.

कामाख्या मंदिर के देवता को क्या प्रसाद दिया जाता है, महुआ का असम के सीएम से सवाल kaamaakhya mandir ke devata ko kya prasaad diya jaata hai, mahua ka asam ke seeem se savaal

कोलकाता | [पश्चिम बंगाल बुलेटिन] | देवी काली पर टिप्पणी को लेकर विवाद के बीच तृणमूल लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा ने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा से पूछा कि क्या आप लिखित रूप में बता सकते हैं कि कामाख्या मंदिर के पीठासीन देवता को क्या प्रसाद दिया जाता है। मोइत्रा ने कहा, “क्या अन्य बीजेपी शासित राज्यों के सीएम वहां के मंदिरों में मां काली को चढ़ाए जाने वाले प्रसाद के बारे में ऐसा कर सकते हैं? क्या शराब इन मंदिरों में नहीं चढ़ाया जाता है? बीजेपी मुझे नीचे गिराना चाहती है क्योंकि मैं इसके कुकर्मों का जमकर विरोध करती हूं लेकिन मुझे पता है इनकी रणनीति काम नहीं करेगी।”

 

महुआ मोइत्रा ने कहा कि उन्होंने ने इस मामले पर परिपक्व राजनेता की तरह एक्शन लिया है। उनका मानना ​​है कि भाजपा हिंदू देवताओं की संरक्षक नहीं है और न ही पार्टी को बंगालियों को काली देवी की पूजा करना सिखाना चाहिए। उन्होंने कहा, “न तो भगवान राम और न ही भगवान हनुमान केवल भाजपा के हैं। क्या पार्टी ने हिंदू धर्म का पट्टा लिया है?”

 

टीएमसी लीडर ने कहा, “लंबे समय से हम भाजपा के हिंदू धर्म के अपने संस्करण को थोपने से परहेज कर रहे हैं, जो कि उत्तर भारत के स्थापित मानदंडों पर आधारित है। पार्टी को इसे अन्य हिस्सों के लोगों पर थोपने से बचना चाहिए। पश्चिम बंगाल में हिंदू सदियों से अपने सुस्थापित रीति-रिवाजों का पालन करते आ रहे हैं। देवी काली की पूजा कैसे की जाती है? यह हमें सिखाने वाली भाजपा कौन होती है।”

कोरोना से बिगड़े हालात, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुलाई मुख्यमंत्रियों की बैठक, हो सकते हैं अहम फैसले | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

महुआ मोइत्रा की किस बात पर छिड़ा विवाद?

 

दरअसल, महुआ मोइत्रा ने एक टीवी प्रोग्राम में ‘काली’ फिल्म के पोस्टर पर छिड़े विवाद पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि मां काली तो मीट खाने वाली और शराब को स्वीकार करने वाली देवी है। उनके इस बयान को एक वर्ग ने मां काली का अपमान बताया था। इस पर मध्य प्रदेश के सीएम ने कहा कि इसे स्वीकार नहीं किया जाएगा। यही नहीं मध्य प्रदेश में उनके खिलाफ केस भी दर्ज हुए हैं।

 

ममता ने महुआ को दी माफी मांगने की नसीहत

 

वहीं, पार्टी की सांसद को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इशारों में माफी मांगने की नसीहत दी। उन्होंने कहा कि लोग गलतियां करते हैं, लेकिन उन्हें सुधारा भी जा सकता है। उन्होंने महुआ मोइत्रा का नाम लिए बिना ही कहा, “हम जब काम करते हैं तो गलतियां भी करते हैं, लेकिन उन्हें सुधारा जा सकता है। कुछ लोग तमाम अच्छे कामों को नहीं देखते हैं और अचानक चिल्लाना शुरू कर देते हैं। नकारात्मकता हमारे दिमाग के सेल्स को प्रभावित करती है। इसलिए सकारात्मक विचार ही मन में लाएं।”

 

 

What is offered to the deity of Kamakhya temple, Mahua’s question to Assam CM

 

 

Kolkata | [West Bengal Bulletin] | Amid controversy over her remarks on Goddess Kali, Trinamool Lok Sabha MP Mahua Moitra asked Assam Chief Minister Himanta Biswa Sarma if you could explain in writing what is offered to the presiding deity of the Kamakhya temple. Moitra said, “Can the CMs of other BJP-ruled states do the same about the prasad offered to Maa Kali in the temples there? Is liquor not offered in these temples? BJP wants to bring me down because I am against it. I strongly oppose misdeeds but I know their tactics will not work.”

 

अयोध्या में मस्जिद निर्माण पर ग्रहण, दो महिलाओं ने आवंटित जमीन पर किया दावा, याचिका दाखिल | newsforum
READ

Mahua Moitra said that he has taken action on this matter like a mature politician. He believes that the BJP is not the protector of Hindu gods nor should the party teach Bengalis to worship Kali Devi. He said, “Neither Lord Ram nor Lord Hanuman belong to the BJP only. Has the party taken the patta of Hinduism?”

 

The TMC leader said, “For a long time we have been refraining from imposing BJP’s own version of Hinduism, which is based on the established norms of North India. The party should refrain from imposing it on people from other parts of the West. Hindus in Bengal have been following their well-established customs for centuries. How to worship Goddess Kali? Who is the BJP to teach us this.”

 

Controversy arose over what about Mahua Moitra?

 

In fact, Mahua Moitra, while commenting on the controversy that broke out on the poster of the film ‘Kaali’ in a TV program, said that Maa Kali is a goddess who eats meat and accepts alcohol. This statement of his was described by a section as an insult to Maa Kali. On this the CM of Madhya Pradesh said that it will not be accepted. Not only this, cases have also been registered against him in Madhya Pradesh.

 

 Mamta advised Mahua to apologize

 

At the same time, Chief Minister Mamata Banerjee advised the party’s MP to apologize in gestures. He said that people make mistakes, but they can also be corrected. Without naming Mahua Moitra, he said, “We make mistakes when we work, but they can be rectified. Some people don’t see all the good things and suddenly start screaming. Negativity enters our mind.” Affects sales. So bring only positive thoughts in mind.”

वैज्ञानिकों ने चेताया, बड़ी लहर आने की उम्मीद कम पर महामारी अभी खत्म नहीं l Onlinebulletin
READ

 

 

 

मैं चुनूंगा ऐसी सरकार main chunoonga aisee sarakaar

 

 

 

Related Articles

Back to top button