.

5 साल से बोर्ड एग्जाम में 100 फीसदी रिजल्ट, पढ़ें छत्तीसगढ़ के इस सरकारी स्कूल की कहानी 5 saal se bord egjaam mein 100 pheesadee rijalt, padhen chhatteesagadh ke is sarakaaree skool kee kahaanee

कवर्धा | [छत्तीसगढ़ बुलेटिन] | छत्तीसगढ़ के कवर्धा में एक सरकारी स्कूल ने मिसाल कायम की है। जब सरकारी स्कूलों की बात आती है तो अक्सर सुविधाओं के अभाव और लचर हालात की तस्वीर उभरती है लेकिन यह स्कूल पिछले एक-दो नहीं, बल्कि 5 साल से लगातार बोर्ड एग्जाम में 100 फीसदी रिजल्ट दे रहा है। यह स्कूल कवर्धा जिले के कपदह गांव में स्थित है।

 

इस साल भी यहां से हाईस्कूल के 150 और इंटरमीडिएट के 86 स्टूडेंट फर्स्ट डिवीजन से पास हुए हैं।

 

यह है सफलता का राज

 

स्कूल के छात्रों की सफलता के पीछे का राज यहां के अध्यापकों की कड़ी मेहनत है। स्कूल प्रशासन के मुताबिक सभी अध्यापक बिना अब्सेंट किए स्कूल आते हैं और छात्रों को समर्पण के साथ पढ़ाते हैं। स्कूल में बहुत कम छुट्टियां होती हैं और केवल होली व दीवाली पर ही स्कूल पूरी तरह से बंद होता है।

 

इसके अलावा अन्य छुट्टियों के दौरान बच्चों की पढ़ाई जारी रहती है। वहीं सभी बच्चों पर खास ध्यान दिया जाता है और उनके सभी सवालों के जवाब दिए जाते हैं। स्कूल के प्रिंसिपल रूपचंद जायसवाल ने बताया कि हम छात्रों को सभी सुविधाएं मुहैया कराते हैं।

 

इसके अलावा हम इस बात का भी ख्याल रखते हैं कि छात्र हर रोज क्लास अटेंड करें। उन्होंने बताया कि क्लास में कमजोर छात्रों की पहचान कर उनके ऊपर विशेष ध्यान दिया जाता है।

 

27 गांव से आते हैं सैकड़ों बच्चे

 

कपदह पंडरिया ब्लॉक से 10 किमी दूर है। यहां पर इस स्कूल की शुरुआत साल 2012 में हुई थी। तब यहां पर केवल 19 छात्र और 3 अध्यापक थे। तब से अब तक अध्यापकों, स्कूल प्रशासन और अधिकारियों ने इस स्कूल को खड़ा करने में काफी मेहनत की है।

तेंदू भाटा में आयोजित क्रिकेट मैच में भाटापारा प्रथम, राजाढार की टीम द्वितीय l ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

बुनियादी सुविधाओं के अभाव, तेज बारिश और अन्य तरह की मुश्किलों से पार पाते हुए आज यह स्कूल अपने आप में एक मिसाल बन चुका है। यहां पर आसपास के कुल 27 गांवों से सैकड़ों बच्चे हर रोज शिक्षा ग्रहण करने पहुंचते हैं।

 

 

 

 

 

100% result in board exam for 5 years, read the story of this government school in Chhattisgarh

 

Kawardha | [Chhattisgarh Bulletin] | A government school in Kawardha, Chhattisgarh has set an example. When it comes to government schools, often the picture of lack of facilities and poor condition emerges, but this school is giving 100 percent results in board exams continuously for 5 years, not last one or two. This school is located in Kapadah village of Kawardha district.

 

This year also 150 students of high school and 86 students of intermediate have passed from first division.

 

 this is the secret of success

 

The secret behind the success of the students of the school is the hard work of the teachers here. According to the school administration, all the teachers come to the school without attendance and teach the students with dedication. There are very few holidays in the school and only on Holi and Diwali the school is completely closed.

छत्तीसगढ़ का तीसरे साल भी विश्व की सबसे बड़ी स्वच्छता प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्शन l Onlinebulletin
READ

 

Apart from this, during other holidays, the education of the children continues. At the same time, special attention is given to all the children and all their questions are answered. School principal Roopchand Jaiswal said that we provide all facilities to the students.

 

Apart from this, we also take care that the students attend class everyday. He told that special attention is given to weak students in the class by identifying them.

 

 Hundreds of children come from 27 villages

 

Kapadah is 10 km away from Pandariya block. This school was started here in the year 2012. Then there were only 19 students and 3 teachers. Since then, teachers, school administration and officials have worked hard to make this school stand out.

 

Today this school has become an example in itself, overcoming the lack of basic facilities, heavy rains and other difficulties. Hundreds of children from a total of 27 surrounding villages reach here every day to get education.

 

 

 

 

 

 

कवि गुरुदीन वर्मा बहू प्रतिभाशाली हैं kavi gurudeen varma bahoo pratibhaashaalee hain

 

 

Related Articles

Back to top button