.

अब दिन-रात फहराया जा सकता है राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा ab din-raat phaharaaya ja sakata hai raashtreey dhvaj tiranga

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | देश की झंडा संहिता में केंद्र सरकार ने बदलाव किया है, जिसके तहत अब भारत का राष्ट्र ध्वज तिरंगा दिन और रात दोनों समय फहराये जाने की अनुमति रहेगी। ‘आजादी का अमृत महोत्वस’ के तहत सरकार 13 से 15 अगस्त तक ‘हर घर तिरंगा’ कार्यक्रम की शुरुआत करने जा रही है, जिसके मद्देनजर यह कदम सामने आया है। साथ ही अब पॉलिएस्टर और मशीन से बने राष्ट्रीय ध्वज का भी उपयोग किया जा सकता है।

 

सभी केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों के सचिवों को लिखे एक पत्र में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रदर्शन, फहराना और उपयोग भारतीय झंडा संहिता, 2002 और राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम, 1971 के तहत आता है।

 

पत्र के मुताबिक, भारतीय झंडा संहिता, 2002 में 20 जुलाई, 2022 के एक आदेश के जरिए संशोधन किया गया है और अब भारतीय झंडा संहिता, 2002 के भाग-दो के पैरा 2.2 के खंड (11) को अब इस तरह पढ़ा जाएगा, ‘जहां झंडा खुले में प्रदर्शित किया जाता है या किसी नागरिक के घर पर प्रदर्शित किया जाता है, इसे दिन-रात फहराया जा सकता है।’

 

इससे पहले, तिरंगे को केवल सूर्योदय से सूर्यास्त तक फहराने की अनुमति थी। इसी तरह, झंडा संहिता के एक अन्य प्रावधान में बदलाव करते हुए कहा गया, ‘राष्ट्रीय ध्वज हाथ से काता और हाथ से बुना हुआ या मशीन से बना होगा। यह कपास-पॉलिएस्टर-ऊन रेशमी खादी से बना होगा।’ इससे पहले, मशीन से बने और पॉलिएस्टर से बने राष्ट्रीय ध्वज के उपयोग की अनुमति नहीं थी।

 

 

Now the national flag can be flown day and night, the tricolor

 

 

New Delhi | [National Bulletin] | The central government has made changes in the flag code of the country, under which the national flag of India will now be allowed to be flown by the tricolor both day and night. Under the ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’, the government is going to launch the ‘Har Ghar Tiranga’ program from August 13 to 15, in view of which this step has come to the fore. Also now polyester and machine made national flag can also be used.

 

In a letter to the secretaries of all central ministries and departments, Union Home Secretary Ajay Bhalla said the display, hoisting and use of the Indian National Flag comes under the Flag Code of India, 2002 and the Prevention of Insults to National Pride Act, 1971.

 

According to the letter, the Flag Code of India, 2002 has been amended vide an Order dated 20th July, 2022 and now clause (11) of Para 2.2 of Part II of the Flag Code of India, 2002 shall now read as, ‘ Where the flag is displayed in the open or is displayed at the residence of a citizen, it can be flown day and night.’

 

Earlier, the tricolor was allowed to be hoisted only from sunrise to sunset. Similarly, another provision of the Flag Code was amended to say, ‘The national flag shall be hand spun and hand woven or machine made. It will be made of cotton-polyester-wool silk khadi. Earlier, the use of machine-made and polyester-made national flags was not permitted.

 

 

 

भीम आर्मी के प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन दिल्ली में छत्तीसगढ़ अध्यक्ष राजकुमार जांगड़े सम्मानित bheem aarmee ke pratham raashtreey adhiveshan dillee mein chhatteesagadh adhyaksh raajakumaar jaangade sammaanit

 

 

Related Articles

Back to top button