.

8 अरब की दुनिया के आगे ये 5 बड़ी चुनौतियां; भुखमरी, गरीबी और बुढ़ापा… संकट कितना गंभीर, पढ़ें | ऑनलाइन बुलेटिन

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | दुनिया की आबादी में चीन, भारत, पाकिस्तान, ब्राजील जैसे देशों का अहम योगदान है। लेकिन यह भी चिंता की बात है कि इतनी बड़ी आबादी को कैसे बेहतर जिंदगी मिलेगी और यदि आबादी पर तत्काल ब्रेक ही लग जाए तो भी असंतुलन का खतरा है। ऐसा होने पर अगले कुछ दशकों में दुनिया में बुजुर्गों की आबादी बहुत अधिक होगी और वर्कफोर्स में बड़ी गिरावट आएगी।

 

दुनिया में इंसानों की आबादी अब 8 अरब के पार पहुंच गई है। 1950 में जिस संसार में इंसानों की संख्या 2.5 अरब ही थी, वह अब 3 गुने से भी ज्यादा हो गई है। यही नहीं संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि यह आंकड़ा 2086 तक 10.6 अरब तक जा सकता है।

 

फिलहाल, आइए जानते हैं, कैसे आबादी का असंतुलन दुनिया में पैदा करेगा समस्याएं…

 

दुनिया में बढ़ रही गैरबराबरी

 

एक तरफ दुनिया में आबादी बढ़ रही है तो वहीं दूसरी तरफ गैर-बराबरी में भी इजाफा हो रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के 10 फीसदी अमीर लोगों के पास 76 पर्सेंट की संपदा है। इन लोगों के पास दुनिया की कुल कमाई का 52 फीसदी हिस्सा आता है। वहीं दुनिया के 50 फीसदी लोगों के पास महज 8.5 पर्सेंट की ही दौलत है, जबकि सबसे अमीर 10 फीसदी लोग 48 पर्सेंट कार्बन उत्सर्जन करते हैं।

 

वहीं इसका नुकसान गरीबों को उठाना पड़ता है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक औसत अमेरिकी लोगों की कमाई अफ्रीकी लोगों के मुकाबले 16 गुना अधिक है। आज दुनिया की 71 फीसदी आबादी उन देशों में रहती है, जहां गैरबराबरी बहुत ज्यादा है। इन देशों में भारत भी शामिल है।

MP Breaking : व्यापारी के नाम से किसी और ने लिया 10 करोड़ का लोन, शिकायत mp braiaking : vyaapaaree ke naam se kisee aur ne liya 10 karod ka lon, shikaayat
READ

 

82 करोड़ लोगों के पास भोजन की किल्लत

 

दुनिया में आज भी 82 करोड़ लोग दो वक्त की रोटी भी नहीं जुटा पा रहे। यूक्रेन के युद्ध ने खाद्यान्न और ऊर्जा के संकट में और इजाफा कर दिया है। इसका सबसे ज्यादा असर विकासशील देशों पर ही पड़ रहा है। 1.4 करोड़ बच्चे ऐसे हैं, जो गंभीर रूप से कुपोषण के शिकार हैं।

 

दुनिया भर में मरने वाले बच्चों में 45 फीसदी वे होते हैं, जो भूख और अन्य कारणों से मर जाते हैं। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक 2019 से 2022 के दौरान 15 करोड़ लोग भुखमरी के शिकार हो गए। भुखमरी का गरीबी से सीधा ताल्लुक है। 2021 के आंकड़ों के मुताबिक दुनिया भऱ में 69 करोड़ लोग यानी 9 फीसदी आबादी अत्यधिक गरीबी का शिकार है।

 

प्राकृतिक आपदाओं ने भी बढ़ाया है संकट

 

प्राकृतिक आपदाएं बीते कुछ वक्त से बढ़ी हैं। कार्बन उत्सर्जन में इजाफा होने और तापमान बढ़ने से बाढ़, तूफान और सूखे जैसे संकट आ रहे हैं। हर दिन इन आपदाओं के चलते 115 लोगों की मौत पूरी दुनिया में हो रही है। हालांकि वॉर्निंग सिस्टम मजबूत होने और डिजास्टर मैनेजमेंट बेहतर होने के चलते लोगों की मौतों की संख्या में कमी आई है।

 

2050 तक हर 10 में से 7 लोग शहरों में होंगे

 

दुनिया भर में शहरीकरण में तेजी से इजाफा हुआ है। अमेरिका, चीन, भारत जैसे देश तेजी से शहरीकरण की ओर हैं। दुनिया की करीब 56 फीसदी आबादी यानी 4.4 अरब लोग आज शहरों में आते हैं। अनुमान है कि 2050 में हर 10 में से 7 लोग शहरों में रहेंगे।

देखें वीडियो, कांग्रेस विधायक बीच सड़क जल सत्याग्रह पर बैठीं, सड़क को दुरुस्त करने की मांग | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

इसका अर्थ हुआ कि 8 अरब में से करीब 6 अरब लोग शहरों में बस जाएंगे। यह भी एक मुश्किल है और लोगों को स्वास्थ्य, भोजन, रोजगार जैसी चीजें मुहैया कराना मुश्किल हो रहा है। कहा जा रहा है कि इस मामले में अगले 25 साल बेहद चुनौतीपूर्ण होंगे।

 

जब बुजुर्गों की आबादी होगी किशोरों के बराबर

 

भारत, चीन समेत दुनिया के कई देश आबादी को नियंत्रित करके के प्रयास में हैं। हालांकि इस बीच एक संकट यह है कि आने वाले समय में अधिक उम्र वाले लोगों की संख्या में बड़ा इजाफा होगा। 2050 तक युवाओं से ज्यादा आबादी बुजुर्गों की होगी।

 

65 साल या उससे अधिक आयु वाले लोगों की संख्या 5 साल से कम के बच्चों के मुकाबले ज्यादा होगी। वहीं 12 साल की आबादी वाले किशोरों के मुकाबले उनकी संख्या बराबर की होगी। हालांकि एक अच्छा पहलू यह होगा कि 2050 तक इंसान की औसत आयु 77.2 साल होगी।

 

ये भी पढ़ें: 

कांग्रेस के नेता माधव सिंह सोलंकी का नरेन्द्र मोदी भी नहीं तोड़ पाए रिकॉर्ड, गुजरात में आज भी भाजपा का सपना | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

Related Articles

Back to top button