.

कर्ज में डूबे ऑटोरिक्शा ड्राइवर की खुली किस्मत, लगी 25 करोड़ रुपये की लॉटरी | ऑनलाइन बुलेटिन

तिरुवनंतपुरम | [केरल बुलेटिन] | केरल के एक ऑटो ड्राइवर की किस्मत रातों-रात बदल गई। किसी किस्मत कब पलट जाए कोई नहीं जानता। गरीबी से परेशान होकर ड्राइवर ने मलेशिया जाकर शेफ का काम करने का विचार बना लिया था। उसने कर्ज के लिए आवेदन दिया। एक दिन पहले ही उसके कर्ज को मंजूरी मिली और अगले दिन ऐसी खुशखबरी मिली जिसने उसे करोड़पति बना दिया। उसकी 25 करोड़ की ओणम बंपर लॉटरी लग गई।

 

श्रीवाराहम के रहने वाले अनूप ने शनिवार को ही लॉटरी टिकट खरीदा था जिसका नंबर TJ 750605 है। पहले वह जो टिकट खरीद रहा था, उसे वह पसंद नहीं आया। इसके बाद उसने दूसरा टिकट लिया और यही उसके जीवन का टर्निंग पॉइंट बन गया।

 

अनूप ने बताया, बैंक वालों ने कर्ज देने के लिए मुझे बुलाया था लेकिन मैंने इनकार कर दिया। अब मुझे मलेशिया नहीं जाना है। अनूप के मुताबिक वह पिछले 22 साल से लॉटरी टिकट खरीदते थे लेकिन अब तक 5 हजार से ज्यादा नहीं जीत सके थे।

 

उन्होंने बताया, मुझे उम्मीद नहीं थी इसलिए मैं टीवी पर भी रिजल्ड नहीं देख रहा था। बाद में मैंने अपना फोन देखा तो पता लगा कि मैं जीत गया हूं। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था इसलिए मैंने उस महिला से संपर्कि किया जिससे टिकट खरीदा था। उसने भी कन्फर्म किया कि यही जीतने वाला नंबर है। बता दें कि टैक्स कटने के बाद अनूप को लगभग 15 करोड़ रुपये मिलेंगे।

 

अनूप से जब पूछा गया कि इतने पैसे का वह क्या करेंगे तो उन्होंने कहा, पहले तो मुझे अपने परिवार के लिए एक घर बनाना है और फिर कर्ज उतारना है। उन्होंने कहा कि कुछ रिश्तेदारों की मदद करनी है और वह केरल में ही होटल के क्षेत्र में काम करने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने कहा, मैं फिर लॉटरी टिकट खरीदूंगा।

जजों पर विवादित बयान देने वाला PFI नेता अरेस्ट, अब तक 27 गिरफ्तार jajon par vivaadit bayaan dene vaala pfi neta arest, ab tak 27 giraphtaar
READ

 

बता दें कि संयोग ही है कि पिछले साल भी 12 करोड़ रुपये की ओणम बंपर लॉटरी एक रिक्शा ड्राइवर ने ही जीती थी। विनिंग नंबर को वित्त मंत्री केएन बालगोपाल ने एक लकी ड्रॉ कार्यक्रम के दौरान चुना था। दूसरे विजेता को 5 करोड़ रुपये दिए जाएंगे। वहीं 10 इनाम 1-1 करोड़ रुपये के भी हैं।

 

मदरसों को बम से उड़ा देना चाहिए…अलीगढ़ में बोले महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

Related Articles

Back to top button