.

कलेक्टर से सीतारमण के बर्ताव पर ‘बवाल’, मंत्री ने कहा- यह तमाशा IAS ऑफिसर्स का मनोबल गिराएगा kalektar se seetaaraman ke bartaav par bavaal, mantree ne kaha- yah tamaasha ias ophisars ka manobal giraega

हैदराबाद [ तेलंगाना बुलेटिन] | केटीआर ने ट्वीट किया, ‘मैं कामरेड्डी के जिला मजिस्ट्रेट/जिलाधीश के साथ वित्त मंत्री सीतारमण के बुरे बर्ताव से स्तब्ध हूं। सड़कों पर यह राजनीतिक तमाशा कठिन परिश्रमी एआईएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) अधिकारियों का केवल मनोबल गिराएगा। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी जितेश वी पाटिल के गरिमापूर्ण व्यवहार पर उन्हें मेरी तरफ से शुभकमानाएं।’

 

सीतारमण ने जिलाधिकारी से क्या पूछा?

 

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है। इसमें वित्त मंत्री जिलाधिकारी से सवाल करती नजर आ रही हैं। जिलाधिकारी उनकी इस बात का जवाब नहीं दे सके कि उचित मूल्य की दुकानों के जरिए सप्लाई किए जाने वाले चावल में केंद्र और राज्य का हिस्सा कितना है। उन्होंने जिलाधिकारी से यह भी पूछा कि बिरकुर में उचित मूल्य की दुकान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर क्यों गायब है?

 

सीतारमण ने जिलाधिकारी से पूछा, ‘जो चावल खुले बाजार में 35 रुपये में बिक रहा है, वह यहां एक रुपये में लोगों को बांटा जा रहा है। इसमें राज्य सरकार का कितना हिस्सा है?’ वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्र साजो-सामान और भंडारण सहित सभी लागत का वहन कर रहा है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) की दुकानों में चावल की आपूर्ति की जा रही है। साथ ही यह जवाब पाने की कोशिश हो रही है कि मुफ्त चावल लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं।

 

तेलंगाना के मंत्री के टी रामराव ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से जिलाधीश को फटकार लगाए जाने पर हैरानी जताई। उन्होंने कहा कि उच्च पदों पर आसीन लोगों का ऐसा बर्ताव अखिल भारतीय सेवा के मेहनती अधिकारियों का मनोबल गिराएगा। दरअसल, सीतारमण ने उनके सवाल का जवाब न दे पाने के कारण जिलाधीश को फटकार लगाई थी।

 

 

 

‘Ruckus’ over Sitharaman’s behavior with Collector, Minister said – this spectacle will demoralize IAS officers

 

 

Hyderabad [Telangana Bulletin] | KTR tweeted, ‘I am shocked by the bad behavior of Finance Minister Sitharaman with the District Magistrate / District Collector of Kamareddy. This political spectacle on the streets will only demoralize the hard-working AIS (Indian Administrative Service) officers. My best wishes to Indian Administrative Service officer Jitesh V Patil on his dignified behavior.

 

 What did Sitharaman ask the District Magistrate?

 

Actually, a video has surfaced on social media. In this, the Finance Minister is seen questioning the District Magistrate. The district magistrate could not answer their question as to what is the share of the Center and the state in the rice supplied through fair price shops. He also asked the District Magistrate why the picture of Prime Minister Narendra Modi was missing at the fair price shop in Birkur.

 

Sitharaman asked the District Magistrate, ‘The rice which is being sold in the open market for Rs 35, is being distributed to the people here for Re. What is the share of the state government in this?’ The Finance Minister said that the Center is bearing all the cost including logistical and storage. Rice is being supplied in Public Distribution System (PDS) shops. At the same time, efforts are being made to get the answer whether the free rice is reaching the people or not.

 

Telangana Minister KT Rama Rao expressed surprise at Union Finance Minister Nirmala Sitharaman’s reprimand to the Collector. He said that such behavior of people holding high posts would demoralize the hardworking officers of All India Services. Actually, Sitharaman had reprimanded the Collector for not being able to answer his question.

 

 

दलित छात्राओं के दाल परोसने पर स्कूल के सवर्ण कुक ने फिंकवाया खाना, गिरफ्तार dalit chhaatraon ke daal parosane par skool ke savarn kuk ne phinkavaaya khaana, giraphtaar

 

 

 

Related Articles

Back to top button