़ने से रोकने की आशंका थी, जिसके चलते सात फेरों से पहले भारी तादात में लड़की पक्ष के गांव में पुलिस फोर्स पहुंच गई। 13 दारोगा और 59 पुलिसकर्मियों की टीम ने अपनी-अपनी पोजीशन ली। देखते ही देखते पूरा गांव छावनी में तब्दील हो गया। दूल्हा जब बारात लेकर पहुंचा तो सन्न रह गया। शुक्रवार दोपहर से ही गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया। 10 प्वाइंट पर पुलिस तैनाती के साथ ही बारात के आगे-पीछे और दाएं-बाएं पुलिस बल तैनात रहा। ऐसे में वाल्मीकि समाज की बेटी के घर बारात गाजे-बाजे के साथ पहुंची।

 

थाना क्षेत्र के गांव लोहामई निवासी राजू वाल्मीकि की बेटी रवीना की बारात शुक्रवार शाम बदायूं जिले में इस्लामनगर थाना क्षेत्र के गांव पतीसा से पहुंची। यादव बिरादरी के लोगों द्वारा गांव में बारात नहीं चढ़ने देने की आशंका के चलते दोपहर से ही पुलिस मुस्तैद कर दी गई थी। देर शाम दूल्हा रामकिशन परिजनों और रिश्तेदारों के साथ बारात लेकर पहुंचा। देर शाम बारात चढ़त की रस्म भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में शुरू की गई।

 

गांव में दस पुलिस डयूटी प्वाइंट बनाए गए। सभी प्वाइंटों पर एक दरोगा के साथ पुलिसकर्मी और महिला पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया। इसके अलावा पुलिस की एक-एक टीम बारात के आगे और पीछे और एक-एक टीम बारात के दाएं और बाएं मुस्तैद की गई। देर रात बारात संपन्न होने तक पुलिस फोर्स गांव में मुस्तैद रहा।

तीन लोगों की मौत: पूर्व मुख्यमंत्री के रोड शो में बड़ा हादसा... मची भगदड़... 3 की मौत... कई घायल | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन
READ

 

जुनावई क्षेत्र के गांव लोहामई में यादव बिरादरी के लोगों द्वारा बारात चढ़ने का विरोध किए जाने की आशंका के चलते दोपहर 12 बजे ही गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया। थानाध्यक्ष पुष्कर मेहरा के साथ 13 दरोगा, एक महिला दरोगा, 33 कांस्टेबल और 11 महिला कांस्टेबल बारात संपन्न होने तक मुस्तैद रहे। थानाध्यक्ष पुष्कर मेहरा ने वाल्मीकि बेटी की शादी में 11 हजार का नेग देकर उसे आर्शीवाद दिया।

 

गांव में नहीं चढ़ने दी जाती थीं वाल्मीकि समाज की बारात

 

गांव लोहामई निवासी महेंद्र वाल्मीकि की बेटी रजनी की 7 मई 2021 को गांव रामनगर टप्पा वैश्य से बारात आई थी। गांव में यादव बिरादरी के लोगों ने बारात नहीं चढ़ने दी थी। उसके बाद 5 मई वर्ष 2022 को महेंद्र वाल्मीकि की छोटी बेटी बबीता की बहजोई क्षेत्र के गांव चौपा से बारात गई थी। इस बार भी यादव बिरादरी के लोगों ने बारात चढ़ने से रोक दी थी।

 

बारात चढ़ने से रोक देने की सूचना पर थाना पुलिस मौके पर पहुंची थी और देर रात पुलिस फोर्स की मौजूदगी में बारात चढ़त की रस्म पूरी की गई थी। इस बार भी वाल्मीकि समाज के लोगों को अंदेशा था कि यादव बिरादरी के लोग उनकी बेटी की बारात गांव में नहीं चढ़ने देंगे। इस बार पुलिस की सख्ती से बारात शान से चढ़ी।

ये भी पढ़ें:

https://onlinebulletin.in/world-bulletin/like-the-collegium-system-alien-to-the-constitution-law-minister-kiren-rijiju-again-hit-out-at-the-system-of-appointment-of-judges-online-bulletin-dot-in

 

Related Articles

Back to top button