.

सवर्ण आरक्षण (EWS) के नियमों पर अब होगा घमासान, इनकम और 50 प्रतिशत लिमिट, RJD और समाजवादी पार्टी को दिखा मौका | ऑनलाइन बुलेटिन

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | सामान्य वर्ग के गरीबों को मिलने वाले 10 फीसदी EWS आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों वाली संवैधानिक बेंच ने मुहर लगा दी है, लेकिन यह मसला अभी थमता नहीं दिख रहा है। तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी डीएमके का कहना है कि वह इस फैसले के खिलाफ एक बार फिर से पुनर्विचार याचिका डालेगी।

 

फिलहाल शीर्ष अदालत ने जिन अर्जियों पर फैसला दिया है, उनमें से एक याचिका डीएमके की भी थी। अब तमिलनाडु के सिंचाई मंत्री और डीएमके महासचिव ने कहा है कि पार्टी की ओर से फैसले के खिलाफ अर्जी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि यह फैसला समानता के सिद्धांत के खिलाफ है और इसे वापस लिया जाना चाहिए।

 

यही नहीं इस मसले पर कुछ और कानूनी पेचों पर शीर्ष अदालत का रुख किया जा सकता है। इनमें से एक पहलू EWS कोटे के लिए 8 लाख रुपये की सालाना आय की सीमा का भी है। इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने भी पिछले दिनों इसे अतार्किक करार दिया था।

 

वहीं आरक्षण की 50 फीसदी सीमा को लेकर भी अर्जी डाली जा सकती है कि इस कोटे ने उस लिमिट को खत्म करने की आधारशिला रखी है या नहीं। EWS कोटे को लेकर यह भी कहा जा रहा है कि यदि यह सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए है तो फिर आय की सीमा 8 लाख रुपये ज्यादा है और इसे कम किया जाना चाहिए।

 

सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए आरक्षण को मंजूरी के बहाने अब कुछ राजनीतिक दलों ने जातीय जनगणना की चर्चा फिर से शुरू कर दी है। बिहार की सरकार में शामिल आरजेडी ने कहा कि इस फैसले ने हमारी जातीय जनगणना की मांग को वैधता प्रदान की है। पार्टी ने कहा कि ओबीसी वर्ग को उसकी आबादी के अनुपात में अधिक आरक्षण दिया जाना चाहिए।

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के लिए आसान नहीं होगा पार्टी को बदलना, 50-50 फॉर्मूले में दिग्गज बनेंगे रोड़ा | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

पार्टी नेता मनोज झा ने कहा कि यह बंटा हुआ फैसला है और इसमें पुनर्विचार का स्कोप है। उन्होंने कहा कि इससे इंदिरा साहनी केस में आए उसे फैसले का असर भी खत्म होता है, जिसमें आरक्षण के लिए 50 फीसदी की लिमिट तय की गई थी। अब हमें ओबीसी वर्ग को उनकी आबादी के अनुपात में आरक्षण की ओर बढ़ना चाहिए।

 

झारखंड में 77 फीसदी आरक्षण की सीमा का प्रस्ताव पास

 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने देश में आरक्षण की सीमा बढ़ाए जाने को लेकर बहस तेज की है तो झारखंड सरकार का कहना है कि उसने तो कैबिनेट से पहले ही 77 फीसदी तक के आरक्षण का प्रस्ताव पास किया है।

 

समाजवादी पार्टी ने कहा कि हमने सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए आरक्षण का समर्थन किया था। अब ओबीसी वर्ग की गिनती का काम भी होना चाहिए। बता दें कि बिहार में पहले से ही जातीय जनगणना जारी है। अब आरजेडी की मांग है कि केंद्र सरकार को भी जातीय जनगणना करानी चाहिए।

 

ये भी पढ़ें:

आरक्षण को लेकर 1 व 2 दिसंबर को होगा राज्य विधानसभा का विशेष सत्र, विस अध्यक्ष को भेजा प्रस्ताव | ऑनलाइन बुलेटिन

 

 

Related Articles

Back to top button