.

यूक्रेन को घुटने पर लाने को रूस कर सकता हैं खतरनाक ‘जहर’ का इस्तेमाल, पुतिन के नए प्लान से US भी थर्राया | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

नई दिल्ली | [नेशनल बुलेटिन] | अमेरिकी अधिकारियों ने बात का अंदेशा जताया है कि पुतिन यूक्रेन के खिलाफ घातक हमलों में खतरनाक नोविचोक जहर का सहारा ले सकते हैं। ये वही रासायनीक हथियार है जिसका रूस अतीत में इस्तेमाल कर चुका है। पूर्व जाजूस सर्गेई स्क्रिपल को मारने के लिए इसी जहर का इस्तेमाल किया गया था। कहा जाता है कि रूस ने सर्गेई को उसके सैलिसबरी घर में इस जहर के जरिए मार डाला था।

 

इसके अलावा पुतिन के प्रतिद्वंदी माने जाने वाले एलेक्सी नवलनी पर भी इस रासायनीक हथियार का इस्तेमाल किया था। अमेरिकी अधिकारियों का मानना है कि रूस अभी तक इस नर्व एजेंट नोविचोक का इस्तेमाल कुछ चुनिंदे लोगों पर किया था लेकिन अब वो बड़े पैमाने पर लोगों को नुकसान पहुंचाने के लिए यूक्रेन में इसका इस्तेमाल कर सकता है।

 

यूक्रेन पर रूस की पकड़ धीरे-धीरे कमजोर पड़ रही है। युद्ध शुरू होने के बाद से अभी तक रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की कोई भी रणनीति काम नहीं आई है। यहां तक की रूसी सेना के कब्जे वाले यूक्रेनी शहर खेरसॉन से भी पुतिन को पीछे हटना पड़ा है। ऐसे में अब इस बात की आशंका बढ़ गई है कि रूसी राष्ट्रपति पुतिन यूक्रेन को अपने घुटनों पर लाने के लिए वहां की जनता पर रासायनीक हथियारों के हमलों में खतरनाक नोविचोक जहर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

हमले से पार पाने के लिए तैयारी कर रहे बाइडेन

 

डेली स्टार ने पॉलिटिको रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन अब यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहे हैं कि पूर्वी यूरोपीय देश इस हमले के लिए तैयार रहे। खुफिया सूत्र भी इस बाच से चिंतित हैं कि रूस यूक्रेन को परमाणु हमले या फिर डर्टी बम के इस्तेमाल से आत्मसमपर्ण करने के लिए मजबूर करने का प्रयास कर सकता है जिसमें हजारों लोगों की मौत हो सकती है।

सामंजस्य का प्रतीक : सोनपुर मेला | ऑनलाइन बुलेटिन
READ

 

अमेरिका डिटेक्शन सिस्टम बनाने में जुटा

 

व्हाइट हाउस के विशेषज्ञ भी यूक्रेन में इस्तेमाल करने के लिए अपने संसाधनों को जुटाकर डिटेक्शन सिस्टम बनाकर संभावित भयानक हमले के लिए तैयार हो रहे हैं। यूएस की टॉप अधिकारी अमेरिकी सीनेटरों को भी रूस के संभावित कदम के बारे में जानकारी दी गई है और यह भी बताया गया है कि रासायनीक हमला होने पर उसे कैसे नियंत्रित किया जाए इसकी योजना बना रहा है।

 

पहले की तुलना में रूस ने तेज कर दिया है हमला

 

रूस के रोजाना हमले पहले से तेज होते जा रहे हैं। रूस के पीछे हटने के बाद पहली बार खेरसॉन में पिछले हफ्ते एक ईंधन डिपो पर हमला हुआ था। यूक्रेनी राष्ट्रपति के कार्यालय के अनुसार, इस सप्ताह रूसी गोलाबारी में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई और तीन घायल हो गए।

 

रूस की वापसी से पहले रूसी हवाई हमलों ने प्रमुख बुनियादी ढांचे को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिससे एक भयानक मानवीय संकट पैदा हो गया। रूस के ताजा हमलों की वजह से यूक्रेन की राजधानी कीव के करीब 70 प्रतिशत हिस्सों में बिजली गुल थी।

 

ये भी पढ़ें:

Bharat Jodo Yatra: ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में राहुल गांधी का आदिवासी समुदाय पर इतना फोकस क्यों? यहां समझिए क्या है सियासी गणित | ऑनलाइन बुलेटिन डॉट इन

 

Related Articles

Back to top button