.

सिविल सर्जन को हटाने से नाराज डॉक्टरों ने OPD में जड़ा ताला, स्वास्थ्य सेवाएं ठप sivil sarjan ko hataane se naaraaj doktaron ne opd mein jada taala, svaasthy sevaen thap

धमतरी | [छत्तीसगढ़ बुलेटिन] | जिले में सरकारी डॉक्टरों ने मोर्चा खोल दिया है। सिविल सर्जन को हटाने को लेकर डॉक्टरों में भारी आक्रोश है। नाराज डॉक्टरों ने OPD सहित सभी स्वास्थ्य सेवाओं को ठप कर दिया है। जिला अस्पताल की ओपीडी में ताला जड़ दिया है। काम बंद कर डॉक्टर सहित पूरा जिला अस्पताल का स्टाफ CMHO दफ्तर के सामने जाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। डॉक्टरों और स्वास्थ्य स्टाफ के अस्पताल से बाहर निकलने के कारण मरीजों को की परेशानी बढ़ गई है। नाराज डॉक्टर सीएम व स्वास्थ्य मंत्री से मिलने की बात भी कही है।

 

दरअसल, जिले में एक नवविवाहिता की 5 दिन पुरानी लाश के पोस्टमार्टम को लेकर डाक्टरों पर दबाव बनाया। पोस्टमार्टम नहीं करने पर सिविल सर्जन डा. यूएल कौशिक को कलेक्टर ने हटा दिया गया। डॉक्टर को हटाने की जानकारी मिलते ही शनिवार को अस्पताल के सभी डॉक्टर और कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। इमरजेंसी को छोड़कर सभी सेवाएं ठप है। ओपीडी बंद होने से पंजीयन भी नहीं हो रहा है।

 

आरएमओ डॉ. राकेश सोनी ने बताया कि नवविवाहिता की सड़ी गली लाश केरेगांव थाना क्षेत्र से पोस्टमार्टम के लिए लाया गया था। लाश का पोस्टमार्टम यहां संभव नहीं था। इधर कलेक्टर का कहना है कि पोस्टमार्टम को लेकर कोई बात ही नहीं है। अस्पताल से संबंधित कार्यों को नहीं कराने व देरी पर उन्हें हटाया गया है।

 

डॉक्टरों ने बताया कि 5 डाक्टरों की टीम बनाई गई थी, लेकिन फॉरेंसिंग एक्सपर्ट की टीम नहीं होने के कारण शव को मेकाहारा रायपुर भेजा गया। डॉक्टरों का आरोप है कि कलेक्टर पीएस एल्मा और एसपी प्रशांत ठाकुर धमतरी अस्पताल में पोस्टमार्टम करने दबाव बनाते रहे। डॉक्टरों द्वारा पीएम के लिए तैयार नहीं होने पर कलेक्टर ने सिविल सर्जन डॉ. यूएल कौशिक को हटाकर किसी दूसरे को प्रभार दे दिया है।

 

इस बात की जानकारी जैसे ही जिला अस्पताल के डॉक्टरों व स्टाफ को हुई सभी काम छोड़कर CMHO दफ्तर पहुंच गए। डॉक्टरों व स्टाफ ने काम बंद कर दिया है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं चल रही है। डॉक्टरों का कहना है कि सिविल सर्जन को वापस नहीं लिया जाता, तब तक विरोध जारी रहेगा।

 

 

 

Angered by the removal of the civil surgeon, the doctors locked in the OPD, health services came to a standstill

 

 

Dhamtari | [Chhattisgarh Bulletin] | Government doctors have opened a front in the district. There is a lot of resentment among the doctors about the removal of the civil surgeon. Angry doctors have stopped all health services including OPDs. The OPD of the district hospital has been locked. After stopping the work, the entire district hospital staff including the doctors are protesting in front of the CMHO office. The suffering of patients has increased due to the doctors and health staff coming out of the hospital. The angry doctor has also spoken of meeting the CM and the Health Minister.

 

In fact, in the district, pressure was placed on the doctors regarding the post-mortem of a 5-day-old dead body of a newlywed. Civil surgeon Dr. UL Kaushik was removed by the collector for not doing the post-mortem. On getting information about the removal of the doctor, all the doctors and employees of the hospital went on strike on Saturday. All services are suspended except emergency. Due to the closure of OPD, registration is also not taking place.

 

RMO Dr. Rakesh Soni told that the rotten corpse of the newlyweds was brought from Keregaon police station area for post-mortem. Postmortem of the dead body was not possible here. Here the collector says that there is no talk about the post-mortem. They have been removed for not getting the works related to the hospital and delay.

 

Doctors told that a team of 5 doctors was formed, but due to lack of team of forensing experts, the body was sent to Mekahara Raipur. Doctors allege that Collector PS Elma and SP Prashant Thakur kept pressurizing Dhamtari Hospital to do the post-mortem. When the doctors were not ready for the PM, the collector removed the civil surgeon Dr. UL Kaushik and gave the charge to someone else.

 

As soon as the information about this, the doctors and staff of the district hospital left all the work and reached the CMHO office. Doctors and staff have stopped working. Only emergency services are running. Doctors say that until the Civil Surgeon is not withdrawn, the protest will continue.

 

 

©नवागढ़ मारो से धर्मेंद्र गायकवाड़ की रपट   

शिनरीन योकू: जापानी कला और हीलिंग का विज्ञान shinareen yokoo: jaapaanee kala aur heeling ka vigyaan

 

 

Related Articles

Back to top button