.

क्या चाह रहे राहुल गांधी; खुद आगे आ नहीं रहे और प्रियंका पर भी अड़ंगा, अटके कांग्रेस के संगठन चुनाव kya chaah rahe raahul gaandhee; khud aage aa nahin rahe aur priyanka par bhee adanga, atake kaangres ke sangathan chunaav

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में पार्टी के सामने चुनौतियां आती जा रही हैं। खबरें हैं कि पहले भी कमान संभाल चुके राहुल गांधी इस बार चीफ नहीं बनना चाह रहे। साथ ही कहा जा रहा है कि वह गांधी परिवार से बाहर के नेता को प्रमुख का पद पर चाहते हैं। अभी तक उम्मीदावारों के नामों को लेकर स्थिति साफ नहीं हो पाई है। इससे पहले मौजूदा अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी भी उदयपुर चिंतिन शिविर में यह बात कह चुकी हैं। 21 अगस्त से 20 सितंबर के बीच कांग्रेस प्रमुख का चुनाव हो सकता है।

 

कांग्रेस ने 20 अगस्त तक आंतरिक चुनाव प्रक्रिया पूरी कर ली है। 21 अगस्त से 20 सितंबर तक चुनाव का भी ऐलान हो चुका है, लेकिन कई प्रयासों के बाद भी राहुल गांधी ने अपना मत साफ नहीं किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चुनाव प्रक्रिया समय पर पूरी होने के लिए तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। इधर, सेंट्रल इलेक्शन अथॉरिटी के अध्यक्ष कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग का इंतजार कर रहे हैं, जो चेयरमैन के चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा करेगी।

 

‘क्या इन दो नामों तक सीमित है कांग्रेस’ -आनंद शर्मा

 

सूत्रों ने कहा कि राहुल अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं हैं और इसके चलते प्रक्रिया अटकती दिख रही है। खबर है कि पार्टी में उन्हें मनाने की कोशिशें जारी हैं। सूत्रों ने दावा किया है कि वह चाहते हैं कि अध्यक्ष गैर-गांधी को दिया जाए और इसलिए वह बहन प्रियंका गांधी वाड्रा को भी नामांकन करने से रोक रहे हैं। वहीं, सोनिया स्वास्थ्य संबंधी कारणों के चलते पद पर नहीं रहना चाहतीं।

सरकारी स्कूल की शिक्षा में गुणवत्ता में कमी के कारण और निदान sarakaaree skool kee shiksha mein gunavatta mein kamee ke kaaran aur nidaan
READ

 

अब समझें स्थिति

 

कांग्रेस राहुल को मनाने की कोशिश कर रही है और प्रियंका को दूसरे विकल्प के तौर पर देख रही है। सूत्र बताते हैं कि अगर ऐसा नहीं होता है तो सोनिया को पार्टी एकता के नाम पर 2024 तक पद पर बने रहने के लिए कहा जाएगा। वहीं, अगर उम्मीदवारी को लेकर परेशानी जारी रहती है तो अशोक गहलोत, मल्लिकार्जुन खड़गे, केसी वेणुगोपाल, कुमारी शैलजा और मुकुल वासनिक जैसे नेताओं के नाम पर सहमति बन सकती है।

 

 

 

 

What does Rahul Gandhi want? He himself is not coming forward and will also hit Priyanka, Congress organization elections stuck

 

 

New Delhi | [National Bulletin] | The party is facing challenges in the election of Congress President. There are reports that Rahul Gandhi, who has already taken over the command, is not looking to become the chief this time. It is also being said that he wants a leader from outside the Gandhi family for the post of chief. Till now the situation regarding the names of the candidates is not clear. Earlier, the current interim president Sonia Gandhi has also said this in the Udaipur Chintin Shivir. The election of the Congress chief is likely to be held between August 21 and September 20.

 

The Congress has completed the internal election process by August 20. Elections have also been announced from August 21 to September 20, but even after several attempts, Rahul Gandhi has not made his vote clear. According to media reports, preparations have been completed for the timely completion of the election process. Here, the chairman of the Central Election Authority is waiting for the meeting of the Congress Working Committee, which will announce the dates for the election of the chairman.

गोरखपुर में दिव्यांगजन, अभिभावकों के लिए कोविड टीकाकरण कैम्प व किरण पोस्टर का डीएम ने किया विमोचन | Newsforum
READ

 

‘Is Congress limited to these two names’ -Anand Sharma

 

Sources said that Rahul is not keen on contesting for the post of president and due to this the process seems to be stalled. It is reported that efforts are on to persuade him in the party. Sources have claimed that he wants the Speaker to be given to a non-Gandhi and hence he is preventing sister Priyanka Gandhi Vadra from filing nomination as well. At the same time, Sonia does not want to continue in the post due to health reasons.

 

now understand the situation

 

Congress is trying to persuade Rahul and is looking at Priyanka as another option. Sources say that if this does not happen, then Sonia will be asked to continue in the post till 2024 in the name of party unity. On the other hand, if the trouble regarding the candidature continues, then a consensus can be reached on the names of leaders like Ashok Gehlot, Mallikarjun Kharge, KC Venugopal, Kumari Selja and Mukul Wasnik.

 

 

 

 

Related Articles

Back to top button