.

Writer – Story of Shyam Kunwar Bharti – Read the 12th part of Juhi’s fragrance lekhak- shyaam kunvar bhaaratee kee kahaanee- joohee kee mahak ka padhen 12 vaan bhaag

©Shyam Kunwar Bharti

Introduction- Bokaro, Jharkhand


 

 

After disconnecting the phone, Juhi became restless, she got down from her bed and started walking here and there. Then he called Sudhir’s mother. Sudhir’s sister Gudiya picked up the phone ji madam. Gudiya greets Juhi. Be happy Juhi blesses her and asks where is Auntie. Madam she is doing sandhya puja. Okay. You do one thing, call your brother and ask where he is now. Juhi said quickly.

 

Okay ma’am, I just ask. Then Gudiya called Sudhir and asked where are you now. Sudhir told him the address of Lovely Coffee House. Gudiya immediately disconnected the phone after hearing it and called Juhi and told her.

 

Well, he’s in quite the house. Juhi said Gudiya, you and your little brother get ready quickly, today we will all have coffee together. Alright ma’am. Gudiya went to the house of worship and told her mother the conversation she had with Juhi. It’s okay, both of you get ready, when Juhi comes, then both of you should go together.

 

When Sudhir reached the coffee house, Jaya was already waiting for him. On seeing Sudhir, Jaya greeted him with a smile. Come say my hero, what people Jaya asked while sitting on the chair in front of her.

 

Nothing I’ll drink just a cup of coffee to keep your heart. Jaya ordered two copies.

 

Sudhir asked, I will not be with you for long, tell me quickly why did you want to meet me. Sudhir asked Jaya.

 

What is too soon, my hero, sit comfortably, drink coffee, then let’s talk. Jaya held Sudhir’s hand and said smiling.

 

You don’t talk in vain, I have not come here to show your love, just to tell that I do not love Juhi madam, I respect her. He is a capable honest and dutiful officer. I want you to respect them too and never even think of insulting or harming them. I don’t love you either so it’s better you don’t waste your time following me. Sudhir said clearly.

 

Don’t be so angry I promise I will not harm Juhi madam, I swear to you but can’t say anything about my father. Jaya replied.

 

Thank you Jaya Sudhir said but after today don’t bother me again because one, my feeling about you is not the same as you think. Secondly, I do not want to buy enmity with your father.

 

Tell me what’s wrong with me. Am I not handsome and young, Jaya asked.

 

I am not saying that I have to make my future now, I do not have time for love love. Sudhir explained it to him.

 

Juhi called Bade Babu and said – You should send the report of my three meetings today to the district headquarters by e-mail to DDC sir. I am going to market.

 

The meeting was going on at the MLA’s residence. MLA Gupta said that if the survey list is canceled then my politics will end. My influence from block and district will end. My customers will be separated from me. So I will not let the list happen at any cost. Tell all of you what we can do now.

 

A leader said that if the video is not agreed, then it should be bought with money first. Then threaten.

 

Then a leader said that Juhi is a very honest and tough video. She does not take a single rupee from anyone and is not afraid of anyone. Therefore he cannot be persuaded by the greed of money.

 

The third said that the MLA should transfer Juhi. We will celebrate the new video.

 

Gupta said I will try but there must be some reason for it. There is no allegation against him. DC also seems to be supporting Juhi. That’s why he raised his hand.

 

Then we will stage a sit-in to get the list approved without cancellation and to transfer the video Juhi. If even this is not resolved, then we will force the administration to demand our demand by doing a roundabout of the entire block. A leader gave advice.

 

Gupta said that this will not work. There has to be so much ruckus by breaking and beating all around that the entire administration should be shaken. If needed, bombs and bullets will also have to be fired. If the video of Juhi comes to the fore, then everyone should kill her with stones there. Shot-bombs should also be fired so that there is a stampede everywhere. Only then the administration will get an idea of ​​my strength. Everyone should jam every square and intersection. The leads of the vehicles have to be broken. If necessary, set them on fire. Then these people will bow down.

 

For this, whatever money is spent and as much man as it takes, everything has to be done.

 

Ok MLA let’s start by persuading Juhi first. If he does not agree, then he ends it so that there is no need to create so much ruckus, said a fat and black leader.

 

Jaya said that I can change for you, I can leave all my bad habits but I cannot leave you.

 

You have to leave Sudhir also Jaya…! Then Juhi reached the house in that coffee house with Sudhir’s brother and sister and while answering Jaya’s talk, sitting on an empty chair near their table, said and asked Sudhir’s siblings also in the chair next to him. Seated.

 

Sudhir was shocked to see Juhi come suddenly. He did not expect Juhi to come suddenly like this.

 

He stood up, madam, you are here all of a sudden.

 

Why can’t I come here Can’t we have tea, will you stop me, Juhi told me.

 

Oh no madam you are video who can stop you. I was just asking like this, then he introduced Juhi to Jaya and said, Jaya this is Juhi madam. New video here.

 

Jaya watched intently. Juhi was really a very beautiful girl. He thought maybe that’s why Sudhir is not giving him any emotion. But Sudhir is already like this, it does not give any feeling to not only me but also to any other girl. Always cares about his work. Maybe Juhi is in love with Sudhir. Or be it an illusion. Let nothing like this happen.

 

What are you thinking Jaya? Don’t stress too much mind and listen to me. If you want Sudhir’s well being, stay away from it. You know your father. They will never accept your relationship. Nothing will happen to you. But its future will be ruined. Juhi said to Jaya.

 

And if possible, explain to your father that politics has to be done, not only by force and commotion, but it can also be done with peace and valor.

 

From today you can consider me as your friend.

 

Now leave things, let’s all eat and drink something. But the payment will be done by Sudhir. Juhi said and asked for ice cream for both her siblings and enough for the rest.

 

Jaya was also very impressed with Juhi. He shook hands with Juhi and said that your friendship is acceptable to us.

 

Sudhir heaved a sigh of relief. While going home, Juhi said softly in Sudhir’s ear, I am not going to leave your life, baby.

 

 

Sudhir kept looking at her in surprise.

 

The rest in the next part-13.

 

Writer – Shyam Kunwar Bharti

 

 

श्याम कुंवर भारती

©श्याम कुंवर भारती

परिचय- बोकारो, झारखंड


 

फोन काटने के बाद जूही बेचैन हो गई वो अपने बेड से उतरकर इधर उधर चहलकदमी करने लगी। फिर उसने सुधीर की मां को फोन लगाया। फोन सुधीर की बहन गुड़िया ने उठाया जी मैडम प्रणाम। गुड़िया ने जूही का अभिवादन किया। खुश रहो जूही ने उसे आशीर्वाद देते हुए पूछा आंटी कहा हैं। मैडम वो संध्या पूजा कर रही है। ठीक है। तुम एक काम करो अपने भैया को फोन करके पूछो कि अभी वो कहां है। जूही ने जल्दी से कहा।

 

ठीक है मैडम मैं अभी पूछती हूं। फिर गुड़िया ने सुधीर को फोन कर पूछा भईया अभी आप कहां हैं। सुधीर ने उसको लवली काफी हाउस का पता बता दिया। गुड़िया ने सुनकर तुरंत फोन काट दिया और जूही को फोन कर बता दिया।

 

अच्छा तो वो काफी हाउस में है। जूही ने कहा गुड़िया तुम और तुम्हारा छोटा भाई जल्दी से तैयार हो जाओ आज हम सब साथ में कॉफी पियेंगे। ठीक है मैडम। गुड़िया ने पूजा घर में जाकर अपनी मां को जूही के साथ हुई बातचीत बता दिया। ठीक हैं तुम दोनों तैयार हो जाओ जब जूही आ जाए तो तुम दोनों साथ में चले जाना।

 

काफी हाउस में जब सुधीर पहुंचा वहां जया पहले से ही उसका इंतजार कर रही थी। सुधीर को देखते ही जया ने मुस्कुरा कर उसका स्वागत किया। आओ मेरे हीरो बोलो क्या लोगो जया ने उसे अपनी सामने वाली कुर्सी पर बैठाते हुए पूछा।

 

कुछ नहीं तुम्हारा दिल रखने के लिए केवल एक कप कॉफी पी लुंगा। जया ने दो कॉपी का ऑर्डर कर दिया।

 

सुधीर ने पूछा मैं ज्यादा देर तुम्हारे साथ नहीं रहूंगा जल्दी बोलो तुम मुझसे क्यों मिलना चाहती थी। सुधीर ने जया से पूछा।

 

इतनी भी जल्दी क्या है मेरे हीरो आराम से बैठो कॉफी पीते हैं फिर बात करते हैं। जया ने सुधीर का हाथ पकड़कर मुस्कुराते हुए कहा।

 

तुम बेकार की बात मत करो मैं यहां तुम्हें प्यार जताने नहीं आया हूं सिर्फ यह बताने आया हूं कि मैं जूही मैडम से प्यार नहीं उनका सम्मान करता हूं। वो एक काबिल ईमानदार और कर्तव्य निष्ठ ऑफिसर हैं। मैं चाहता हूं कि तुम भी उनका सम्मान करो और उनका अपमान करने या नुकसान पहुंचाने के बारे में कभी सोचना भी मत। मैं तुमसे भी प्यार नहीं करता हूं इसलिए अच्छा होगा तुम मेरे पीछे अपना समय बरबाद मत करो। सुधीर ने साफ शब्दों में कहा।

 

इतना नाराज मत हो मैं वादा करती हूं जूही मैडम को मैं कोई नुकसान नहीं पहुंचाऊंगी, तुम्हारी कसम मगर अपने पापा के बारे में कुछ नहीं कह सकती। जया ने जवाब दिया।

 

थैंक यू जया सुधीर ने कहा लेकिन आज के बाद मुझे फिर दुबारा तंग मत करना क्योंकि एक तो मेरा भाव तुम्हारे बारे में वैसा नहीं है जैसा तुम सोचती है। दूसरा की मुझे तुम्हारे पापा से दुश्मनी मोल नहीं लेनी है।

 

मुझमें क्या खराबी है बोलो। क्या मैं सुंदर और जवान नहीं हूं जया ने पूछा।

 

मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं मुझे अभी अपना भविष्य बनाना है मेरे पास प्यार मोहब्बत के लिए समय नहीं है। सुधीर ने उसे समझाते हुए कहा।

 

जूही ने बड़े बाबू को फोन कर कहा – आप आज मेरी तीनों मीटिंग की रिपोर्ट जिला मुख्यालय ई-मेल से भेजवा दें डीडीसी साहब को। मैं बाजार जा रही हूं।

 

विधायक के आवास पर बैठक चल रही थी। विधायक गुप्ता ने कहा अगर सर्वे सूची रद्द हो गई तो मेरी राजनीति खत्म हो जायेगी। ब्लॉक और जिला से मेरा प्रभाव खत्म हो जाएगा। मेरे भोटर मुझसे अलग हो जायेंगे। इसलिए किसी भी कीमत पर सूची नहीं होने दूंगा मैं। आप सभी बताए अब हम क्या कर सकते हैं।

 

एक नेता ने कहा वीडियो अगर नहीं राजी होती है तो उसे पहले पैसे से खरीदा जाए। इसके बाद धमकी दिया जाए।

 

तभी एक नेता ने कहा सुना है जूही बहुत ईमानदार और कड़क वीडियो है। वो किसी से एक रुपया घूस नहीं लेती है और न किसी से डरती है। इसलिए उसे पैसे के लालच से राजी नहीं किया जा सकता।

 

तीसरे ने कहा विधायक जी जूही का ट्रान्सफर करा दे। नया वीडियो को हम लोग मना लेंगे।

 

गुप्ता ने कहा मैं कोशिश करूंगा मगर उसका कोई कारण तो होना चाहिए। उसके खिलाफ कोई आरोप भी नहीं है। डीसी भी लगता है जूही को सपोर्ट कर रहा है। इसलिए उसने हाथ खड़ा कर दिया है।

 

तब हम लोग सूची को बिना रद्द किए स्वीकृत कराने और वीडियो जूही का ट्रान्सफर कराने के लिए धरना प्रदर्शन करेंगे। इससे भी हल नहीं निकला तो हम लोग पूरे प्रखंड का चक्काजाम कर प्रशासन को हमारी मांग मांगने पर मजबूर कर देंगे। किसी नेता ने सलाह दिया।

 

गुप्ता ने कहा इतने से काम नहीं चलेगा। चारों तरफ तोड़ फोड़ मारपीट कर इतना हंगामा करना है कि पूरा प्रशासन हिल जाए। जरूरत पड़े तो बम- गोली भी चलाना होगा। अगर वीडियो जूही सामने आ जाए तो उसे वहीं पत्थरों से मार डालना सब। गोली- बम भी चला देना सब ताकि हर तरफ भगदड़ मच जाए। तभी प्रशासन को मेरी ताकत का अंदाजा लगेगा। हर चौक चौराहे को जाम कर देना सब। गाड़ियों के सीसे तोड़ देना है। जरूरत पड़े तो उनमें आग भी लगा देना। तभी ये लोग झुकेंगे।

 

इसके लिए जितना पैसा खर्च हो और जितना आदमी लगे सब करना है।

 

ठीक है विधायक जी पहले जूही को मनाने से शुरू करते है। नहीं माने तो उसको ही खत्म कर देते है ताकी इतना हो हंगामा करने की जरूरत ही न पड़े एक मोटे और काले से नेता ने कहा।

 

जया ने कहा तुम्हारे लिए मैं बदल भी सकती हूं अपनी सारी बुरी आदतें छोड़ सकती हूं लेकिन तुमको नहीं छोड़ सकती हूं।

 

तुमको सुधीर को भी छोड़ना पड़ेगा जया… ! तभी जूही सुधीर के भाई और बहन को लेकर उस काफी हाउस में हाउस में पहुंच गई और जया की बात का जवाब देते हुए उनकी टेबल के पास रखी खाली कुर्सी पर बैठते हुए कहा और सुधीर के भाई- बहन को भी अपने अगल बगल की कुर्सी में बैठा दिया।

 

जूही को अचानक आया देखकर सुधीर चौक गया। उसे जूही के इस तरह से अचानक आने की कतई उम्मीद नहीं थी।

 

वह उठकर खड़ा हो गया मैडम आप यहां अचानक।

 

क्यों क्या मैं यहां नहीं आ सकती क्या हम लोग चाय नहीं पी सकते तुम रोकोगे क्या मुझे जूही ने कहा।

 

अरे नहीं मैडम आप वीडियो हैं आपको कौन रोक सकता है। मैं तो बस ऐसे ही पूछ रहा था फिर उसने जया से जूही का परिचय कराते हुए कहा जया यही हैं जूही मैडम। यहां की नई वीडियो।

 

जया ने बड़े गौर से देखा। जूही सच मच बहुत ही सुंदर लड़की थी। उसने सोचा शायद इसलिए सुधीर उसको भाव नहीं दे रहा है। लेकिन सुधीर तो पहले से ही ऐसा ही है ये तो मुझे ही नहीं किसी और लड़की को भी भाव नहीं देता है। हमेशा अपने काम से मतलब रखता है। हो सकता है जूही ही सुधीर से प्यार कर बैठी हो। या उसका भ्रम हो। ऐसा कुछ भी न हो।

 

क्या सोच रही हो जया। ज्यादा दिमाग पर जोर मत दो और मेरी बात सुनो। तुम अगर सुधीर की भलाई चाहती हो तो इससे दूर रहो। तुम अपने पापा को जानती हो। वे तुम दोनों का रिश्ता कभी नहीं स्वीकार करेंगे। तुम्हारा तो कुछ नहीं होगा। मगर इसका भविष्य खराब हो जायेगा। जूही ने जया से कहा।

 

और हो सके तो तुम अपने पापा को समझाओ राजनीति करनी है केवल जोर जबरजस्ती और हो हंगामा से नहीं शांति और सराफत से भी की जा सकती है।

 

आज से तुम मुझे अपना दोस्त समझ सकती हो।

 

अब बातें छोड़ो चलो सब लोग कुछ खाते पीते हैं। लेकिन पेमेंट सुधीर करेगा। जूही ने कहा और उसके दोनों भाई बहन के लिए आइसक्रीम और बाकी के लिए काफी मांगा लिया।

 

जया भी जूही से काफी प्रभावित हुई। उसने जूही से हाथ मिलाते हुए कहा आपकी दोस्ती मंजूर है हमें।

 

सुधीर ने राहत की सांस लिया। घर जाते समय जूही ने धीरे से सुधीर के कान में कहा मैं तुम्हारी जान छोड़ने वाली नहीं हूं बच्चू।

 

सुधीर हैरत से उसे देखता रह गया।

शेष अगले भाग -13 में।

 

लेखक- श्याम कुंवर भारती

 

 

something different kuchh alag kuchh khaas

 

Related Articles

Back to top button