.

पिता के नक्शेकदम पर चला बेटा, कभी नहीं निकाली सैलरी, खाते में धरे रह गए 70 लाख pita ke nakshekadam par chala beta, kabhee nahin nikaalee sailaree, khaate mein dhare rah gae 70 laakh

प्रयागराज | [उत्तर प्रदेश बुलेटिन] | ये कहानी है एक ऐसे शख्स की जिसने कभी खाते से सैलरी तक नहीं निकाली। पिता के नक्शेकदम पर बेटा भी चलता रहा। सरकारी नौकरी होने के बाद भी लोगों से पैसे मांगकर घर का खर्च चलाता था। उसको जिस गंभीर बीमारी ने जकड़ लिया था, उसका नाम था टीबी। खाते में 70 लाख रुपये थे, लेकिन फिर भी वह इलाज नहीं करा सका। शनिवार की देर रात उसकी टीबी के चलते मौत हो गई। घर में अब केवल 80 साल की उसकी मां बची है। और बैंक खाते में रह गए 70 लाख रुपए। उक्त मामला यूपी के प्रयागराज से सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान है।

 

प्रयागराज के करोड़पति सफाई कर्मचारी कहे जाने वाला धीरज जिला कुष्ठ रोग विभाग में स्वीपर के पद पर नौकरी करता था। वह करोड़पति है। इस बात का खुलासा इसी मई के महीने में तब हुआ था जब बैंक वाले धीरज को खोजते हुए कुष्ठ रोग विभाग पहुंचे थे। इसके बाद धीरज को करोड़पति स्वीपर कहकर लोग बुलाने लगे थे। धीरज ने यह संपत्ति अपने पिता और खुद की मेहनत से कमाई थी। धीरज को पिता सुरेश चंद्र जिला कुष्ठ रोग विभाग में सफाई कर्मचारी के पद पर कार्यरत थे। नौकरी में रहते उसकी मौत हो गई। इसके बाद दिसंबर 2012 में उसके पिता की नौकरी धीरज को मिल गई।

 

धीरज के पिता ने कभी खाते से नहीं निकाले रुपये

 

धीरज अपने पिता के नक्शे कदम पर चलता था। नौकरी में रहते हुए धीरज के पिता ने कभी खाते से अपनी सैलरी नहीं निकाली थी। वही हाल धीरज का भी था। पिता की जगह नौकरी पाए बेटे ने भी कभी धोखे से भी रुपये नहीं निकाले। घर का खर्च चलाने के लिए धीरज पिता की तरह ही सड़क पर चलते लोगों, विभागीय लोगों से रुपये मांगता रहता था। धीरज की मां को पेंशन मिलती थी, उससे भी धीरज घर खर्च चलाता था लेकिन कभी खाते से रुपये निकालने नहीं जाता था। लेकिन धीरज हर साल सरकार को इनकम टैक्स देता था।

 

न शादी की और न ही कोई शौक पाला

 

धीरज अस्पताल कैंपस में अपनी मां और एक बहन के साथ रहता था। शादी की बात करने पर वह वहां से भाग जाता था। उसे यह डर था कि कहीं कोई उसके रुपये न निकाल ले। धीरज दिमाग से कमजोर था, लेकिन वह ड्यूटी पर पूरी मेहनत करता था। खास बात यह है कि वह कभी छुट्टी नहीं लेता था।

 

 

 

 

Son followed in father’s footsteps, never got salary, 70 lakhs remained in the account

 

Prayagraj | [Uttar Pradesh Bulletin] | This is the story of a person who never took his salary out of his account. The son also followed in the footsteps of the father. Even after having a government job, he used to run the household expenses by asking people for money. The serious disease that caught him was named TB. 70 lakh rupees were in the account, but still he could not get treatment. He died of TB late on Saturday night. Now only his 80-year-old mother is left in the house. And 70 lakh rupees were left in the bank account. The said matter has come to light from Prayagraj in UP, which everyone is shocked to hear.

 

Dheeraj, who was called a millionaire sweeper of Prayagraj, used to work as a sweeper in the district leprosy department. He is a millionaire. This was revealed in the month of May when the bankers reached the leprosy department in search of Dheeraj. After this people started calling Dheeraj a millionaire sweeper. Dheeraj had earned this wealth from his father’s and his own hard work. Dheeraj’s father Suresh Chandra was working as a sweeper in the District Leprosy Department. He died while in the job. After this, in December 2012, Dheeraj got his father’s job.

 

 Dheeraj’s father never took money out of his account

 

Dheeraj followed in the footsteps of his father. While in the job, Dheeraj’s father had never withdrawn his salary from the account. The same was the case with Dheeraj. The son, who got a job in place of his father, never took out money even by fraud. Like his father, Dheeraj used to ask for money from people walking on the road, departmental people to run the household expenses. Dheeraj’s mother used to get a pension, Dheeraj used to run the household expenses from that too, but never used to go to withdraw money from the account. But Dheeraj used to pay income tax to the government every year.

 

 neither married nor had any hobby

 

Dheeraj lived with his mother and a sister in the hospital campus. When he talked about marriage, he used to run away from there. He was afraid that someone might take away his money. Dheeraj was weak in mind, but he worked hard on duty. The special thing is that he never took leave.

 

 

तीर्थनगरी ओंकारेश्वर में लड़की का हाथ पकड़ साधु करने लगा गंदी हरकत, गिरफ्तार teerthanagaree onkaareshvar mein ladakee ka haath pakad saadhu karane laga gandee harakat, giraphtaar

 

Related Articles

Back to top button