.

कहानी, जूही की महक का 10 वां भाग, लेखक- श्याम कुंवर भारती kahaanee, joohee kee mahak ka 10 vaan bhaag, lekhak- shyaam kunvar bhaaratee

©श्याम कुंवर भारती

परिचय- बोकारो, झारखंड


 

 

जूही ने विधायक के घर से बाहर निकलते ही डीडीसी को फोन लगाकर विधायक से मिलने की जानकारी दी।

 

वाह शाबाश जूही, बहुत अच्छा किया। तुम्हारी हिम्मत को दाद देनी पड़ेगी। जूही ऐसे आदमी से तुमने बात कर अपना मैसेज दे दिया। फिर भी मेरी सलाह है उससे सावधान रहना। डीडीसी ने सावधान करते हुए कहा।

 

आप चिंता मत करें, सर मुझे कुछ नहीं होगा। फिर जूही ने आज अपने ऑफिस में हुई मीटिंग के बारे में बताया। डीडीसी ने कहा ऑफिस जाते ही तुम दोनों मीटिंग की रिपोर्ट भेज दो मेरे पास।

 

ठीक है सर।

 

इधर विधायक गुप्ता ने जूही के जाते ही डीसी को फोन कर कहा डीसी साहब ये कैसी वीडियो है जूही। उसकी इतनी हिम्मत की मेरे मामले में दखल अंदाजी करे। आप उसे मेरे बारे में अच्छी तरह बता दें और समझा दें। मैंने जो बीपीएल के सर्वे में अपने लोगों का नाम जुड़वाया है उसमें कोई भी फेर-बदल हुआ तो उसके लिए अच्छा नहीं होगा।

 

डीसी साहब ने उसे समझाते हुए कहा विधायक जी यह जूही के अधिकार क्षेत्र का मामला है अगर उसे किसी योजना में गड़बड़ी होने की आशंका होगी तो वह स्वतंत्र है, उसे रद्द करने या पुनर्निरीक्षण कराने की। इस मामले में मैं उसके काम में हस्तक्षेप नहीं कर सकता।

 

माफ करें। इतना कहकर डीसी ने फोन काटना चाहा तो गुप्ता ने धमकी भरे लहजे में कहा तो ठीक है डीसी साहब फिर आगे जो भी होगा उसमें मुझे दोष न देना। डीसी ने समझाया आवेश में आकर कोई ऐसा काम न करें जिससे आपको भी बाद में अफसोस करना पड़े विधायक जी।

 

फोन काटकर डीसी साहब ने डीडीसी साहब को बुलाया और कहा वर्मा जी अब समय आ गया है विधायक को सबक सिखाने का। आप तुरंत सीपी साहब को बुलाएं, साथ में विधि व्यवस्था से जुड़े सभी अधिकारियों के साथ मीटिंग बुलाएं अभी। विधायक पागल आदमी है वो कभी भी पूरे प्रखंड की विधि व्यवस्था बिगाड़ सकता है और हमारी वीडियो जूही भी खतरे में पड़ सकती है।

 

डीडीसी वर्मा ने जी सर अभी तैयारी करता हूं।

 

करीब आधे घंटे में सभी अधिकारी डीसी साहब के कक्ष में उपस्थित थे।

 

डीसी साहब ने वीडियो जूही के मामले की जानकारी देते हुए कहा आप सबको पता है विधायक गुप्ता के बारे में। उसके खिलाफ कितने हत्या, बलात्कार, अपहरण और हमारे ऑफिसर्स के साथ मारपीट का मामला दर्ज है। प्रखंड से लेकर जिला तक सारे विभाग और अधिकारी उसकी गुंडागर्दी और मनमानी से परेशान हैं।

 

आज उसने जूही को देख लेने के धमकी दिया है। मुझे भी विधि व्यवस्था बिगाड़ने की धमकी दिया है। यह बिल्कुल गंभीर मामला है।

 

अब हम सबको जूही को आगे करके उसको सबक सिखाना होगा, वरना जिला में हम सबको काम करना मुश्किल होगा। गुप्ता हर योजना में हस्तक्षेप कर मनमानी करता है। जबकि बाकी विधायक और नेता नियमानुसार हम सबसे काम करवाते हैं और हमें उनका काम करने में कोई दिक्कत नहीं होती है। मगर गुप्ता ने सबकी नाक में दम कर रखा है।

 

वो कभी भी प्रखंड के अंतर्गत उत्पात कर सकता है। वीडियो जूही को जान का भी खतरा हो सकता है।

 

आप सभी इस मामले में अपनी राय दें, उससे कैसे निपटा जाए।

 

डीडीसी ने कहा सर अभी जूही ने मुझे फोन कर विधायक से और अपने ऑफिस में अपने अधिकारियों के साथ हुई मीटिंग के बारे में बताया। फिर वो आज ही चार बजे एक प्रेस कांफ्रेंस कर आम नागरिकों के बीच योजना के बारे में जागरूकता लाना चाहतीं हैं ताकी सभी योजना के नियम, लाभ और सरकार के दिशा निर्देश को जान सकें।

 

वाह जूही तो एकदम मंजे हुए और अनुभवी अधिकारी की तरह काम काम कर रही है। डीसी ने सुनकर जूही की तारीफ करते हुए कहा।

 

एसपी सिंह ने कहा सर मेरी राय है क्यों न हमलोग कुछ दिनों के लिए जूही वीडियो को प्रखंड की विधि व्यवस्था का प्रभारी भी बना दिया जाए। आप सबकी बातों से लग रहा है वो काफी बहादुर और सूझबूझ वाली ऑफिसर है। इससे हम लोग दूसरे ऑफिसर को जोखिम में डालने से बचेंगे और चूंकि जूही इतना बड़ा खतरा उठाने जा रही है तो उसके पास लॉ इन ऑर्डर का भी अधिकार होना चाहिए, ताकि समय पर वो अपनी सूझबूझ से खुद को भी सुरक्षित रख सके। आम नागरिकों को भी सुरक्षित रखे और विधि व्यवस्था भी बिगड़ने पाए वर्ना हम लोगों को राज्य सरकार को जवाब देते नहीं बनेगा। प्रेस और राजनीतिक दल हम पर सवाल उठायेंगे; वो अलग।

 

डीडीसी ने कहा एसपी साहब बिल्कुल सही सुझाव दे रहे हैं। सर मुझे पूरा विश्वास है जूही हमारी कसौटी पर पूरा खरा उतरेगी। उसके अंडर एक डीएसपी, एक इंस्पेक्टर रैंक का अधिकारी नियुक्त कर दिया जाए। साथ ही इस प्रखंड के अंतर्गत सभी थानों को सतर्क कर दिया जाय। बाकी थानों का कंट्रोल खुद एसपी साहब करेंगे। मगर जूही के ब्लॉक ऑफिस के अंदर आने वाले पुलिस थाने को वो खुद नियंत्रित करेगी।

 

बाकी हम सभी अधिकारी ढाल बनकर उसकी निगरानी करेंगे। क्योंकि विधायक कितना ताकतवर है इसका सबको अंदाजा है। इससे भिड़ना किसी जंग से कम भी नहीं है। इसके पास गुंडों की पूरी फौज है।

 

ठीक है वर्मा जी मैं अभी इससे संबंधित पत्र निर्गत करता हूं। गृह विभाग राज्य सरकार को भी भेजता हूं। जिले के सीआईडी को सतर्क करें वो गुप्ता की निगरानी कर एसपी साहब को रिपोर्ट करता रहे।

 

ध्यान रहे कोई भी अधिकारी जरा भी न डरे न घबड़ाए। सभी आज से एक जंग के लिए तैयार रहें और जितना हो सके जूही को सहयोग करना है। सरकार की योजनाएं हर हाल में जरूरमंदों तक जानी चाहिए और इसमें जो भी बाधा पहुंचाएगा उसे बक्सा नहीं जायेगा।

 

डीडीसी वर्मा ने कहा सर एक काम और करना होगा। जूही की सुरक्षा हेतु उसके आवास, ऑफिस और उसके लिए पुलिस सुरक्षा देने होगी।

 

डीसी ने एसपी साहब से कहा सिन्हा साहब ऑफिस के लिए फिलहाल दस, आवास के लिए चार और निजी सुरक्षा हेतु दो रायफल सहित पुलिस के जवान नियुक्त करें। मैं इस विषय में एक पत्र निर्गत करता हूं।

 

अभी जितना निर्णय लिया गया है उसपर आज ही से करवाई शुरू कर दें सभी। उसके बाद बैठक खत्म हो गई।

 

ठीक चार बजे जूही ने अपने ऑफिस में सभी प्रेस प्रतिनिधियों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू कर दिया।

 

उसने कहा मैं सरकार की एक मामूली सी अधिकारी हूं। मगर सरकार की गरीबों के लिए लगभग कल्याण कारी योजनाएं का सफल निष्पादन और जरूरतमंदों तक पहुंचाना मेरी जिम्मेवारी है। अगर इस कार्य में कोई भी बाधा पहुंचाएगा उससे कानूनी तरीके से निपटा जाएगा।

 

मैंने जबसे वीडियो के रूप में अपनी कुर्सी संभाली है कभी चैन से बैठ नहीं पाई हूं। लगातार क्षेत्र में जा जा कर योजनाओं को जमीनी स्तर तक पहुंचाने में लगी हुई हूं और इसमें काफी सफलता भी मिली है मुझे। दूर दराज के गरीब ग्रामीण काफी राहत महसूस कर रहे हैं।

 

लेकिन सरकार की सबसे महत्वपूर्ण योजना बीपीएल की सूची में भरी गड़बड़ी हुई है। इस सूची में जिन गरीबों को शामिल करना था उन्हें छोड़कर साधन संपन्न अमीर लोगों को जोड़वा दिया गया है जो सरासर सरकार के नियमों के खिलाफ है। जबकि इसी योजना से कई योजनाएं जुड़ी हुई है। अगर कोई गरीब इस सूची से छूट गया तो बाकी योजनाओं का लाभ उसे नहीं मिल पाएगा।

 

मगर यह काम तो आपके ही पदाधिकारी और कर्मचारी करते हैं फिर गड़बड़ी कैसे हुई एक पत्रकार ने पूछा।

 

बिल्कुल सही पूछा आपने। जूही ने जवाब देते हुए कहा सर्वे का कार्य मेरे ही ऑफिस के लोगों ने किया मगर विधायक जी के लोगों ने उनको डरा धमका कर जबरदस्ती करवाया।

 

जैसे ही मुझे सूची में गड़बड़ी की जानकारी मिली मैंने उसे रद्द कर फिर से सर्वे करवाने का निर्णय लिया। मैं चाहती थी की माननीय विधायक जी को विश्वास में लेकर पुनः सर्वे करवाया जाए। इसलिए आज मैं खुद उनके आवास पर बातचीत करने गई थी मगर वो मानने को तैयार नहीं है। वे इसे अपनी प्रतिष्ठा का सवाल समझ रहे हैं।

 

वे अभी भी अपनी जिद पर अड़े हुए हैं। सूची रद्द होने पर देख लेने की धमकी दे रहे हैं। मैंने उनको फिर से विचार करने का अनुरोध किया है। अब देखते हैं वे क्या निर्णय लेते हैं।

 

तबतक मैं चाहती हूं आप सभी गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले लोगों के सर्वे के बारे में अपने प्रेस में छापें और मेरी तरफ से अनुरोध करें कि सभी लोग सर्वे में सहयोग करें। साथ ही सरकार की नियमावली भी छापे ताकि आम लोग जागरूक हो सकें और इस योजना का पूरा लाभ उठा सकें। आप सबको सरकार की नियमावली की कॉपी अभी दे दी जायेगी।

 

जूही ने अपनी बात खत्म कर के बड़े बाबू को सभी प्रेस प्रतिनिधियों को कॉपी उपलब्ध कराने का आदेश देकर अपनी कुर्सी से उठते हुए बड़े बाबू से कहा आप सबको चाय- नाश्ता भी करवा देंगे। अभी मैं अपने निवास पर जा रहीं हूं आप मुझसे वहीं आकर मिल लें।

 

 

 

श्याम कुंवर भारती

Shyam Kunwar Bharti


 

 

Story, 10th part of Juhi Ki Mehak, authorShyam Kunwar Bharti

 

 

As soon as Juhi came out of the MLA’s house, he called the DDC and informed about meeting the MLA.

 

Wow well done Juhi, very well done. Your courage has to be admired. Juhi, you have given your message by talking to such a person. Still, my advice is to be careful with it. The DDC cautioned.

 

Don’t worry sir, nothing will happen to me. Then Juhi told about the meeting held in her office today. DDC said that as soon as you go to the office, send the report of both the meetings to me.

 

Ok sir.

 

Here MLA Gupta called the DC as soon as Juhi left and said DC sir, what kind of video is this Juhi. He has the courage to interfere in my matter. You tell him well about me and explain. If I have got the names of my people included in the BPL survey, if there is any change in it, then it will not be good for him.

 

The DC sahib while explaining to him said that MLA ji, this is a matter of jurisdiction of Juhi, if he suspects that there is a disturbance in any plan, then he is free to cancel it or get it reviewed. In this matter I cannot interfere with his work.

 

Excuse me. After saying this, DC wanted to disconnect the phone, Gupta said in a threatening tone, then it is okay DC sir, then whatever happens next, do not blame me. DC explained that do not do any such work in a fit of passion, which you will also have to regret later, MLA.

 

After disconnecting the phone, DC sahib called DDC sahib and said Verma ji now time has come to teach a lesson to MLA. You immediately call the CP sahib, together with all the officers related to law and order, call a meeting now. The MLA is a mad man, he can spoil the law and order of the entire block at any time and our video Juhi can also be in danger.

 

DDC Verma Sir, I am preparing now.

 

In about half an hour, all the officers were present in the DC Sahab’s room.

 

Giving information about the case of video Juhi, DC Sahab said that you all know about MLA Gupta. How many cases of murder, rape, kidnapping and assault on our officers are registered against him. All the departments and officers from block to district are troubled by his hooliganism and arbitrariness.

 

Today he has threatened to see Juhi. I have also been threatened with disturbing law and order. This is an absolutely serious matter.

 

Now all of us will have to teach Juhi a lesson by leading her, otherwise it will be difficult for all of us to work in the district. Gupta interferes in every plan and acts arbitrarily. Whereas the rest of the MLAs and leaders get most of the work done according to the rules and we do not face any problem in doing their work. But Gupta has kept everyone’s nose stuck.

 

He can riot under the block at any time. The video may also threaten Juhi’s life.

 

You all give your opinion in this matter, how to deal with it.

 

DDC said Sir, Juhi just called me and told about the meeting held with the MLA and his officers in his office. Then she wants to bring awareness about the scheme among the common citizens by holding a press conference at four o’clock today so that everyone can know the rules, benefits and guidelines of the government.

 

Wow Juhi is working like a very seasoned and experienced officer. Hearing this, DC praised Juhi and said.

 

SP Singh said that Sir my opinion is why we should not make Juhi Video in charge of the law and order of the block for a few days. It seems from all of you that he is a very brave and intelligent officer. With this, we will avoid putting other officers at risk and since Juhi is going to take such a big risk, she should also have the right of law in order, so that in time she can protect herself with her understanding. Keep the common citizens safe and the law and order should also deteriorate, otherwise we will not be able to answer the state government. The press and political parties will question us; That’s different.

 

DDC said that SP sahib is giving absolutely right suggestions. Sir, I am sure that Juhi will fully meet our test. A DSP, an Inspector rank officer should be appointed under him. Also, all the police stations under this block should be alerted. The rest of the police stations will be controlled by the SP Sahib himself. But she herself will control the police station inside Juhi’s block office.

 

All the rest of us officers will be monitoring him as a shield. Because everyone knows how powerful the MLA is. Fighting it is nothing less than a battle. It has a whole army of goons.

 

Ok Verma ji, I just issue a letter related to this. I also send the Home Department to the State Government. Alert the CID of the district, he kept on monitoring Gupta and reporting to the SP.

 

Keep in mind that no officer should be scared or panic at all. Everyone should be ready for a battle from today and Juhi has to cooperate as much as possible. The schemes of the government should go to the needy in any case and anyone who hinders it will not be boxed.

 

DDC Verma said Sir one more work has to be done. For Juhi’s safety, her residence, office and police protection will have to be provided for her.

 

DC asked the SP Sahib to appoint police personnel including ten for Sinha Sahib’s office, four for residence and two rifles for personal security. I issue a letter in this regard.

 

All the decisions that have been taken now should be started from today itself. After that the meeting was over.

 

At exactly four o’clock, Juhi started the press conference with all the press representatives in her office.

 

He said that I am a modest government official. But it is my responsibility to successfully execute the welfare schemes of the government for the poor and reach the needy. If anyone obstructs this work, he will be dealt with legally.

 

Ever since I took my chair in the form of a video, I have never been able to sit peacefully. I am constantly engaged in going to the field and taking the schemes to the ground level and I have got a lot of success in this. The far flung poor villagers are feeling a lot of relief.

 

But the list of BPL, the most important scheme of the government, has gone wrong. Leaving the poor who were to be included in this list, the resourceful rich people have been added, which is completely against the rules of the government. While many schemes are associated with this scheme. If a poor is left out of this list, then he will not be able to get the benefit of other schemes.

 

But this work is done by your own officials and employees, then a journalist asked how the disturbance happened.

 

You asked absolutely right. Juhi replied and said that the survey work was done by the people of my own office, but the people of MLA ji got them forced by intimidation.

 

As soon as I came to know about the error in the list, I decided to cancel it and get the survey done again. I wanted that the survey should be conducted again by taking the honorable MLA ji into confidence. That’s why today I myself went to talk to his residence but he is not ready to accept it. They are treating it as a question of their reputation.

 

They still stick to their insistence. Threatening to see if the list is canceled. I have requested them to reconsider. Now let’s see what they decide.

 

Till then, I want all of you to publish in your press about the survey of people living below the poverty line and request on my behalf that everyone should cooperate in the survey. Along with this, the rules of the government should also be printed so that the common people can become aware and take full advantage of this scheme. A copy of the government’s manual will be given to all of you now.

 

Juhi finished her talk and ordered Bade Babu to provide copies to all the press representatives and said to Bade Babu, getting up from his chair, you will get everyone tea and snacks done. Now I am going to my residence, you come and meet me there.

 

 

बिलकिस बानो केस में रिहा आरोपियों के खिलाफ बिलासपुर में प्रदर्शन, कैंडल मार्च bilakis baano kes mein riha aaropiyon ke khilaaph bilaasapur mein pradarshan, kaindal maarch

Related Articles

Back to top button