.

कहानी, जूही की महक भाग -11, लेखक- श्याम कुंवर भारती kahaanee, joohee kee mahak bhaag -11, lekhak- shyaam kunvar bhaaratee

©श्याम कुंवर भारती

परिचय- बोकारो, झारखंड


 

सुधीर अपने साइड पर मजदूरों को कल का काम समझा रहा था। उसने कहा आप सबकी मेहनत रंग लाई सामुदायिक भवन बहुत जल्दी तैयार हो गया। अब कल से इसका रंग- रोगन और बिजली- पानी का काम शुरू करेंगे। अब आप लोग छुट्टी कर लो। तभी विधायक की बेटी जया का फोन आया। सुधीर के फोन उठाते ही उसने चिल्लाते हुए कहा – सुधीर तुम मेरा फोन क्यों नहीं उठाते हो। क्यों उठाऊं तुम्हारा फोन जब मुझे तुमसे कोई बात ही नहीं करनी है। तुम मेरा पीछा छोड़ क्यों नहीं देती। सुधीर ने नाराज होते हुए कहा।

 

कैसे छोड़ दूं तुमको, तुम तो मेरे दिल में बसे हो। जया अब प्यार जताते हुए बोली।

 

देखो मैं तुम्हें आखिरी बार समझा रहा हूं, मुझसे इस तरह की बातें मत करो। प्यार करने के लिए तुम्हारे पास हजारों लड़के हैं मुझ गरीब के पीछे क्यों पड़ी हो। सुधीर ने अनुरोध भरे स्वर में कहा।

 

मुझे तो बस तुम ही पसंद हो मैं तुमसे अभी मिलना चाहती हूं। कहां हो बताओ अभी वहीं आती हूं। जया ने प्यार जताते हुए कहा।

 

मगर मैं तुमसे नहीं मिल सकता, मैं अभी जरूरी काम कर रहा हूं। सुधीर ने इंकार करते हुए कहा। इतना सुनते ही जया भड़क गई। मैं सब समझ रही हूं तुम मुझसे क्यों नहीं मिलना चाहते हो।

 

सुना है जो नई वीडियो आई है उसका नाम जूही है। बड़ी जवान और सुंदर है। उससे तुम्हारी खूब दोस्ती चल रही है। जया ने गुस्से में कहा।

 

तुम जो समझ रही हो ऐसा कुछ नहीं है। तुम पहले अपनी गंदी नजर ठीक करो। मैं जूही मैडम की बहुत इज्जत करता हूं। वे मेरी अन्नदाता हैं। उनके बारे में कुछ भी गलत मत बोलना समझी तुम।

 

सुधीर ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा।

 

बहुत बुरा लग रहा है न सुनकर तुमको। जब तुम दोनों में कुछ नहीं है तो उसने तुम्हें दस लाख रुपए का भवन निर्माण का काम क्यों दिया। तुम्हें काम ही चाहिए था तो मुझसे कहते मैं तुम्हें अपने पापा से कहकर करोड़ों रूपये का काम दिलवा देती। जया ने कहा।

 

अपनी बकवास बंद करो मुझे न तुमसे कोई मदद चाहिए न तुम्हारे विधायक पापा से। सुधीर ने डांटते हुए कहा। अभी तुम मैडम के बारे में नहीं जानती हो। इसलिए बकवास कर रही हो। अब मैं फोन काट रहा हूं। मुझे तुमसे बात करने में कोई रुचि नहीं है।

 

इतना कहकर सुधीर ने जया का फोन काट दिया।

 

लेकिन जया ने फिर फोन लगाया। सुधीर ने फोन उठाते हुए कहा तुमको मेरी बात समझ में नहीं आ रही है। जब मैंने कह दिया कि मुझे तुमसे कोई बात नहीं करनी है तो फिर क्यों मुझे परेशान कर रही हो।

 

जया ने कहा तुम जिस वीडियो के घमंड में कूद रहे हो न बाबू तो सुन लो मेरे पापा के सामने वो कुछ भी नहीं है। आज आई थी मेरे पापा के पास मगर मेरे पापा ने उसका क्लास लेकर उसे वापस भेज दिया। मेरे पापा जल्दी ही उसका ट्रांसफर करा देंगे फिर तुम जपते रहना जूही मैडम के नाम की माला समझे तुम।

 

लौट कर फिर तुम मेरे ही पास आओगे। इसलिए ज्यादा उस जूही के घमंड में उड़ो मत। तुमको मैं प्यार से समझा रही हूं आज के बाद उस जूही के चक्कर में मत रहना। तुमको जो चाहिए मुझसे मांगो, मैं सब दूंगी तुम्हें। नहीं तो। मेरे पापा उसका जो करेंगे वो करेंगे मैं उस जूही को चुहिया बना दूंगी और तुम्हारी टांग तोड़ दूंगी समझे तुम। अब बोलो मुझसे मिल रहे हो या नहीं।

 

जया की बात सुनकर सुधीर चौक गया जूही विधायक से मिलने क्यों गई थी और क्या बात हुई जो विधायक ने उल्टा सीधा कहा। उसे जूही की चिंता होने लगी। उसे पता था गुप्ता कैसा आदमी है।

 

अब साप क्यों सूंघ गया बच्चू बोलो चुप क्यों हो गए। जया ने फोन पर पूछा।

 

सुधीर ने सोचा बाप- बेटी दोनों खतरनाक है। मुझे जया से मिलकर पहले इसे शांत करना होगा। फिर आगे देखेंगे क्या करना है।

 

उसने कहा ठीक है जया मैं तुमसे मिलने को तैयार हूं बोलो कहा आना है।

 

अब आए न लाइन पर जया ने उसका मजाक उड़ाते हुए कहा। तुम सिनेमा हॉल के पास जो लवली काफी हाउस है वहां पहुंचो, मैं तुरंत आती हूं। चिंता मत करो वहां का सारा खर्चा मैं ही करूंगी।

 

जया ने कहा और फोन काट दिया।

 

सुधीर ने फोन कटते ही तुरंत जूही को फोन लगाया। फोन उठाते ही सुधीर ने पूछा आप कहां हैं मैडम।

 

मैं अपने आवास पर हूं क्यों क्या हुआ। मेरी याद आ रही थी क्या? जूही ने हंसते हुए कहा।

 

कैसी लड़की है अभी विधायक के घर से पता नहीं क्या क्या बहसबाजी करके आई है और अभी इसे मजाक सूझ रहा है।

 

वो सब छोड़िए मैडम विधायक जी के यहां क्यों गईं थीं, आपको बताया था न वो सही आदमी नहीं है। सुधीर ने चिंता जताते हुए कहा।

 

क्या बात है मेरे लाल मेरी बड़ी चिंता हो रही है।

 

मैडम मजाक छोड़िए न बताइए कोई जायदा दिक्कत तो नहीं है वरना मैं एमपी साहब से बात करूंगा। उनसे मेरे बहुत अच्छे संबंध हैं। उनके चुनाव में मैं और मेरे दोस्त उनको चुनाव जिताने में खूब मदद करते हैं।

 

उसकी बात सुनकर जूही जोर जोर से हंसने लगी। अरे मेरे लाल कितना चिंता करता है मेरी। कोई बहस बाजी नहीं हुई है तुम चिंता मत करो।

 

एक काम करो अगर तुम्हें ज्यादा चिंता हो रही है तो आओ मेरे पास आज मैं बहुत थक गई हूं अपने हाथ से एक कप चाय बनाकर पिला दो। जूही उस समय अपने बेड पर लेटी हुई थी।

 

माफ करें मैडम मैं अभी आपके पास नहीं आ सकता हूं। सुधीर ने इंकार करते हुए कहा। मुझे किसी से मिलने जाना है।

 

इतना सुनते ही जूही उठ कर बैठ गई। क्या कहा बेटा तुम नहीं आ सकते। तुमको पता है न मुझे इंकार मंजूर नहीं है।

 

माफ करें मैडम अभी तो नहीं लेकिन रात में खाना खाने जरूर आऊंगा और आपके लिए कुछ लेता आऊंगा। बोलिए क्या खाएंगी।

 

मैं तुम्हारी जान खाऊंगी समझे। तुमने कभी इनकार नहीं किया। कहीं तुम अपनी किसी गर्ल फ्रेंड से तो नहीं मिलने जा रहे हो। अगर ऐसा हुआ न मैं आकर दोनों को कच्चा चबा जाऊंगी। जूही ने गुस्सा करते हुए कहा।

 

हे भगवान क्या मुसीबत है कोई कुछ समझने को तैयार नहीं है। सुधीर ने मन ही मन सोचा और कहा मैडम आप नाराज मत हो मैं दो घंटे में आ जाऊंगा।

 

जूही ने गुस्से में फोन काट दिया।

 

शेष अगले भाग -12 में

 

 

 

श्याम कुंवर भारती

Shyam Kunwar Bharti


 

 

Sudhir was explaining yesterday’s work to the workers on his side. He said that all your hard work paid off. The community building was ready very quickly. Now from tomorrow, the work of paint-painting and electricity-water will start. Now you guys take leave. Then a call came from the MLA’s daughter Jaya. As soon as Sudhir picked up the phone, he shouted and said – Sudhir why don’t you pick up my phone. Why should I pick up your phone when I don’t want to talk to you at all? Why don’t you give up on me? Sudhir said angrily.

 

How can I leave you, you are in my heart. Jaya now said expressing love.

 

Look, I am explaining to you for the last time, don’t talk like that to me. You have thousands of boys to love, why are you following me poor? Sudhir said in a requesting voice.

 

I only like you, I want to meet you now. Tell me where are you, I will come there now. Jaya said expressing love.

 

But I can’t meet you, I’m doing urgent work right now. Sudhir refused. On hearing this, Jaya got furious. I understand why you don’t want to meet me.

 

I have heard that the name of the new video that has come is Juhi. Very young and beautiful. You have a great friendship going on with him. Jaya said angrily.

 

What you are understanding is nothing like that. You fix your dirty eyes first. I have a lot of respect for Juhi ma’am. They are my food provider. Do not say anything wrong about them, you understand.

 

Sudhir expressed his displeasure.

 

Feeling very bad for not listening to you. When you both have nothing, then why did he give you the construction work of ten lakh rupees? If you wanted work, I would have told you that I would have told my father to get work worth crores of rupees. Jaya said.

 

Stop your nonsense, I don’t need any help from you or your MLA Papa. Sudhir said scoldingly. You don’t know about ma’am yet. That’s why you’re doing bullshit. Now I am disconnecting the phone. I have no interest in talking to you.

 

Saying this, Sudhir disconnected Jaya’s phone.

 

But Jaya called again. Sudhir picked up the phone and said that you do not understand my point. When I have said that I do not want to talk to you, then why are you bothering me?

 

Jaya said that the video of which you are jumping in arrogance, no babu then listen to my father, it is nothing in front of me. Came to my father today but my father took his class and sent him back. My father will get it transferred soon, then you keep on chanting, you understand the rosary of Juhi madam’s name.

 

You will come back to me again. That’s why don’t fly too much in the pride of that Juhi. I am lovingly explaining to you that from today onwards, don’t be in the trap of that Juhi. Ask me whatever you want, I will give you everything. Or else. Whatever my father will do for him, I will make that Juhi a mouse and break your leg, you understand. Now tell me whether you are meeting me or not.

 

After listening to Jaya, Sudhir went to Chowk why Juhi had gone to meet the MLA and what happened, which the MLA said in reverse. He started worrying about Juhi. He knew what kind of man Gupta was.

 

Now why did you smell the snake, say baby, why did you keep silent? Jaya asked on the phone.

 

Sudhir thought that both father and daughter are dangerous. I have to calm it down first by meeting Jaya. Then we will see what to do next.

 

He said okay Jaya I am ready to meet you, tell me where to come.

 

Now come on the line, Jaya made fun of him and said. You reach the lovely coffee house near the cinema hall, I will come immediately. Don’t worry, I will do all the expenses there.

 

Jaya said and hung up the phone.

 

Sudhir immediately called Juhi as soon as the phone was disconnected. As soon as he picked up the phone, Sudhir asked where are you madam.

 

I am at my residence why what happened. Was I missing? Juhi said with a laugh.

 

I don’t know what kind of girl she is from the MLA’s house, whether she has come after arguing and is now finding it a joke.

 

Leave all that, why did you go to Madam MLA’s place, told you that he is not the right person. Sudhir expressed concern.

 

What’s the matter, my Lal, I am getting worried.

 

Ma’am, don’t give up jokes, tell me if there is any problem or else I will talk to MP sahib. I have a very good relationship with him. In his election, my friends and I help him a lot in winning the election.

 

Hearing this, Juhi started laughing out loud. Oh my Lal, how much does I worry. There is no debate, don’t worry.

 

Do one thing. Juhi was lying on her bed at that time.

 

Sorry ma’am, I can’t come to you right now. Sudhir refused. I want to go see someone.

 

Hearing this, Juhi got up and sat down. What said son you can not come. You know I don’t accept refusal.

 

Excuse me ma’am not now but I will definitely come for dinner at night and get something for you. Tell me what will you eat?

 

I will eat your life, understand. You never denied Somewhere you are not going to meet any of your girl friends. If this doesn’t happen, I will come and chew both raw. Juhi said angrily.

 

Oh God, what is the problem, no one is ready to understand anything. Sudhir thought to himself and said madam, don’t be angry, I will come in two hours.

 

Juhi hung up the phone in anger.

rest in next part-12

 

 

 

पत्नी की पिटाई से गुस्सा नहीं हुआ शांत तो हैवान पति ने हसिए से निकाल दी आंख patnee kee pitaee se gussa nahin hua shaant to haivaan pati ne hasie se nikaal dee aankh

 

Related Articles

Back to top button