.

गैर-प्रशिक्षित कर्मियों ने महिला के गर्भाशय में ही काट दिया बच्चे का सिरb gair-prashikshit karmiyon ne mahila ke garbhaashay mein hee kaat diya bachche ka sir

इस्लामाबाद | [इंटरनेशनल बुलेटिन] | स्वास्थ्य केंद्र के गैर-प्रशिक्षित कर्मियों ने गर्भवती महिला का प्रसव कराते समय गर्भाशय में बच्चे का सिर काट दिया। घटना के बाद 32 वर्षीय महिला की हालत बेहद नाजुक हो गई थी। सिंध सरकार ने मामले की जांच करने और दोषियों का पता लगाने के लिए चिकित्सकीय जांच बोर्ड का गठन किया है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत के एक ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र में गंभीर चिकित्सकीय लापरवाही का मामला सामने आया है।

 

जमशोरो स्थित लियाकत यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेज (एलयूएमएचएस) में स्त्रीरोग विभाग के प्रमुख प्रोफेसर राहील सिकंदर ने बताया, ”भील समुदाय की महिला थारपरकर जिले के एक दूरदराज गांव की रहने वाली है। वह पहले अपने इलाके के ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र (आरएचसी) पहुंची, लेकिन वहां कोई महिला स्त्री रोग विशेषज्ञ नहीं थी और केंद्र के गैर-प्रशिक्षित कर्मियों ने प्रसव के दौरान उसे बहुत तकलीफ पहुंचाई।”

 

सिकंदर के मुताबिक, आरएचसी के कर्मियों ने रविवार को सर्जरी की और बच्चे का सिर गर्भाशय में ही काट दिया। इससे महिला की तबीयत काफी खराब हो गई और उसे मीठी में पास के एक अस्पताल ले जाया गया, जहां उसके उपचार की कोई व्यवस्था नहीं थी।

 

सिकंदर ने बताया कि इसके बाद महिला के परिजन उसे लेकर एलयूएमएचएस पहुंचे, जहां बच्चे का शेष शरीर बाहर निकाला गया। दरअसल, बच्चे का सिर अंदर फंसा था और मां का गर्भाशय क्षतिग्रस्त हो गया था, जिसके चलते डॉक्टरों को महिला की जान बचाने और बच्चे का सिर निकालने के लिए उसके पेट की सर्जरी करनी पड़ी।

 

सिंध स्वास्थ्य सेवा के महानिदेशक डॉ. जुमन बहोटो ने जच्चा-बच्चा के जीवन के साथ खिलवाड़ से जुड़ी इस घटना के जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा, “जांच समिति इस बात का पता लगाएगी कि मामले में क्या हुआ था। वह खासतौर पर यह जानने की कोशिश करेगी कि छाचरो स्थित आरएचसी में कोई महिला स्त्री रोग विशेषज्ञ या कर्मचारी क्यों नहीं थी।”

 

बहोटो ने बताया कि जांच समिति उन खबरों पर भी गौर करेगी कि महिला जब स्ट्रेचर पर थी, तब उसके वीडियो बनाए गए। उन्होंने कहा कि कुछ कर्मचारियों ने स्त्री रोग वार्ड में अपने मोबाइल से महिला की तस्वीरें लीं, वीडियो बनाए और उन्हें लोगों के साथ साझा किया।

 

 

Untrained personnel cut off the head of the child in the uterus of the woman

 

 

Islamabad | [International Bulletin] | The untrained personnel of the health center cut off the head of the baby in the uterus while delivering the pregnant woman. After the incident, the condition of the 32-year-old woman had become very critical. The Sindh government has constituted a medical examination board to investigate the matter and trace the culprits. A case of serious medical negligence has come to light at a rural health center in Sindh province of Pakistan.

 

Professor Raheel Sikander, head of the department of gynecology at Liaquat University of Medical and Health Sciences (LUMHS), Jamshoro, said, “The woman from the Bhil community hails from a remote village in Tharparkar district. She first reached the Rural Health Center (RHC) in her locality, but there was no female gynecologist and the untrained personnel of the center caused a lot of pain during the delivery.

 

According to Sikandar, the RHC personnel performed the surgery on Sunday and cut off the baby’s head in the uterus itself. Due to this the woman’s health deteriorated and she was taken to a nearby hospital in Mithi, where there was no arrangement for her treatment.

 

Sikandar told that after this the family members of the woman took her to LUMHS, where the rest of the child’s body was taken out. In fact, the baby’s head was trapped inside and the mother’s uterus was damaged, due to which doctors had to perform abdominal surgery to save the woman’s life and remove the child’s head.

 

Dr. Juman Bahoto, Director General of Sindh Health Services, has ordered an inquiry into this incident related to playing with the lives of the mother and child. He said, “The inquiry committee will find out what happened in the case. She will specifically try to find out why there was no female gynecologist or staff in the RHC at Chhachro.”

 

Bahoto said the inquiry committee would also look into reports that videos of the woman were made while she was on the stretcher. He said that some employees in the gynecology ward took photographs of the woman from their mobiles, made videos and shared them with the people.

 

 

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर विराट अखिल भारतीय कवि सम्मेलन antararaashtreey yog divas kee poorv sandhya par viraat akhil bhaarateey kavi sammelan

 

 

Related Articles

Back to top button