.

साइकिल saikil

©राजेश मधुकर (शिक्षक) 

परिचय– कोरबा, छत्तीसगढ़.


विश्व साइकिल दिवस विशेष

 

छोटकन म साइकिल के सिखाई

गोडबोजवा साइकिल के चलाई

चलात-चलात बड़ रद्दा के गिराई

देख के गिराई हमर सबके हँसाई

हमन के चलात देख उकर चिढ़ाई

तभो ले हमर साइकिल के चलाई

घर आतेन त हाथ-गोड़ के पिराई

होत बिहनिहा साइकिल के दौडाई

साइकिल के कतका करन बड़ाई

साइकिल चलाये बर छोड़न पढ़ाई

बईठ साइकिल म गाँव भर घुमाई

अब नदावत हे साइकिल के चलाई

चला फेर अपन बचपन ल बुलाई

जुर मिल के सबो साइकिल चलाई

 

 

Rajesh Kumar Madhukar

 

Cycle

 

world bicycle day special

 

 

I taught bicycles in Chotkan
Godbojwa drives a bicycle
Huge scrap felling
We all laughed at the sight
Seeing Haman’s driving, he teased
Then le Hummer cycled
When you come home, you will crush
Hot Bihniha Bicycle Race
Bicycle magnification
Quit studying while riding a bicycle
Bike rides across the village
Now you are riding a bicycle
Let’s go back to my childhood
Zur mil ke sabo cycled

 

 

 

जिंदगी jindagee

बन्द लिफाफे में | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

Related Articles

Back to top button