.

‘हर किसी की समस्या नहीं कर सकते ठीक’, ब्रिटेन के आर्थिक संकट पर भारतीय मूल के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने खड़े किए हाथ | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

नई दिल्ली| [नेशनल बुलेटिन] | ब्रिटेन के लोग इन दिनों आर्थिक समस्याओं से जूझ रहे हैं। देश ने नए प्रधानमंत्री ऋषि सुनक से जनता को काफी उम्मीद है। ज्यादातर ब्रिटिश इस बात की उम्मीद कर रहे हैं कि पीएम सुनक उनकी आर्थिक दिक्कतों को जल्द ही दूर कर देंगे। हालांकि, भारतीय मूल के प्रधानमंत्री सुनक ने साफ तौर पर कह दिया है कि सरकार हर किसी की समस्या का हल नहीं निकाल सकती है। उनका कहना है कि वह आने वाली आर्थिक कठिनाइयों के प्रति ईमानदार रहकर जनता का विश्वास हासिल करना चाहते हैं।

 

द टाइम्स को दिए इंटरव्यू में सुनक ने कहा, ‘मैं बढ़ते गिरवी भुगतान को लेकर लोगों की चिंता से वाकिफ हूं। इस समस्या से निजात पाने के लिए मैं हर एक कदम उठाने को तैयार हूं। मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि सरकारी हस्तक्षेप की भी सीमा होती है। यह सही है कि हम जिस ट्रेड-ऑफ का सामना कर रहे हैं, उसे लेकर ईमानदार हैं। हर कोई अब उधार लेने की बात करता है। सरकार सब कुछ नहीं कर सकती है।’

 

टैक्स पॉलिसी पर बात करने से सुनक का इनकार

 

ऋषि सुनक से इनकम टैक्स और VAT को लेकर भी सवाल पूछे गए, जिस पर उन्होंने कमेंट करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मैं टैक्स पॉलिसी के बारे में अभी बात नहीं करना चाहता हूं। सुनक से पूछा गया कि क्या उन्होंने पार्टी के नए लीडरशिप चुनाव में बोरिस जॉनसन के साथ संयुक्त टिकट की पेशकश पर विचार किया? इस पर उन्होंने कहा कि मैं इस बारे में बहुत स्पष्ट था कि मेरे पास संसद में सहयोगियों का मजबूत समर्थन है। मुझे लगा कि मैं इस काम के लिए सबसे अच्छा हूं।’

भारतवंशी ऋषि सुनक ने रचा ब्रिटेन में इतिहास, दिवाली पर ब्रिटेन को मिला Indian प्रधानमंत्री | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

भारत और ब्रिटेन के बीच FTA को लेकर बातचीत

 

आर्थिक सुधार को लेकर चल रहे प्रयासों की बात करें तो ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय ने हाल ही में कहा था कि सुनक संतुलित समझौते को लेकर प्रतिबद्ध हैं। साथ ही इस दिशा में भारत और ब्रिटेन के बीच मुक्त व्यापार समझौते (FTA) को लेकर गहन बातचीत चल रही है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय ’10 डाउनिंग स्ट्रीट’ ने कहा कि पूरा ध्यान एक संतुलित व्यापार समझौते पर है जो दोनों पक्षों के लिए लाभदायक हो। इसलिए इसकी कोई समयसीमा नहीं बताई गई है।

 

ये भी पढ़ें :

हिमाचल जाने से पहले डेरा प्रमुख से क्यों मिले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, इस मुलाकात के मायने | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

Related Articles

Back to top button