.

पत्रकार रोहित रंजन पर भिड़ी छत्तीसगढ़ और यूपी की पुलिस, लिया हिरासत में patrakaar rohit ranjan par bhidee chhatteesagadh aur yoopee kee pulis, liya hiraasat mein

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | कांग्रेस नेता राहुल गांधी के एक बयान को गलत संदर्भ में प्रसारित करने के मामले में पत्रकार रोहित रंजन के घर पर छत्तीसगढ़ पुलिस मंगलवार सुबह पहुंच गई। इसके बाद गाजियाबाद से लेकर नोएडा तक हाईवोल्टेज ड्रामा हुआ और 2 राज्यों की पुलिस भिड़ती दिखीं। अंत में नोएडा की पुलिस ने रोहित रंजन को हिरासत में ले लिया। इससे पहले सुबह पत्रकार ने खुद ही ट्वीट कर घर पर छत्तीसगढ़ पुलिस के पहुंचने की जानकारी दी और यूपी पुलिस के अधिकारियों को टैग कर पूछा कि क्या यह नियमानुसार सही है।

 

इस पर यूपी पुलिस की ओर से जवाब दिया गया कि गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाने की पुलिस मौके पर है और नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ, एडीजी लखनऊ जोन और गाजियाबाद के एसएसपी को टैग करते हुए रोहित रंजन ने ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था, ‘बिना लोकल पुलिस को जानकारी दिए छत्तीसगढ़ पुलिस मेरे घर के बाहर मुझे अरेस्ट करने के लिए खड़ी है, क्या ये क़ानूनन सही है।’

 

इस पर गाजियाबाद पुलिस ने रिप्लाई करते हुए लिखा था, ‘प्रकरण स्थानीय पुलिस के संज्ञान में है। थाना इंदिरापुरम पुलिस मौके पर है। नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।’ यही नहीं रायपुर की पुलिस ने भी रोहित रंजन की ओर से बिना जानकारी के पहुंचने के आरोपों पर जवाब दिया और कहा कि ऐसा कोई नियम ही नहीं है।

 

रायपुर पुलिस ने लिखा, ‘ऐसा कोई नियम नहीं है कि आरोपी को जानकारी दी जाए। अब आपको जानकारी मिल गई है। पुलिस टीम ने आपको कोर्ट का वॉरंट दिखाया है। अब आपको इस मामले में सहयोग करना चाहिए, जांच में शामिल होना चाहिए और अपनी बात को अदालत में रखना चाहिए।’

45 साल के लंबे इंतजार के बावजूद जमीन का मुआवजा न मिलने पर नाराज शख्स ने उड़ा दी रेल लाइन; आतंकियों पर था शक, ऐसे पकड़े गए आरोपी | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

 

 

राहुल गांधी के बयान को गलत ढंग से चलाने पर मचा बवाल

 

बता दें कि 1 जुलाई को ‘जी न्यूज’ चैनल पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम डीएनए में एंकर रोहित रंजन ने राहुल गांधी के केरल में दिए गए एक बयान को उदयपुर की घटना से जोड़ दिया था। दरअसल राहुल गांधी ने वायनाड में अपने संसदीय कार्यालय में तोड़फोड़ करने वाले लोगों को माफ करने की बात कही थी और कहा था कि वे बच्चे हैं लेकिन टीवी के कार्यक्रम में उनके इस बयान को उदयपुर में कन्हैयालाल के हत्यारों से जोड़ दिया गया था।

 

 

टीवी कार्यक्रम में मांगी थी माफी, कहा था- मानवीय भूल हो गई है

 

इस पर कांग्रेस ने सख्त ऐतराज जताया था, जिसके बाद चैनल की ओर से कार्यक्रम के वीडियो का हिस्सा ट्विटर से डिलीट किया गया था। यही नहीं लाइव शो और ट्विटर समेत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर माफी भी मांगी गई थी। खुद पत्रकार रोहित रंजन ने भी अगले दिन इस मसले पर कार्यक्रम में माफी मांगी थी और गलती को मानवीय भूल बताया था।

नसबंदी कराने के बाद भी प्रेग्नेंट हुई महिला, डॉक्टर ने बताया क्यों सफल नहीं हुआ पति का ऑपरेशन | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

 

Police of Chhattisgarh and UP clashed on journalist Rohit Ranjan, taken into custody

 

New Delhi | [National Bulletin] | The Chhattisgarh Police reached the house of journalist Rohit Ranjan on Tuesday morning in connection with the misrepresentation of a statement of Congress leader Rahul Gandhi. After this high voltage drama took place from Ghaziabad to Noida and the police of 2 states were seen fighting. In the end, the Noida police took Rohit Ranjan into custody. Earlier in the morning, the journalist himself tweeted and informed about the arrival of Chhattisgarh Police at home and tagged the UP Police officials and asked if it was correct as per the rules.

 

On this, the reply was given by the UP Police that the police of Indirapuram police station of Ghaziabad is on the spot and action will be taken as per rules. Rohit Ranjan had tweeted tagging CM Yogi Adityanath, ADG Lucknow Zone and Ghaziabad SSP. He wrote, ‘Chhattisgarh Police is standing outside my house to arrest me without informing the local police, is this legally correct.’

 

Replying to this, the Ghaziabad Police wrote, ‘The matter is in the notice of the local police. Police station Indirapuram is on the spot. Action will be taken as per rules. Not only this, the Raipur police also responded to the allegations of Rohit Ranjan reaching without information and said that there is no such rule.

 

Raipur Police wrote, ‘There is no such rule that information should be given to the accused. Now you have got the information. The police team has shown you the warrant of the court. Now you should cooperate in this matter, join the investigation and put your point in the court.

सुप्रीम कोर्ट 'तारीख पे तारीख' कोर्ट बने... मैं नहीं चाहता- जस्टिस चंद्रचूड़ | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

 

Ruckus over Rahul Gandhi’s statement being misinterpreted

 

Let us tell you that in the program DNA, which was broadcast on ‘Zee News’ channel on July 1, anchor Rohit Ranjan had linked a statement given by Rahul Gandhi in Kerala to the Udaipur incident. In fact, Rahul Gandhi had spoken of forgiving those who vandalized his parliamentary office in Wayanad and said that they were children, but in a TV program his statement was linked to the killers of Kanhaiyalal in Udaipur.

 

 

Apology was sought in the TV program, said – a human mistake has been made

 

Congress had strongly objected to this, after which part of the video of the program was deleted from Twitter by the channel. Not only this, an apology was also apologized on social media platforms including live shows and Twitter. Journalist Rohit Ranjan himself had apologized on this issue the next day in the program and called the mistake a human error.

 

 

 

तू खुद चल too khud chal

 

Related Articles

Back to top button