.

भारत की पहली डिजिटल लोक अदालत 13 अगस्त से शुरू होगी, 2 राज्यों की बड़ी पहल bhaarat kee pahalee dijital lok adaalat 13 agast se shuroo hogee, 2 raajyon kee badee pahal

जयपुर | [कोर्ट बुलेटिन] | Digital Lok Adalat: आरएसएलएसए (राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण) और एमएसएलएसए (महाराष्ट्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण) द्वारा 13 अगस्त को भारत की पहली पूर्ण डिजिटल लोक अदालत का आयोजन किया जाएगा।

 

इस लोक अदालत के डिजिटलीकरण से आम लोगों को अपने घरों में आराम से न्याय प्राप्त करने में सुविधा होगी। देश भर की विभिन्न अदालतों में बढ़ते मामले को देखते हुए यह भारतीय न्यायिक प्रणाली के इतिहास में एक मील का पत्थर साबित होगा।

 

जानें क्या है डिजिटल लोक अदालत

 

बता दें कि भारत की पहली एआई-पावर्ड, आधुनिक डिजिटल लोक अदालत का उद्घाटन राजस्थान के जयपुर में आयोजित 18वें अखिल भारतीय कानूनी सेवा प्राधिकरण बैठक के दौरान NALSA के चेयरमैन यूयू ललित द्वारा किया गया था। इसके बाद इसकी लॉन्चिंग महाराष्ट्र में भी की गई थी।

 

यह अदालत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से संचालित होने वाली पहली अदालत है। डिजिटल लोक अदालत को यूपीटी जस्टिस टेक्नोलॉजी द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है।

 

यह डिजिटलाइजेशन न केवल एमएसएलएसए को अपने बैक-एंड प्रशासनिक कार्य को आसान बनाने में मदद करेगा, बल्कि आम लोगों के लिए भी फायदेमंद होगा।

 

 

 

India’s first digital Lok Adalat will start from August 13, a big initiative of 2 states

 

 

Jaipur | [Court Bulletin] | Digital Lok Adalat: India’s first fully digital Lok Adalat will be organized by RSLSA (Rajasthan State Legal Services Authority) and MSLSA (Maharashtra State Legal Services Authority) on 13th August.

 

Digitization of this Lok Adalat will facilitate common people to get justice from the comfort of their homes. This will prove to be a milestone in the history of the Indian judicial system considering the increasing number of cases in various courts across the country.

 

 Know what is Digital Lok Adalat

 

Let us inform that India’s first AI-powered, modern digital Lok Adalat was inaugurated by UU Lalit, Chairman, NALSA during the 18th All India Legal Services Authority meeting held in Jaipur, Rajasthan. After this it was also launched in Maharashtra.

 

This court is the first court to be operated with Artificial Intelligence. Digital Lok Adalat is designed and developed by UPT Justice Technology.

 

This digitization will not only help MSLSA to ease its back-end administrative work, but will also be beneficial for the common people.

 

 

साध्वियों से गैंगरेप मामले में स्वामी सच्चिदानंद उर्फ दयानंद को नहीं मिली जमानत saadhviyon se gaingarep maamale mein svaamee sachchidaanand urph dayaanand ko nahin milee jamaanat

 

Related Articles

Back to top button