.

रायपुर-बिलासपुर हाईवे में पिता-पुत्री की मौत, बेटी को इंटरव्यू दिलवाने लेकर जा रहा था raayapur-bilaasapur haeeve mein pita-putree kee maut, betee ko intaravyoo dilavaane lekar ja raha tha

रायपुर | [छत्तीसगढ़ बुलेटिन] | राज्य के रायपुर- बिलासपुर नेशनल हाईवे में सांकरा गांव के पास गुरुवार को सड़क हादसे में पिता-पुत्री की मौत हो गई। पीछे से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार पिता-पुत्री को चपेट में लिया। ट्रक के पहियों के नीचे आने से निगाम सिंह कुर्रे (55 वर्ष) उसकी बेटी विद्या कुर्रे (23 वर्ष) की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। पिता अपनी बेटी को इंटरव्यू दिलवाने कॉलेज लेकर जा रहा था। सूचना पर पहुंची धरसीवां पुलिस ने शवों को मरच्युरी भिजवाया। हाईवे किनारे खड़े बेतरतीब वाहनों और अवैध कब्जों की वजह से हादसा होना बताया जा रहा है। दुर्घटना के बाद स्थानीय लोगों में आक्रोश भी दिखा। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच कर रही है।

 

टीआई ने बताया कि बालोद जिले के ग्राम सुखरी थाना-रनचिरई निवासी निगाम सिंह कुर्रे (55 वर्ष) उसकी बेटी विद्या कुर्रे (23 वर्ष) की मौत हुई है। पिता अपनी बेटी को लेकर बिलासपुर के रावतपुरा सरकार कॉलेज में इंटरव्यू दिलाने जा रहे थे। बाइक क्रमांक सीजी 07 एल 9451 को निगाम सिंह चला रहा था और पीछे उसकी बेटी विद्या बैठी थी।

 

सिक्स लेन हाईवे को जोड़ने वाले टाटीबंध ओवर ब्रिज़ पार करते ही पीछे से आ रही तेज रफ्तार ट्रक ने पिता-पुत्री को अपनी चपेट में ले लिया। हादसे के बाद दोनों ट्रक में फंसकर घसीटते हुए कुछ दूर तक गए। उसके बाद पहिये के नीचे कुचलने से दोनों की मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने क्षत-विक्षत शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।

 

 हाईवे किनारे बेतरतीब पार्किंग से हो रहे हादसे

 

छत्तीसगढ़ : किराए का कमरा दिलाने गई 44 साल की सास के साथ दामाद ने किया दुष्कर्म का प्रयास | newsforum
READ

सिक्स लेन सड़क निर्माण के समय सांकरा से सिलतरा तक हाइवे किनारे मौजूद सभी दुकानदारों को जमीनों का भरपूर मुआवजा दिया गया है। मुआवजा राशि मिलने के बाद दुकानदारों ने फिर सर्विस रोड के किनारे दुकानें तान रखी है। वाहनों की पार्किंग भी सड़क पर हो रही है।

 

ऊपर से हाईवे में चलने वाली भारी वाहन भी सड़क किनारे वाहनों को खड़ा कर देते हैं, जिससे कई हादसे हो चुके हैं। लगातार दुर्घटनाओं के बाद न स्थानीय लोग सुधर रहे हैं और न ही प्रशासन और नेशनल हाईवे अथॉरिटी इस ओर ध्यान दे रहा है। भारी वाहनों के सड़क किनारे खड़े होने के कारण कई हादसे हो चुके हैं।

 

 

Father-daughter died in Raipur-Bilaspur highway, was taking daughter to get interview

 

 

Raipur | [Chhattisgarh Bulletin] | Father and daughter died in a road accident on Thursday near Sankara village on Raipur-Bilaspur National Highway in the state. The speeding truck coming from behind hit the father and daughter riding the bike. Nigam Singh Kurre (55 years) his daughter Vidya Kurre (23 years) died on the spot after coming under the wheels of the truck. The father was taking his daughter to the college for an interview. Dharsiwan police reached the information and sent the dead bodies to the mortuary. The accident is said to have happened due to haphazard vehicles parked on the side of the highway and illegal encroachments. There was also outrage among the local people after the accident. At present, the police is investigating the matter.

 

बंद को सफल बनाने सर्व आदिवासी समाज व छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना सड़क पर उतरे band ko saphal banaane sarv aadivaasee samaaj va chhatteesagadhiya kraanti sena sadak par utare
READ

TI said that Nigam Singh Kurre (55 years) resident of village Sukhari police station-Ranchirai in Balod district, his daughter Vidya Kurre (23 years) has died. The father was going to take his daughter for an interview at Rawatpura Government College in Bilaspur. Nigam Singh was driving the bike number CG 07 L 9451 and his daughter Vidya was sitting behind.

 

As soon as crossing the Tatibandh over bridge connecting the six-lane highway, a speeding truck coming from behind caught the father and daughter. After the accident, both of them got stuck in the truck and dragged them for some distance. After that both of them died after being crushed under the wheel. On information, the police sent the mutilated bodies for post-mortem.

 

  Accidents due to random parking on the side of the highway

 

At the time of construction of six lane road, all the shopkeepers present along the highway from Sankara to Siltra have been given full compensation for the land. After getting the compensation amount, the shopkeepers have again set up shops along the service road. Parking of vehicles is also happening on the road.

 

Heavy vehicles moving in the highway from above also park the vehicles on the side of the road, due to which many accidents have happened. After frequent accidents, neither the local people are improving nor is the administration and the National Highway Authority paying attention to it. There have been many accidents due to heavy vehicles parked on the side of the road.

स्कूल हो गया चोरी, आदिवासी 10 वर्षों से ढूंढ रहे, थानेदार से गुहार; शाला भवन ढूंढकर दीजिये skool ho gaya choree, aadivaasee 10 varshon se dhoondh rahe, thaanedaar se guhaar; shaala bhavan dhoondhakar deejiye
READ

 

 

©नवागढ़ मारो से धर्मेंद्र गायकवाड़ की रपट 

 

छत्तीसगढ़ के इस जिले में बाघ की धमक से गांवों में दहशत, दर्जनभर पशुओं का शिकार chhatteesagadh ke is jile mein baagh kee dhamak se gaanvon mein dahashat, darjanabhar pashuon ka shikaar

 

Related Articles

Back to top button