.

आपकी दादी ने क्या कहा था जरा उसे पढ़िए, राहुल गांधी को देवेंद्र फडणवीस का जवाब; पुणे में सावरकर के खिलाफ लगे पोस्टर | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

मुंबई | [महाराष्ट्र बुलेटिन] | राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने सावरकर पर टिप्पणियों को लेकर राहुल गांधी पर हमला बोला है। राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने एक के बाद एक ट्वीट कर कई दस्तावेज भी शेयर किए हैं। बहस में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी को लाते हुए राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने पूर्व प्रधानमंत्री द्वारा लिखा गया 1980 का एक पत्र भी पोस्ट किया। महाराष्ट्र राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें अपनी दादी का लिखा पत्र पढ़ना चाहिए।

 

राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने अपने पहले ट्वीट में लिखा, “राहुल जी, कल आपने मुझे एक पत्र की अंतिम पंक्तियाँ पढ़ने को कहा था, चलो, अब कुछ दस्तावेज आज मैं आपको पढ़ने देता हूँ। हम सब के आदरणीय महात्मा गांधी जी का यह पत्र आपने पढ़ा? क्या वैसी ही अंतिम पंक्तियाँ इसमें मौजूद हैं, जो आप मुझे पढ़वाना चाहते थे?”

 

महाराष्ट्र के अकोला जिला स्थित वड़ेगांव ग्राम में बृहस्पतिवार को संवाददाता सम्मेलन के दौरान राहुल गांधी ने सावरकर की आलोचना करते हुए आरोप लगाया था कि उन्होंने (सावरकर ने) ब्रिटिश शासकों की मदद की थी और डर के कारण उन्हें एक माफीनामा लिखा था।

 

जवाब में फडणवीस ने लिखा, “अब जरा भारत की पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी (आपकी दादी) इन्होंने स्वातंत्र्यवीर सावरकर के बारे में क्या कहा था, वो भी जरा पढ़ लिजिये… यहाँ वे वीर सावरकर को स्वतंत्रता आंदोलन का आधारस्तंभ और भारत का सदा याद रहने वाला सुपूत कहती है।”

मंदिर परिसर में मोबाइल फोन पर लगाा प्रतिबंध, जनहित याचिका पर हाई कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन
READ

 

 

राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने महा विकास अघाड़ी गठबंधन के सहयोगी एनसीपी प्रमुख शरद पवार का भी एक भाषण शेयर किया। उन्होंने लिखा, “महाराष्ट्र की राजनीति में अपना एक विशेष स्थान रखने वाले श्री शरद पवार जी वीर सावरकर जी के बारे में क्या कहते है, जरा वो भी पढ लो, सुन लो… इसी पत्र में वो दो आजन्म कारावास का उल्लेख करते है।”

 

उन्होंने पूर्व पीएम नरसिंम्हाराव का भी पत्र शेयर किया है। फडणवीस ने लिखा, “कांग्रेस के भूतपूर्व नेता, देश के पूर्व प्रधानमंत्री पी. वी. नरसिंम्हाराव कहते है कि, स्वातंत्र्यवीर सावरकर एक प्रखर राष्ट्रवादी थे। सामाजिक सुधराव के लिए उनकी प्रतिबद्धता, आज की युवा पीढ़ी को सीख देने वाली उर्जा ऐसे कई बिंदूओं पर वे क्या कहते है… पढ़िए…”

 

 

आम आदमी पार्टी की छत्तीसगढ़ के अखाड़े में एंट्री, केजरीवाल ने किया विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान l ऑनलाइन बुलेटिन
READ

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह भी कहा था कि सावरकर भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) और आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) के प्रतीक हैं। उनकी इस टिप्पणी से विवाद छिड़ गया। भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के कई कार्यकर्ता शुक्रवार को कांग्रेस के पुणे नगर मुख्यालय में घुस गये और हिंदुत्व विचारक वीडी सावरकर पर टिप्पणी के विरोध में राहुल गांधी की तस्वीरों पर कालिख पोतने की कोशिश की। पुलिस ने यह जानकारी दी।

 

पुणे में वीडी सावरकर के खिलाफ लगे पोस्टर पर बोले बीजेपी नेता, ‘अपमान नहीं सहेंगे’

 

शुक्रवार तड़के पुणे में सरसबाग के पास हिंदुत्व विचारक विनायक दामोदर सावरकर के स्मारक पर एक अपमानजनक पोस्टर दिखने के बाद पुणे में ताजा विवाद छिड़ गया है। पोस्टर में रोहन पाटिल और बलिराम डोले के नाम है, जो महाराष्ट्र में कांग्रेस पार्टी की युवा शाखा के पदाधिकारी हैं।

 

पोस्टर डेक्कन के पास सावरकर स्मारक के बाहर लगा था। स्थानीय भाजपा इकाई ने कर्वे रोड पर राहुल गांधी के खिलाफ प्रदर्शन की योजना बनाई थी, लेकिन सावरकर स्मारक के पास पोस्टर मिलने के बाद उन्होंने शिवाजीनगर में कांग्रेस भवन के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

 

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पोस्टर हटाने वाले नागरिक जितेंद्र वाघ ने कहा, ‘मैंने सुबह 8 बजे के करीब टेलीविजन पर सरसबाग के पास वीडी सावरकर स्मारक पर इस आपत्तिजनक पोस्टर के बारे में एक खबर देखी। मैं तुरंत वहां गया और उसे हटा दिया। सावरकर एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। इस पोस्टर को लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।”

 

एक नया सूरज बनकर | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

पुणे शहर के बीजेपी नेता दीपक नागपुरे ने आपत्तिजनक पोस्टर लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर स्वारगेट पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने कहा, “वीडी सावरकर एक राष्ट्रीय नायक हैं और उनकी वीरता, स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बलिदान और जातिवाद के खिलाफ सामाजिक कार्यों के लिए उनका सम्मान किया जाना चाहिए। हम उनका अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे।”

 

ये भी पढ़ें:

खाई में गाड़ी गिरने से 12 लोगों की मौत, उत्तराखंड के जोशीमठ में दर्दनाक हादसा | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

 

Related Articles

Back to top button