.

कोविड नमूनों के जीनोम सिक्वेंसिंग में दिल्ली में जुलाई-अगस्त तक 90% BA.2 वैरिएंट मिला | ऑनलाइन बुलेटिन

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | जीनोम सिक्वेंसिंग के दौरान 90 प्रतिशत कोविड-19 नमूनों में इस वायरस का बीए.2 वैरिएंट दिल्ली में जुलाई और अगस्त में मिला। इस संबंध में आधिकारिक आंकड़ा जारी किया गया है।

 

जुलाई में प्रयोगशालाओं में 1,271 नमूनों का विश्लेषण किया गया जिनमें से 1133 में बीए.2 वैरिएंट मिला। किसी नमूने में बीए.4 वैरिएंट नहीं मिला, जबकि 138 नमूनों में इस वायरस का बीए.5 वैरिएंट था।

 

अगस्त में प्रयोगशालाओं में 2,064 नमूनों का विश्लेषण किया गया तो पता चला कि 90.35 प्रतिशत मामलों में बीए.2 वैरिएंट मिला, जबकि 199 मामलों में इस वायरस का बीए.5 वैरिएंट था।

 

दिल्ली में अगस्त में कोविड-19 के मामले में वृद्धि हुई थी और विशेषज्ञों ने इसके लिए लोगों द्वारा एहतियात नहीं बरतने एवं कोविड उपयुक्त आचरण का पालन नहीं करने को जिम्मेदार ठहराया था।

 

अब चूंकि यहां इस संक्रमण के रोजाना मामले 100 के नीचे आ गए हैं तो दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं लगाने पर 500 रुपये का जुर्माना हटा सकता है तथा चरणबद्ध तरीके से अस्पतालों में संबंधित कर्मियों एवं सुविधाओं में कमी ला सकता है। दिल्ली में कोविड-19 के नए मामलों में गिरावट आ रही है।

 

डीडीएमए ने राष्ट्रीय राजधानी में कोविड की स्थिति की समीक्षा के लिए गुरुवार को एक बैठक की थी और कोरोना वायरस से निपटने के लिए अस्पतालों में लगाए गए कर्मियों एवं सेवाओं का मूल्यांकन किया था।

 

दिल्ली में 18 साल से ऊपर के केवल 19% लोगों ने ली बूस्टर डोज

 

दिल्ली में 18 से 59 वर्ष की आयु के केवल 19 प्रतिशत लोगों ने ही कोविड वैक्सीन की प्रिकॉशन डोज ली है। आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई। अभी तक कुल 24 प्रतिशत लोगों ने प्रिकॉशन डोज ली है।

मदरसों को बम से उड़ा देना चाहिए...अलीगढ़ में बोले महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

डीडीएमए की गुरुवार को हुई बैठक में इस पर सहमति जताई गई कि इस आंकड़े को कम से कम 40-50 प्रतिशत तक ले जाने की जरूरत है। प्रिकॉशन डोज लेने के योग्य कुल 1.33 करोड़ लाभार्थियों में से 20 सितंबर तक केवल 31.49 लाख (24 प्रतिशत) लोगों ने ही खुराक ली। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, 20 सितंबर तक 18 से 59 वर्ष की आयु के कुल 1.14 करोड़ लाभार्थी प्रिकॉशन डोज लेने के योग्य हैं, लेकिन केवल 21.21 लाख लोगों ने ही खुराक ली।

 

साठ साल से अधिक उम्र के 13.20 लाख लाभार्थी टीके की डोज लेने के योग्य हैं और इनमें से 6.33 लाख लोगों ने प्रिकॉशन डोज ली है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे के कर्मियों में से 61 प्रतिशत ने प्रिकॉशन डोज ली है।

 

 

एकनाथ के बेटे श्रीकांत शिंदे मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठ देने लगे आदेश, एनसीपी बोली- मिल गया सुपर सीएम | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

 

Related Articles

Back to top button