.

कांग्रेस पार्टी चीफ इलेक्शन को लेकर स्थिति साफ, थरूर-त्रिपाठी-खड़गे ने भरा पर्चा, त्रिकोणीय मुकाबला | ऑनलाइन बुलेटिन

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव को लेकर स्थिति अब साफ होती दिख रही है। सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, सांसद शशि थरूर और झारखंड कांग्रेस नेता केएन त्रिपाठी ने पार्टी चीफ के लिए नॉमिनेशन फाइल किया है। ऐसे में कांग्रेस की टॉप पोस्ट के लिए त्रिकोणीय मुकाबले के आसार नजर आ रहे हैं। थरूर ने आज दोपहर AICC ऑफिस पहुंचकर अपना नॉमिनेशन फाइल किया। इसके बाद उन्होंने कहा कि खड़गे साहब का बहुत सम्मान करता हूं। मैंने किसी को नीचा दिखाने के लिए ऐसा नहीं किया है। अगर कई लोग नामांकन दाखिल करेंगे तो अच्छी बात है और लोगों को भी विकल्प मिलेगा। हमें एकसाथ काम करने की जरूरत है। मुझे लगता है कि वे हमारी पार्टी के भीष्म पितामह हैं।

 

वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने शुक्रवार को पार्टी अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन दाखिल किया। उनकी उम्मीदवारी के प्रस्तावकों में पार्टी नेता अशोक गहलोत, दिग्विजय सिंह, प्रमोद तिवारी, पी एल पुनिया, ए के एंटनी, पवन कुमार बंसल और मुकुल वासनिक शामिल रहे। कांग्रेस में बदलाव की वकालत करने वाले जी23 समूह के नेता आनंद शर्मा और मनीष तिवारी भी खड़गे के नामांकन के प्रस्तावकों में शामिल थे। तिवारी ने कहा कि खड़गे पार्टी के सबसे अनुभवी नेताओं में शामिल हैं और दलित भी हैं।

 

झारखंड कांग्रेस नेता केएन त्रिपाठी ने भी पार्टी अध्यक्ष पद के लिए पर्चा भरा है। नॉमिनेशन के बाद उन्होंने कहा कि पार्टी नेताओं के फैसले का सम्मान किया जाएगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव लड़ने के लिए वह कितने गंभीर हैं और क्या पार्टी आलाकमान से इस संबंध में कोई बातचीत हुई है, यह पूछे जाने पर त्रिपाठी ने कहा कि कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र है। आंतरिक लोकतंत्र का यह तकाजा है कि एक किसान का बेटा अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ सकता है। भाजपा में ऐसा संभव नहीं है।

'सब सो जाएं तब आना', चॉकलेट देकर एक नहीं कई बार रेप; चार्जशीट में लिंगायत संत शिवमूर्ति पर कई खुलासे, हॉस्टल वार्डन की भी थी मिलीभगत | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

दिग्विजय सिंह अध्यक्ष पद के लिए चुनाव से पीछे हटे

 

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह आज ही पार्टी चीफ के चुनाव से पीछे हट गए। उन्होंने कहा कि वह पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे, बल्कि अपने सहयोगी मल्लिकार्जुन खड़गे के नामांकन में प्रस्तावक बनेंगे। सिंह ने कहा कि उन्होंने पूरी जिंदगी कांग्रेस के लिए काम किया है और आगे भी करते रहेंगे।

 

गहलोत पहले ही चुनाव नहीं लड़ने की कर चुके घोषणा

 

मालूम हो कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी। इसके बाद सिंह ने चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर करते हुए नामांकन पत्र के 10 ‘सेट’ लिए थे। कांग्रेस के ‘एक व्यक्ति, एक पद’ नियम के तहत गहलोत से चुनाव लड़ने के लिए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने को कहा गया था।

 

अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए 17 अक्टूबर को मतदान

 

अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) के नई दिल्ली स्थित मुख्यालय के प्रांगण में एक तंबू लगाया गया है, जहां पार्टी के नेता दोपहर 11 बजे से दोपहर 3 बजे के बीच अपना नामांकन पत्र दाखिल कर सकते हैं। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मतदान 17 अक्टूबर को होगा और इसके परिणाम 19 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

 

 

ये भी पढ़ें

 

बापूजी | ऑनलाइन बुलेटिन

 

Related Articles

Back to top button