.

मुस्लिमों पर भी लागू होता है POCSO ऐक्ट, नाबालिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाना अपराध, अगर दोनों में से एक भी नाबालिग तो शादी नहीं होगा मान्य, किसी भी समुदाय को इससे नहीं किया जा सकता बाहर | ऑनलाइन बुलेटिन

तिरुवनंतपुरम | [कोर्ट बुलेटिन] | केरल हाई कोर्ट ने बाल विवाह और मुस्लिम पर्सनल लॉ को लेकर बड़ी बात कही है। एक आरोपी की जमानत याचिका पर सुनवायी करते हुए कोर्ट ने कहा कि अगर आरोपी मुस्लिम है तब भी उसपर पॉक्सो (POCSO) ऐक्ट लागू होगाकिसी भी समुदाय को इससे बाहर नहीं किया जा सकता। अगर कोई भी शख्स अपनी नाबालिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसपर यह पॉक्सो (POCSO) ऐक्ट लागू होता है।

 

जस्टिस बाचू कुरियन थॉमस की सिंगल बेंच ने शुक्रवार को कहा कि अगर कोई भी पार्टी नाबालिग है तो पॉक्सो (POCSO) ऐक्ट लागू होता है। कोर्ट ने आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी।

 

दरअसल 31 साल के शख्स ने एक नाबालिग लड़की से रेप किया था। इसके बाद उसने शादी भी कर ली थी। आरोप है कि उसने लड़की को किडनैप किया और फिर रेप किया। बाद में दबाव में शादी की। आरोपी की तरफ से कहा गया कि उसने कानूनी तरीके से शादी की है और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इसकी इजाजत देता है।

 

आरोपी ने कहा कि उनके समुदाय में 18 साल की उम्र की बाध्यता नहीं है। इसलिए पॉक्सो (POCSO) ऐक्ट के तहत सजा नहीं दी जा सकती। उसने कहा कि पीड़िता के साथ मार्च 2021 में शादी कर ली थी और पर्सनल लॉ के मुताबिक वे दोनों पति-पत्नी हैं। उसने हरियाणा, दिल्ली और कर्नाटक हाई कोर्ट के कई फैसलों का उदाहरण भी दिया; हालांकि यह काम नहीं कर सका।

 

जस्टिस कुरियन ने कहा, अगर दोनों में से एक भी पार्टी नाबालिग है तो शादी मान्य नहीं होगा और यह पॉक्सो (POCSO) ऐक्ट के तहत आता है। दूसरे कोर्ट के फैसलों को लेकर उन्होंने कहा कि दूसरे फैसलों से मैं इत्तेफाक नहीं रखता हूं। कोर्ट ने कहा कि पॉक्सो (POCSO) ऐक्ट काफी सोच समझकर बनाया गाय था। यह बाल विवाह और बाल यौन शोषण के खिलाफ है।

पत्नी की मौत के बाद 11 साल की बेटी से 3 वर्षों तक दुष्कर्म करने वाले पिता को उम्र कैद patnee kee maut ke baad 11 saal kee betee se 3 varshon tak dushkarm karane vaale pita ko umr kaid
READ

 

इस हिसाब से शादी होने के बाद भी किसी नाबालिग से शारीरिक संबंध बनाना अपराथ है। बाल विवाह के बाद नाबालिग के विकास पर प्रभाव पड़ता है। यह समाज के लिए अभिशाप है। यह तर्क देते हुए कोर्ट ने आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी।

 

ये भी पढ़ें:

आरी से बाथरुम में 6 टुकड़े किए फिर अलग- अलग इलाकों में फेंका, पत्नी ने बेटे संग मिलकर की पति की हत्या: तालाब में मिला सिर, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप | ऑनलाइन बुलेटिन

 

Related Articles

Back to top button